--Advertisement--

सचिव के कहने पर सिलवानी मंडी में फर्जी सर्वेयर कर रहा था खरीदी

Raisen News - समर्थन मूल्य पर की जा रही उड़द, मूंग की खरीदी में फर्जी सर्वेयर बनकर खरीदी करने का मामला उजागर हुआ है। यह मामला...

Dainik Bhaskar

Dec 09, 2018, 05:00 AM IST
Silwani News - on the say of the secretary the fake surveyor was selling in the silwani mandi
समर्थन मूल्य पर की जा रही उड़द, मूंग की खरीदी में फर्जी सर्वेयर बनकर खरीदी करने का मामला उजागर हुआ है। यह मामला सामने आने के बाद कलेक्टर ने एसडीएम विनरत तिवारी के नेतृत्व मे 6 सदस्यीय जांच दल गठित किया है। यह जांच दल 10 बिंदुओं पर अपनी जांच कर कलेक्टर को प्रतिवेदन सौंपेगा। अच्छे माल को भी बेकार बताने और घटिया माल की खरीदी करवाने को लेकर तीन दिन पहले किसानों ने हंगामा किया था और एसडीएम को ज्ञापन देकर सर्वेयर की शिकायत की थी।

शिकायत की जांच हुई तो जो सर्वेयर के नाम पर काम कर रहा था, वह मंडी में नियुक्त होना ही नहीं पाया गया। फर्जी तरीके से सर्वेयर का कार्य कर रहे राजेश सेन की संलिप्तता सामने आने पर अधिकारियों के द्वारा सख्त कार्रवाई करते हुए पंचनामा आदि बनाया गया। फर्जी सर्वेयर का मामला पुलिस थाने तक पहुंच गया। इस मामले में पुलिस ने फर्जी सर्वेयर राजेश सेन के खिलाफ आपराधिक प्रकरण दर्ज कर लिया।

कलेक्टर ने दिए जांच के आदेश: समर्थन मूल्य पर खरीदी में फर्जीवाड़ा होने का मामला सामने आने के बाद कलेक्टर प्रिया मिश्रा ने एक जांच दल गठित कर दिया है। सिलवानी एसडीएम विनीत तिवारी के नेतृत्व में जांच दल गठित किया गया।

प्रदीप मेहरा के रूप में हुई थी सर्वेयर की नियुक्ति: समर्थन मूल्य पर उड़द मूंग की खरीदी कर रही सेवा सहकारी संस्था चीचोली के प्रबंधक बल्देव सिंह ने बताया कि द्वारा समर्थन मूल्य पर उड़द व मूंग की खरीदी 12 नवंबर से की जा रही है। सर्वेयर के रुप में प्रदीप मेहरा की नियुक्ति की गई थी, लेकिन कृषि उपज मंडी समिति सिलवानी के सचिव विलियम जार्ज के द्वारा राजेश सेन नाम के व्यक्ति को खरीदी कार्य में संलिप्त कर दिया गया। मंडी सचिव ने कहा था कि उपज का सैंपल राजेश सेन के द्वारा पास किया जाएगा। वही उपज ही क्रय की जाएगी। राजेश सेन के द्वारा नान एफएक्यू माल पास किया गया। समिति प्रबंधक ने मंडी सचिव व राजेश सेन की मिलीभगत होने की आशंका है।

जांच के बाद होगा खुलासा: कलेक्टर के द्वारा बनाए गए जांच दल के द्वारा संपूर्ण प्रकरण की जांच पश्चात प्रतिवेदन कलेक्टर को दिए जाने के बाद ही मामले का खुलासा हो पाएगा कि आखिर क्यों व किस लिए राजेश सेन से सर्वेयर का कार्य कराया जा रहा था। जबकि राजेश सेन की नियुक्ति सर्वेयर के रुप में नहीं की गई। हालांकि इंदौर निवासी राजेश सेन का कहना है कि मंडी सचिव विलियम जार्ज के द्वारा ही उसे बुलाया गया था और उससे समर्थन मूल्य पर खरीदी के लिए सर्वेयर के रूप में पदस्थ किया था।

जल्द ही पूरी होगी जांच


X
Silwani News - on the say of the secretary the fake surveyor was selling in the silwani mandi
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..