• Hindi News
  • Mp
  • Raisen
  • Begumganj News mp news medicines are available at medical stores without prescription operators ignoring the rules of government

मेडिकल स्टोर्स पर बिना डॉक्टर के पर्चे से ही मिल रहीं दवाएं, शासन के नियमों की अनदेखी कर रहे संचालक

Raisen News - लाइसेंस किराए पर देकर अनुभव हीन लोग बेच रहे दवाएं, क्षेत्र के लोगों के स्वास्थ्य के साथ खुलेआम हो रहा खिलवाड़ ...

Oct 07, 2019, 06:36 AM IST
लाइसेंस किराए पर देकर अनुभव हीन लोग बेच रहे दवाएं, क्षेत्र के लोगों के स्वास्थ्य के साथ खुलेआम हो रहा खिलवाड़

भास्कर संवाददाता|बेगमगंज

इन दिनों नगर के कई मेडिकल स्टोर्स अनुभव हीन लोग चल रहे हैं। यही वजह है कि यह लोग उपभोक्ता के मांगने पर वह दवाएं भी दे देतें है जिन पर शासन ने बिना डॉक्टर के पर्चे पर देने से मना किया है, लेकिन उपभोक्ताओं के कहने भर मात्र से यह मेडिकल संचालक दवाएं दे देते हैं जिसे दवा खाने वाले व्यक्ति को तो नुकसान हो ही रहा है। साथ ही मेडिकल संचालक भी खुलेआम शासन के नियमों की धज्जियां उड़ाने से परेहज नहीं कर रहे है।

स्वास्थ्य विभाग द्वारा भले ही कितनी कोशिश की जाए कि लोगों को सही मात्रा में दवाइयां उपलब्ध हो सके। वह भी ऐसी दवाइयां जो मरीजों को लाभ पहुंचा सके। लेकिन नगर के कई मेडिकल स्टोर पर बिना डॉक्टर के पर्चे की ऐसी दवाइयां दे दी जाती हैं, जो मरीजों को ज्यादा डोज मिलने पर नुकसान पहुंचा सकती है। जबकि शासन द्वारा मरीजों व उनके परिजनों को ऐसी दवाइयां बिना डॉक्टर की सलाह के देना प्रतिबंधित किया गया है। जो दवाइयां मरीजों को नुकसान पहुंचा सकती है या जिन दवाइयों में नशा होता है वह दवाइयां बेच रहे है। बावजूद इसके प्रशासनिक अफसर और स्वास्थ्य महकमे के आला अधिकारी कार्रवाई करने से परहेज कर रहे हैं। कुछ दवाइयां ऐसी भी है जो मरीज को काफी नुकसान पहुंचा सकती है। उसके बाद भी वह मरीज ऐसी दवाइयों को आसानी से बिना डॉक्टर के लिखे प्राप्त कर लेते है।

कुछ लोग नशे के रूप में कर रहे दवाओं का प्रयोग : कुछ दवाइयां ऐसी है जो खांसी को ठीक करने के लिए दी जाती है, लेकिन कुछ लोग उसको नशे के रूप में उपयोग कर रहे है जो उनके स्वास्थ्य के लिए नुकसान दायक हो जाती है। इसी तरह की अन्य दवाइयों में आईजी पाम, डीआईजी पाम, एस 10 मि ग्रा आदि इनके अलावा अन्य ऐसी दवाइयां, जो बगैर डॉक्टर की सलाह लिए मेडिकल स्टोर से आसानी से उपलब्ध हो जाती हैं। इनमें कुछ इंजेक्शन भी है जो मरीज को नींद न आने पर या अधिक दर्द होने पर दिया जाता है। उसका उपयोग भी नशा करने वाले लोगों द्वारा किया जाता है, लेकिन उपयोग करने वाले नहीं जानते कि यह उनके स्वास्थ्य के लिए घातक है। ऐसी दवाएं व इंजेक्शन बिना डॉक्टर के पर्चे पर मरीज को देना मेडिकल स्टोर पर प्रतिबंधित है। उसके बावजूद ऐसी दवाइयां मेडिकल स्टोर के अलावा जनरल स्टोर, किराना स्टोर पर भी आसानी से मिल जाती है।

प्रशासनिक अफसर कार्रवाई करने से कर रहे हैं परहेज

व्यस्कों की दवा बच्चों ने खाई तो बिगड़ी तबीयत

बच्चे के पेट में दर्द होने पर हदाईपुर निवासी हफीज खां मेडिकल से जो दवा लाए उससे उनके बेटे सद्दाम खां की तबियत और बिगड़ गई उसका पेट फूल गया जब डॉक्टर को दिखाया तब पता चला कि जो दवा मेडिकल संचालक ने दो साल के बच्चे को दी थी वह दवा वयस्कों के लिए दी जाती है। उन्होंने ड्रॉप्स की जगह सीरप दे दी थी। बच्चे को सागर ले जाकर भर्ती करना पड़ा तब बच्चे की जान बची। गंभीरिया निवासी महेन्द्र सिंह को मेडिकल संचालक ने कभी कभार बिकने वाली ब्रूफेन एमआर गोली दे दी जो कमर दर्द के काम आती है। तत्काल दर्द ठीक होने पर अशरफ जब भी दर्द होता वह ब्रूफेन एमआर ले आते उसका अधिक सेवन करने से उनकी किडनी पर असर पड़ा और उन्हें भोपाल में जाकर भर्ती होना पड़ा।

शिकायत करें तो करेंगे कार्रवाई


निगरानी कर करेंगे कार्रवाई

इस तरह की कोई शिकायत बेगमगंज में निरीक्षण के दौरान नहीं मिली है, फिर भी इस पर नजर रखेगें कि इस तरह दवाएं बिना डाक्टर के पर्चे के तो नहीं दी जा रही है। यदि सही पाया गया तो कार्रवाई की जाएगी। केएल अग्रवाल, ड्रग इंस्पेक्टर

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना