• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Rajgarh
  • खानपुरा पंचायत में पीएम आवास व रोजगार गारंटी योजना में अपात्रों को पहुंचाया लाभ
--Advertisement--

खानपुरा पंचायत में पीएम आवास व रोजगार गारंटी योजना में अपात्रों को पहुंचाया लाभ

भास्कर संवाददाता| नरसिंहगढ़ ग्राम पंचायत खानपुरा के निवासियों ने सरपंच पर शासकीय योजनाओं में गड़बड़ी करने और...

Danik Bhaskar | Mar 14, 2018, 05:15 AM IST
भास्कर संवाददाता| नरसिंहगढ़

ग्राम पंचायत खानपुरा के निवासियों ने सरपंच पर शासकीय योजनाओं में गड़बड़ी करने और गलत तरीके से राशि निकालने का आरोप लगाया है। ग्रामीणों ने मंगलवार को एसडीएम कार्यालय में आवेदन देकर सभी मामलों की जांच करने की मांग भी की है। ग्रामीणों का आरोप है कि सरपंच ने प्रधानमंत्री आवास योजना, राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी, पौधरोपण आदि योजनाओं का फायदा अपात्रों को और अपने रिश्तेदारों को दिलवाया है। जबकि गांव में पात्र हितग्राही अभी भी योजनाओं के अभाव में परेशान हो रहे हैं।

ग्रामीणों ने चेतावनी दी कि अधिकारियों ने मौके पर जांच नहीं की तो वे राजगढ़ और भोपाल जाकर भी शिकायत करेंगे। शिकायत करने वालों में रामबाबू दांगी ,सुरेश भिलाला, मुकेश दांगी, रामचंद्र, हिरदेश, मोहन लाल दांगी, कन्हैयालाल, रामबाबू, हीरालाल, रामचंद्र दांगी, कैलाश दांगी, मुरलीधर यादव, जितेंद्र भील, गजराज भील, कमल भील, हरिओम दांगी, रामप्रसाद दांगी, चंदर दांगी, बलराम दांगी, महेश भील, महेश भारत सिंह, बालकराम, कन्हैयालाल गोकुल प्रसाद आदि शामिल थे।

सर्वे के बिना बनती है पंचायत में हितग्राहियों की सूची

ग्रामीणों ने कहा कि विभिन्न योजनाओं का लाभ दिलवाने के लिए पंचायत में विधिवत सर्वे नहीं किया जाता। घर बैठे यह सूची बनाई जाती है। जनपद पंचायत में भी शिकायत करने आते हैं तो जांच अधिकारी मौके तक पहुंचते ही नहीं हैं।

आरोप-सरपंच ने पौधरोपण आदि कई योजनाओं का फायदा अपने रिश्तेदारों को दिलवाया

पंचायत की अनियमितताओं की शिकायत लेकर ग्रामीण एसडीएम कार्यालय पहुंचे।

जांच करवा रहे हैं


ग्रामीणों का आरोप- काम हुए नहीं,राशि निकाल ली

आवेदन में बताया है कि पंचायत में पंच परमेश्वर मद से लगभग 7 लाख रुपए सार्वजनिक कामों पर खर्च दर्शाकर निकाल लिए गए हैं।जबकि स्टॉप डेम, पेयजल, मुरमीकरण जैसे काम गांव में नहीं हुए हैं। इसके अलावा पंचायत क्षेत्र में बेहद घटिया क्वालिटी का सीसी खरंजा किया गया है। जनपद पंचायत से नोटिस मिलने के बाद भी काम में सुधार नहीं किया गया। कपिल धारा, प्रधानमंत्री आवास जैसी योजनाओं का फायदा अपात्रों को दिया गया है। ग्रामीणों का कहना है कि वृक्षारोपण के नाम पर केवल 100 पौधे रोपे गए हैं, जबकि 800 की राशि फर्जी नामों से निकाली गई है। गांव में सुदूर सड़क बनाई गई थी जो बारिश के पहले ही बंद हो गई थी, लेकिन इसके मस्टर और बिल अभी तक लगाए जा रहे हैं। एक ही वेंडर के नाम से लगभग 10 लाख रुपए की राशि निकाली गई है।इसके अलावा गांव की केशर सिंह के घर से श्मशान रोड तक की सड़क के घटिया निर्माण का भी आरोप ग्रामीणों ने सरपंच और संबंधित सब-इंजीनियर पर लगाया है।