विक्षिप्तों की तादाद बढ़ी दो की हो चुकी है मौत

Raisen News - बेगमगंज | नगरीय क्षेत्र में इन दिनों बाहर से आने वाले मानसिक रूप से विक्षिप्त पुरूष व महिलाओं की तादाद बढ़ती जा रही...

Oct 13, 2019, 06:40 AM IST
बेगमगंज | नगरीय क्षेत्र में इन दिनों बाहर से आने वाले मानसिक रूप से विक्षिप्त पुरूष व महिलाओं की तादाद बढ़ती जा रही है। कई ने लंबे समय से शहर में अपना डेरा जमा रखा है। हालांकि उनमें से कई चुपचाप अपने ठिए पर बैठे रहते है,तो कुछ यहां वहां घूमते है और फितरती लोग भी उनके साथ छेड़खानी कर परेशान करते है जिससे वह पत्थर आदि उठाकर मारते है,जिससे कई लोग घायल हो चुके है। श्मशान भूमि अथवा सागर रोड पर डेरा जमाने वाले ऐसे दो लोग पूर्व में अकाल मौत की आगोश में जा चुके है। ऐसे लोगो की जानकारी नहीं मिलने के कारण पुलिस मर्ग कायम कर पीएम उपरांत उन्हें दफनवा देती है। कुछ मानसिक विक्षिप्त तो नगरीय क्षेत्र के निवासी है जिन्हें बांधकर रखना या सुरक्षित रखना परिजनों के बस की नहीं है यदि थोड़ा सा प्रयास किया जाए तो वे उपचार से सही हो सकते है। लेकिन कोई भी सामाजिक संस्था इसमें प्रयास नहीं कर रही है। जबकि शासन ने नियम बनाया है कि इस तरह के मानसिक विक्षिप्तों की विधिवत कार्रवाई उपरांत उपचार के लिए भिजवाया जाए लेकिन कोई अधिकारी आगे नहीं आना चाहता क्योंकि कोई सामाजिक संस्था इसको ले जाने की जवाबदारी भी नहीं उठा रही है। इसलिए ऐसे मानसिक विक्षिप्त उपचार के अभाव में दम तोड़ रहे है। नगर के लोगों ने कलेक्टर उमाशंकर भार्गव से ऐसे मानसिक विक्षिप्तों को उपचार हेतु ग्वालियर या सेवा आश्रम उज्जैन भिजवाने की मांग की है ताकि वे उपचार पाकर स्वस्थ्य हो सकें। मांग करने वालों में हाजी चांद मियां, शिवराज सिंह ठाकुर, आईएस बुंदेला, चांदमल साहू, मूरत सिंह ठाकुर, रमेश प्रसाद पाराशर, सुनील शर्मा, राकेश श्रीवास, ओमप्रकाश राठौर, गंभीर सिंह, राजेश इन्दोरी, शीतल खरे, मंशाराम पंथी, विद्यानंद शर्मा, महेश नेमा, पंकज जैन आदि शामिल है।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना