8 माह पहले 36 लाख रुपए से मृदा परीक्षण केंद्र बनाकर कृषि विभाग को किया सुपुर्द, अब तक नहीं हो सका चालू

Raisen News - मृदा परीक्षण केंद्र का भवन बनकर तैयार,नहीं हो पा रहा चालू । किसानों को खेतों की मिट्टी का परीक्षण करवाने के लिए...

Bhaskar News Network

May 18, 2019, 08:51 AM IST
Raisen News - mp news 8 months ago made up of 36 lakh rupees soil testing center and given to the agriculture department it could not be done till now
मृदा परीक्षण केंद्र का भवन बनकर तैयार,नहीं हो पा रहा चालू ।

किसानों को खेतों की मिट्टी का परीक्षण करवाने के लिए जाना पड़ता है रायसेन, इससे हो रही परेशानी

भास्कर संवाददाता|सिलवानी

किसानों के खेतों की मिटटी का परीक्षण करने के लिए बनाई गई मृदा परीक्षण केंद्र इन दिनो अफसरों की लापरवाही के चलते धूल खा रहा है। जिसके चलते किसानों को खेत की मिटटी का परीक्षण करवाने जिला मुख्यालय आना पड़ रहा है या फिर बिना मिटटी परीक्षण के ही फसल बो रहे है फिर किसान को लाभ हो या नुकसान।

मंडी बाेर्ड ने मंडी में 36 लाख रुपए की लागत से मृदा परीक्षण केंद्र बनवाया है जो करीब 8 माह पहले बनकर तैयार हो चुका है और यहीं नहीं कृषि विभाग को सुपुर्द भी कर दिया है लेकिन कृषि विभाग के अधिकारियों की लापरवाही व उदासीनता के चलते परीक्षण केंद्र चालू नहीं हो पा रहा है।

कई बार किसान संघ के पदाधिकारियों ने भी किसानों के साथ अधिकारियों को केंद्र चालू करने के लिए आवेदन दिए और मौखिक रूप से भी कहा है बावजूद इसके मृदा परीक्षण केंद्र चालू नहीं हो सका है। किसान रघुवीर सिंह ने बताया कि करीब 20 हजार किसान ऐसे है जो मृदा परीक्षण केंद्र नहीं खुलने के कारण खेतों की मिट्टी का परीक्षण नहीं करवा पा रहे हैं। ऐसे में गलत फसल बोने पर किसानों को नुकसान उठाना पड़ता है।



2 हजार वर्गफीट में बना सर्व सुविधा युक्त भवन का नहीं मिल रहा लाभ

इस भवन को बने हुए करीब 8 माह से भी ज्यादा का समय बीत चुका है। इस भवन में वे सारी सुविधाएं है जो मृदा परीक्षण केंद्र के लिए जरूरी है। जानकारी के अनुसार कृषि उपज मंडी परिसर से लग कर मंडी बोर्ड की कृषि अनुसंधान एवं अधो संरचना विकास निधि से माध्यम से मृदा परीक्षण केंद्र भवन का निर्माण कार्य कराया गया था। जिसे कि कृषि विभाग के सुपुर्द कर दिया गया। निर्माण एजेंसी के द्वारा भवन के अंदर बिजली कनेक्शन, पानी की व्यवस्था सहित अन्य व्यवस्थाएं करने के बाद आठ माह पूर्व कृषि विभाग के सुपुर्द कर दिया गया।

कृषि विभाग को करना है मृदा परीक्षण केंद्र के भवन का संचालन

मृदा परीक्षण केंद्र भवन का संचालन कृषि विभाग के द्वारा किया जाना है। लेकिन आठ माह के लंबे अंतराल के बाद भी कृषि विभाग के अधिकारी परीक्षण केंद्र को प्रारंभ नही कर पाए है। परीक्षण केंद्र प्रांरभ ना होने का खामियाजा किसानों को भुगतना पड़ रहा है। इस केंद्र में किसानों के द्वारा खेतों की मिटटी का परीक्षण कराया जाएगा। ताकि पता चल सके कि मिटटी किस फसल उत्पादन के लिए काम करेगी। लेकिन केंद्र प्रारंभ ना होने से किसान मिटटी का परीक्षण नही करा पा रहे है। प्रदेश के 190 विकास खंडाें नवीन मृदा प्रयोग शालाएं स्थापित की गई है। उनमें सर्वाधिक 56 प्रयोग शाला जबलपुर संभाग के आठ जिलो में प्रारंभ की जाना है। सागर संभाग के पांच जिलाें में 32 प्रयोग शालाओें का निर्माण कार्य कराया गया है। जबकि इंदौर संभाग को मात्र एक प्रयोग शाला की सौगात दिया जाना बताया जा रहा है।

अधिकारी बोले- केंद्र कब तक होगा चालू पता नहीं


हमारा काम बनाना था


जल्द हो केंद्र चालू


X
Raisen News - mp news 8 months ago made up of 36 lakh rupees soil testing center and given to the agriculture department it could not be done till now
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना