Hindi News »Madhya Pradesh »Rajgarh» जूनियर बीएसी को बनाया बीआरसी डीपीसी ने भी नहीं की कोई कार्रवाई

जूनियर बीएसी को बनाया बीआरसी डीपीसी ने भी नहीं की कोई कार्रवाई

शिक्षा विभाग में मनमाने तरीके से बीआरसी की नियुक्ति की गई है। पिछले दिनों बीआरसी अजीत कुमार पांडे का त्यागपत्र...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 13, 2018, 03:00 AM IST

शिक्षा विभाग में मनमाने तरीके से बीआरसी की नियुक्ति की गई है। पिछले दिनों बीआरसी अजीत कुमार पांडे का त्यागपत्र मंजूर कर जिला शिक्षा केंद्र ने उन्हें उनके मूल संस्था में पहुंचा दिया। इस दौरान डीपीसी केके नागर ने बीआरसी को पत्र लिखकर वरिष्ठ बीएसी को बीआरसी का चार्ज देने के निर्देश दिए थे। कार्यालय में पांच बीएसी हैं नियम के मुताबिक वरिष्ठता के क्रम से सबसे सीनियर बीएसी को बीआरसी का चार्ज दिया जाना चाहिए था, लेकिन हुआ ठीक उल्टा। बीआरसी का चार्ज सबसे बाद में वर्ष 2016 में नियुक्त हुए रामप्रसाद पुष्पद को दे दिया गया। जबकि चारों सीनियर से इस बारे में न तो पूछा गया, न उनकी सहमति ली गई। सबसे बड़ी बात यह है जिन डीपीसी ने वरिष्ठ बीएसी को चार्ज देने के लिए बीआरसी को निर्देश दिए थे, उन्होंने भी इस गड़बड़ी पर ना तो ध्यान दिया ना ही कोई कार्यवाही की है।

यह हैं अन्य बीएसी : सुरेंद्र सिंह भदौरिया, गिरिराज भंडारी, नरेंद्र मिश्रा और नानकराम यादव। इनमें से सुरेंद्र सिंह भदौरिया और गिरिराज भंडारी संविदा बीएससी हैं।

तर्क दिया कि संविदा को नहीं बना सकते बीआरसी, जबकि रायसेन में कलेक्टर ने ऐसा किया है : इस बारे में जब डीपीसी केके नागर से बात की गई तो उन्होंने बताया कि संविदा बीएसई को बीआरसी नहीं बनाया जा सकता, जबकि वास्तव में ऐसा लिखित नियम नहीं है।पिछले दिनों दूसरी तरफ रायसेन में कलेक्टर ने संविदा बीएसी को बीआरसी बनाया है।

चारों सीनियर से इस बारे में न तो पूछा गया, न उनकी सहमति ली गई

वरिष्ठता क्रम से सबसे सीनियर बीएसी को बीआरसी का चार्ज दिया जाना चाहिए था

योजनाएं संचालित होती हैं बीआरसी के माध्यम से

सरकारी स्कूलों में निशुल्क साइकिल वितरण, यूनिफॉर्म वितरण, मध्यान्ह भोजन व्यवस्था की मॉनिटरिंग, मिडिल स्तर तक के प्राइवेट स्कूलों को मान्यता देना और शासन की विभिन्न योजनाओं के लिए सरकारी निजी स्कूलों के विद्यार्थियों की ऑनलाइन मेपिंग करवाना।

स्थाई बीआरसी की ही मांग की जाएगी

अगर नरसिंहगढ़ ब्लॉक में गलत तरीके से बीआरसी की नियुक्ति की गई है तो मैं इस मामले को देख कर सुधार करवाऊंगा । यह मेरी जानकारी में नहीं है।वैसे अगले सप्ताह हमारी राज्य शिक्षा केंद्र में बैठक है। उस दौरान में वरिष्ठ अधिकारियों से स्थाई बीआरसी की ही मांग करूंगा,ताकि नियुक्ति में किसी तरह की विवादित स्थिति ही ना बने। केके नागर, डीपीसी, राजगढ़।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Rajgarh

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×