--Advertisement--

एनएच के हाल: 3.5 किमी सड़क में 188 गड्‌ढे असर: डेढ़ साल में 30% बढ़े अस्थमा के मरीज

Raisen News - शहर के अंदर से गुजरने वाले एनएच-146 पर इतने गड्ढे हैं कि भोपाल रोड स्थित श्मशान घाट से लेकर सागर तिराहा होते हुए...

Dainik Bhaskar

Dec 09, 2018, 04:26 AM IST
Raisen News - nh halls 188 pit affected in 35 km of road 30 increase in one year and half of asthma patients
शहर के अंदर से गुजरने वाले एनएच-146 पर इतने गड्ढे हैं कि भोपाल रोड स्थित श्मशान घाट से लेकर सागर तिराहा होते हुए कलेक्टोरेट तक 188 गड्ढे हैं। जबकि इतनी दूरी में छोटे-छोटे गड्ढों की गिनती ही नहीं की गई। इतने गड्ढों के बीच शहर के बीच से गुजरी मुख्य सड़क पर साढ़े तीन किमी की दूरी तय करने में शहरवासियों की हालत खराब हो जाती है। इन गड्ढों के कारण उड़ने वाली धूल भी लोगों को बीमारियों का कारण बनी हुई है। इसके चलते सड़क के गड्ढे और उनसे उड़ने वाली धूल के कारण शहर के 40 हजार लोगों के लिए परेशानी का कारण बनी हुई है।

जानकारी के मुताबिक बीते चार सालों से शहर की सड़क का खस्ता हाल है। लेकिन जिम्मेदारों को आमजन की परेशानियों से कोई सरोकार ही नहीं है। इसके चलते इस सड़क को सुधारने के लिए कोई काम ही नहीं किया जा रहा है। शहरवासी सालों से परेशान हैं।

भोपाल रोड से सांची रोड तक के सफर में वाहन चालकों की हालत हो जाती है खराब

30% बढ़े अस्थमा के मरीज

जिला अस्पताल में पदस्थ मेडिकल ऑफिसर डॉ. यशपाल बाल्यान के मुताबिक शहर की खराब सड़कों से उड़ने वाली धूल के कारण श्वास संबंधी मरीजों की संख्या बढ़ रही है। डेढ़ साल में मरीज की संख्या 30 प्रतिशत तक बढ़ी है।

28 किमी लंबे स्टेट हाईवे में भी अधिक गड्‌ढे

गैरतगंज से सिलवानी होते हुए उदयपुरा तक जाने वाले 28 किमी लंबे स्टेट हाईवे में बहुत अधिक गड्ढे हैं। इस सड़क से यात्रा करने वाले लोगों को भी खासी समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। जानकारी के मुताबिक चुनाव के पहले इस सड़क पर पेंचवर्क का काम भी किया गया। लेकिन उसमें भी काफी लापरवाही की गई। इसके चलते गड्ढे ठीक से भरे ही नहीं गए।

सांची रोड पर गड्ढाें से उड़ रही धूल से लोग परेशान।

शहरवासियों को करना पड़ रहे ये उपाय

सुरक्षित रहें बच्चे इसलिए कार से छोड़ने जाते हैं

शहर के तिपट्‌टा बाजार में रहने वाले जोहिल अहमद के परिवार में चार बच्चों को वे अपनी कार से स्कूल छोड़ने के लिए जाते हैं। जोहिल का कहना है की पहले वे दो पहिया वाहन से बच्चों को स्कूल छोड़ने जाते थे। सड़क के गड्ढों और उड़ती धूल के कारण बच्चों के स्वास्थ्य बिगड़ने लगा था। जब डॉक्टर से बच्चों की जांच कराई तो बताया गया कि इन्हें धूल से बचाना जरूरी है। तब से जोहिल ने बच्चों को कार से स्कूल लाना और ले जाना शुरू कर दिया।

अंचल में भी सड़कें खराब, हाेती है परेशानी

सलामपुर-त्रिमूर्ति तिराहे से लेकर सांची की ओर जाने वाली एक किमी की सड़क करीब एक साल से खराब है। इसके चलते सागर और भोपाल के बीच यात्रा करने वाले लोगों को गड्ढों वाली सड़क के कारण ट्रैफिक में परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। इसी तरह से सलामतपुर में रेलवे ओवर ब्रिज से लेकर राजीव नगर तक की एक किमी लंबी सड़क करीब 18 सालों से खराब पड़ी हुई है। जबकि रहवासी कई बार खराब सड़क की बात जनप्रतिनिधियों के सामने भी रख चुके हैं। लेकिन इन्हें सुधरवाया ही नहीं गया।

मास्क लगाकर बैठते हैं दुकानदार

शहर की सड़कों के गड्ढों से उड़ने वाली धूल के कारण आम लोगों सहित दुकानदारों को भी बहुत अधिक परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। वे अपनी दुकान पर 8 से लेकर 10 घंटे तक रोज बैठते हैं। स्वास्थ्य न बिगड़े इसके लिए शहर में कई दुकानदार मास्क लगाकर दुकान पर बैठना पड़ रहा है।


X
Raisen News - nh halls 188 pit affected in 35 km of road 30 increase in one year and half of asthma patients
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..