प्याज बेचने 185 किसानों ने कराया पंजीयन, अब तक सिर्फ एक ने ही बेची, किसान बोले-कम है सरकारी रेट

Bhaskar News Network

Jun 14, 2019, 08:50 AM IST
Raisen News - mp news 185 farmers sell the onion registration only one sold so far the farmer has said the government rate

खेतों में पहुंचकर 10-11 रु. किलो खरीद रहे व्यापारी

भास्कर संवाददाता| रायसेन

इस बार प्याज की सरकारी खरीदी का बहुत ही बुरा हश्र हो रहा है। एक ओर जहां सीहोर सहित दूसरे जिले में प्याज बिक्री के लिए ट्रालियों की लाइनें लग रही हैं तो दूसरी ओर रायसेन में प्याज बेचने के लिए किसान आ ही नहीं रहे हैं। हालत यह है कि खरीदी केंद्र खाली पड़ा हुआ है। प्याज की खरीदी 13 दिन से चल रही है,लेकिन एक ही किसान ने सरकारी खरीदी केंद्र पर अपनी प्याज बेची है, जबकि 185 किसानों ने प्याज बेचने के लिए अपना पंजीयन कराया है। अभी तक पंजीकृत किसानों में से 184 किसान प्याज बेचने सरकारी खरीदी केंद्र पर नहीं आए हैं, जबकि बीते सालों में प्याज बेचने के लिए इतने अधिक किसान आते थे कि प्याज की तुलाई कर पाना मुश्किल हो जाता था। इसके बाद खरीदी गई प्याज का भंडारण भी नहीं हो पाता था। बड़ी मात्रा में तो प्याज सड़ने के बाद फेंकना तक पड़ी थी।

एक जून से शुरू हुई प्याज की खरीदी 30 जून तक चलेगी,खरीदी केंद्र पर नहीं पहुंच रहे किसान

भावांतर योजना से खरीदी जा रही है प्याज, किसान को रसीद देनी होगी

सरकार इस बार सीधे तौर पर प्याज खरीदी नहीं कर रही है। प्याज खरीदी भावांतर योजना के तहत की जा रही है। जिला मुख्यालय पर व्यापारियों को बेचने के बाद उसकी रसीद किसान को देना होगी। यदि प्याज का भाव किसानों को 800 रुपए प्रति क्विंटल से जितना भी कम मिलता है तो उस राशि की भरपाई शासन द्वारा की जाएगी। मान लिया जाय कि किसी किसान की प्याज 5 रुपए प्रति किलो के भाव से व्यापारी खरीदते हैं तो किसानों को 3 रुपए प्रति किलो के हिसाब से शेष राशि का भुगतान शासन द्वारा किसानों को किया जाएगा।

7 जून तक कराया गया पंजीयन

चना और गेहूं की तरह ही प्याज उत्पादक किसानों ने प्याज बेचने के लिए भी सरकारी स्तर पसर अपना पंजीयन कराया है। पहले कम किसान ही प्याज बेचने के लिए अपना पंजीयन करा पाए थे, इसलिए शासन स्तर से पंजीयन की तारीख बढ़ाकर 7 जून कर दी गई थी। तारीख बढ़ने के बाद और भी किसानों ने अपना पंजीयन कराया। प्याज की खरीदी जिले में 1 जून से ही शुरू हो गई है जो 30 जून तक चलेगी। इस बीच किसान योजना के तहत अपनी प्याज बेच सकते हैं।

किसान और व्यापारी के अलग-अलग मत


सांची और गौहरगंज क्षेत्र में प्याज का उत्पादन अधिक

उद्यानिकी विभाग से मिली जानकारी के मुताबिक जिले के सांची और गौहरगंज क्षेत्र में सबसे अधिक प्याज का उत्पादन होता है। किसानों को प्याज का सही रेट जिले में ही मिल सके, इसलिए रायसेन कृषि उपज मंंडी में प्याज के लिए खरीदी केंद्र बनाया गया है, जहां पर किसान अपनी प्याज आसानी से बेच सकें। इसके बाद भी खरीदी केंद्र खाली पड़ा हुआ है।

एक किसान ने ही बेची प्याज


X
Raisen News - mp news 185 farmers sell the onion registration only one sold so far the farmer has said the government rate
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना