Hindi News »Madhya Pradesh »Rajgarh» मंडी मेें बिकने आया 45 क्विंटल सरकारी गेहूं और 2 क्विंटल आंगनबाड़ी का दलिया जब्त

मंडी मेें बिकने आया 45 क्विंटल सरकारी गेहूं और 2 क्विंटल आंगनबाड़ी का दलिया जब्त

मंगलवार शाम राजगढ़ उप मंडी में बिकने आया सार्वजनिक वितरण प्रणाली (पीडीएस) का 45 क्विंटल सरकारी गेहूं जब्त किया गया...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 04, 2018, 04:55 AM IST

मंगलवार शाम राजगढ़ उप मंडी में बिकने आया सार्वजनिक वितरण प्रणाली (पीडीएस) का 45 क्विंटल सरकारी गेहूं जब्त किया गया है। इस गेहूं को दीनदयाल योजना की मंगल भवन स्थित रसोई से दो लोडिंग वाहनों में भर कर मंडी लाया गया था। अपने बयान में वाहन चालकों ने बताया कि यह गेहूं भारतीय जनता पार्टी, प्रदेश कार्यक्रम एवं क्रियान्वयन समिति प्रभारी हेमंत जोशी ने बेचने के लिए मंडी भेजा था।

मंगलवार शाम करीब-करीब साढ़े चार बजे कुछ लोगों ने मंगल भवन परिसर में स्थित नगर पालिका की दीनदयाल रसोई के गोदाम से सरकारी गेहूं के बोरे वाहन में लोड होते हुए देखे। कुछ लोगों ने इसका वीडियो भी बनाया। इसके बाद जब यह वाहन मंडी में गेहूं बेचने के लिए पहुंचा तो एसडीएम को सूचना दी गई। मौके पर पहुंची एसडीएम ममता खेड़े और नायब तहसीलदार प्रदीप भार्गव ने खाद्य आपूर्ति विभाग के अमला सहित वाहन की जांच की। पूछताछ करने पर पता चला कि एक नहीं बल्कि दो वाहनों से सरकारी गेहूं बेचने के लिए लाया गया है। इसके बाद अमला ने सरकारी गेहूं जब्त कर, वाहन चालकों के बयान लिए। इस बारे में कार्रवाई के लिए कलेक्टर को प्रतिवेदन दिया गया। इनमें से एक वाहन में आंगनबाड़ी का करीब 2 क्विंटल 4किलो दलिया भी जब्त किया गया है। वाहन चालकों ने बताया कि उनके वाहन महिला एवं बाल विकास विभाग का पोषण आहार सप्लाई करते हैं।

दीनदयाल रसोई योजना के गोदाम में रखा एक रुपए किलो का गेहूं दो लोडिंग वाहन से मंडी ले जाया गया था बेचने

सूचना मिलने पर उपमंडी पहुंची एसडीएम ने अनाज किया जब्त, जांच जारी

राजगढ़ उपमंडी में एसडीएम, खाद्य इंसपेक्टर व नायब तहसीलदार गेहूं के बारे मेंे पूछताछ करते हुए। -भास्कर

एक से 53 बोरी जबकि दूसरे से 37 बोरी गेहूं जब्त किया गया

नायब तहसीलदार श्री भार्गव ने बताया कि सरकारी गेहूं को लाने वाले दोनों वाहन नंबर क्रमश : एमपी 09 जीएफ 1253 और एमपी 39 जी 2564 से 37 व 53 बोरे जब्त किए गए। इनमें कुल 45 क्विंटल गेहूं था। गेहूं की कीमत करीब एक लाख रुपए आंकी गई है। वहीं एक वाहन में आंगनबाड़ी में सप्लाई होने वाला दलिया भी लोड था। इसका वजन 2 क्विंटल 4 किलो निकला।

पहले भी कई बार जब्त हुआ है सरकारी गेहूं, नहीं होती कार्रवाई

समर्थन मूल्य पर होने वाली खरीदी में गड़बड़ी और पीडीएस का सस्ता गेहूं बचने का यह मामला नया नहीं है। इससे पहले भी पचोर, सुस्तानी, मलावर, उदनखेड़ी व राजगढ़ आदि जगहों से सरकारी व व्यापारियों का गेहूं तौलते हुए या भंडारित किया मिल चुका है। लेकिन इन मामलों में प्रकरण दर्ज होने के बावजूद संबंधित आरोपियों से वसूली नहीं की गई।

सूचना मिलने की कार्रवाई

हमें लोडिंग वाहन में मंगल भवन से मंडी में बेचने के लिए सरकारी गेहूं ले जाने की सूचना मिली थी। कार्रवाई के दौरान दो वाहनों से सरकारी वारदाने में रखा गेहूं व आंगनवाड़ी का पोषण आहार मिला है। वाहनों व गेहूं को जब्त कर प्रकरण बनाकर कार्रवाई के लिए कलेक्टर को भेज रहे हैं। - ममता खेड़े, एसडीएम राजगढ़

ऐसे चला दूसरे वाहन का पता

असल में जब मंडी में पहुंचा सरकारी अमला वाहन नंबर एमपी 39 2564 को जब्त कर रहा था। इसी दौरान पूछताछ में वाहन चालक ने दूसरे लोडिंग वाहन की जानकारी दी। जिसे उसने बड़लावदा गांव से भर कर लाने की बात बताई। दोनों वाहनों से जब्त गेहूं व दलिया की तौल की प्रक्रिया देर तक चलती रही।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Rajgarh

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×