• Hindi News
  • Madhya Pradesh
  • Raisen
  • नई लाइन से जोड़ने बिना बताए काट रहे पुराने नल कनेक्शन, 3 दिन से 1000 घरों में नहीं पहुंचा पानी
--Advertisement--

नई लाइन से जोड़ने बिना बताए काट रहे पुराने नल कनेक्शन, 3 दिन से 1000 घरों में नहीं पहुंचा पानी

जलावर्धन योजना के तहत नई पाइप लाइन आ जाने से शहवासियों को फायदा होगा। इससे एक-अधिक प्रेशर से मिलने लगेगा और लाइन...

Dainik Bhaskar

Feb 02, 2018, 03:50 AM IST
नई लाइन से जोड़ने बिना बताए काट रहे पुराने नल कनेक्शन, 3 दिन से 1000 घरों में नहीं पहुंचा पानी
जलावर्धन योजना के तहत नई पाइप लाइन आ जाने से शहवासियों को फायदा होगा। इससे एक-अधिक प्रेशर से मिलने लगेगा और लाइन लीकेज की समस्या भी कम होगी लेकिन नई लाइन को जोड़ने के कारण लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। शहर के करीब एक हजार घरों में तीन दिनों पानी नहीं पहुंच पा रहा है। बिना जानकारी के नगरपालिका द्वारा पुरानी लाइन को काटकर नई लाइन से कनेक्शन शिफ्ट करने का काम शुरू कर दिया जाता है।

शहर के वार्ड नंबर 14 में इन दिनों नल कनेक्शन शिफ्ट करने का काम चल रहा है। राहुल नगर निवासी ममता जाटव सहित कई लोगों ने बताया कि तीन दिनों से हमारे घरों में नलों से पानी नहीं आया। दूसरे मोहल्लों और टैंकरों की से पानी लेना पड़ रहा है। इससे उनकी परेशानी बड़ी हुई है। लोगों का कहना है कि नगरपालिका द्वारा मोहल्लों का पानी बंद करने के पहले एक बार एनाउंस मेंट तो करा देना चाहिए इससे शहरवासियों को अधिक परेशान नहीं होना पड़ेगा। गौरतलब है कि शहर में करीब 7000 हजार नल कनेक्शन है जिनमें से 2500 हजार घरों में नए नल कनेक्शन जोड़े जा चुके हैं।

लोगों का कहना-अगर एनाउंसमेंट करा दें तो हम पहले से अपनी वैकल्पिक व्यवस्था कर लें

परेशानी

खर्च करना पड़ रहे तीन से चार हजार रुपए

पुराना नल कनेक्शन होने के बाद भी नई लाइन से कनेक्शन के लिए शहरवासियों को तीन से चार हजार रुपए अपनी जेब से खर्च करना पड़ रहे हैं। राहुल नगर में रहने वाली अनीता राठौर, शांति बाई ने बताया कि नई लाइन से कनेक्शन के लिए हमें पाइप सहित दूसरा सामान लाना पड़ा है। इस पर तीन से लेकर चार हजार रुपए तक खर्च करना पड़ रहे हैं।

आधा दर्जन मोहल्लों में टैंकरों से पानी सप्लाई

शहर के कई मोहल्लों में पाइप लाइन का विस्तार नहीं होने से वहां के रहवासियों को पानी के टैंकरों पर निर्भर रहना पड़ रहा है। टैंकरों से पानी की कम सप्लाई होने से लोगों की जरूरतों का पानी खेतों में लगे ट्यूबवेल से भी लाना पड़ रहा है। इनमें एसपी आफिस के पीछे की बस्ती, फिल्टर प्लांट के पास, रेशम केंद्र सहित अन्य मोहल्ले शामिल हैं।

नई लाइन मेें कनेक्शन शिफ्ट करते नगरपालिका कर्मचारी।

नई लाइन से शहरवासियों को होंगे ये दो फायदे

1.अधिक प्रेशर से मिलने लगेगा पानी

हालांकि नई लाइन से कनेक्शन मिल जाने के बाद शहरवासियों को इसका लाभ भी मिलेगा। नई लाइन 5 से 6 इंच डायमीटर की होने से घरों तक पानी प्रेशर से पहुंचेगा। इससे लोगों को अपनी जरूरत के मुताबिक पानी मिल पाएगा। वहीं उन्हें पानी के लिए टैंकरों के भरोसे नहीं रहना पड़ेगा।

2. लाइन लीकेज की कम होगी समस्या

पाइप लाइन 50 साल पुरानी होने से जगह-जगह क्षतिग्रस्त हो गई है। इससे हर कभी लाइन लीकेज की समस्या आने लगती थी। लीकेज का पता लगाकर उसे सुधारने में समय लगता था। तब तक नलों से पानी की सप्लाई नहीं हो पाती थी। साथ ही पाइप लाइन में लीकेज होने से नालियों का पानी भी नलों से घरों तक पहुंचने की समस्या नहीं आएगी।

बकाया जलकर की नपा करने लगी वसूली

नगरपालिका का 5 लाख रुपए से अधिक जलकर रहवासियों पर बकाया चल रहा था। नई लाइन से कनेक्शन दिए जाने के पहले बकाया राशि जमा कराने की शर्त पर नगरपालिका का बकाया जलकर वसूल होने लगा है। यह जलकर पहले वसूल कर पाना नगरपालिका को मुश्किल हो रहा था।

साढ़े चार हजार कनेक्शन शिफ्ट होना बाकी

शहर में बीते एक महीने से नगर पालिका द्वारा नई लाइन से नल कनेक्शन देने का काम चल रहा है। अभी तक ढाई हजार नल कनेक्शन पुरानी लाइन से नई पाइप लाइन में शिफ्ट किए जा चुके हैं। जबकि साढ़े चार हजार नल कनेक्शन अभी नई पाइप लाइन से दिए जाना बांकी हैं।


X
नई लाइन से जोड़ने बिना बताए काट रहे पुराने नल कनेक्शन, 3 दिन से 1000 घरों में नहीं पहुंचा पानी
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..