--Advertisement--

क्या है पूरा मामला

क्या है पूरा मामला मुखर्जी नगर निवासी बसंत उपाध्याय ने जनवरी 2015 में सागर रोड पर हरियाणा में रहने वाले नितिन...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 03:05 AM IST
क्या है पूरा मामला

मुखर्जी नगर निवासी बसंत उपाध्याय ने जनवरी 2015 में सागर रोड पर हरियाणा में रहने वाले नितिन बलेचा के साथ मिलकर ओम श्रद्धा शबुरी कामोडिटी चिटफंट कंपनी का कार्यालय खोला था। उसने 20 से 25 प्रतिशत अधिक राशि तीन माह में दिलाने का भरोसा दिलाकर कई लोगों से उनकी राशि को निवेश करवा दी। शहर के सैकड़ों लोग उसके झांसे में आ गए। वह लोगों की जमा पूंजी लेकर फरार हो गया। रिपोर्ट होने के बाद कोतवाली पुलिस ने रायसेन निवासी बसंत उपाध्याय, सिरसा हरियाणा निवासी नितिन बलेचा पुत्र कमल बलेचा और वीरेंद्र सिंह पुत्र दिलीप चौहान सागर के खिलाफ प्रकरण दर्ज कर जांच में लिया। पुलिस ने 5 अक्टूबर 2015 को बसंत उपाध्याय को गिरफ्तार किया था।

पिता के साथ सिरसा जेल में बंद था नितिन बलेचा

हिसार हरियाणा निवासी 33 वर्षीय नितिन बलेचा अपने पिता कमल बलेचा के साथ आठ माह से सिरसा हरियाणा की जेल में धोखाधड़ी के मामले में बंद था। कोतवाली पुलिस ने सिरसा हरियाणा पुलिस के सहयोग से उसे रायसेन कोर्ट में पेश करवाया है। अब पांच दिन का रिमांड लेकर पूछताछ कर रही है। आरोपी ने बताया चिटफंड कंपनियों से निवेश में मिली राशि को नितिन ने सऊदी अरब में अपने शेख मित्र के साथ मिलकर एक होटल खोली थी, लेकिन शेख धोखा देकर उस होटल पर कब्जा कर लिया।