हाईवे के 60 किमी हिस्से में 5 पुल 2 माह से क्षतिग्रस्त एनएचएआई ने कहा-27 साल तक कोई लेना देना नहीं

Rajgarh News - एबी रोड हाईवे पर बने पार्वती पुल की एक तरफ की सड़क खराब होने के कारण बंद कर दी गई। अथोरिटी का गुना स्थित ऑफिस भी...

Oct 30, 2019, 06:55 AM IST
Biyawara News - mp news 5 bridges damaged in 60 km of highway for 2 months nhai said nothing to do for 27 years
एबी रोड हाईवे पर बने पार्वती पुल की एक तरफ की सड़क खराब होने के कारण बंद कर दी गई।

अथोरिटी का गुना स्थित ऑफिस भी बंद, प्रोजेक्ट डायरेक्टर ने कहा अब कंपनी ही करेगी देखभाल

भास्कर संवाददाता । राघौगढ़ / गुना

गुना से ब्यावरा और दूसरी ओर शिवपुरी तक फोन लेन पर अगर किसी तरह की कोई कमी या समस्या है तो किसी सरकारी एजेंसी आपकी सुनवाई नहीं करेगी। अगले 27 साल तक आपको उस निजी कंपनी से ही सुधार उम्मीद करनी होगी, जो इस पर टोल वसूल रही है। गुना से बीनागंज के बीच 60 किमी हिस्से में हाईवे के 5 पुल 2 साल से भी कम समय में क्षतिग्रस्त हो गए। 2-3 माह गुजर जाने के बाद भी इन्हें सुधारा नहीं गया। इसे लेकर एनएचएआई के अाला अधिकारियों का कहना है कि अगले 27 साल तक यह उस कंपनी की प्रोपर्टी है, जिसने इसे बनाया है। इसलिए पूरी जिम्मेदारी उसी कंपनी की है। हमारी ओर से इसमें कोई दखल नहीं किया जा सकता। गुना से तो ऑफिस भी बंद : कई लोगों को शायद यह पता भी न हो कि गुना स्थित एनएचएआई यानि नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया का ऑफिस बंद हो चुका है। यह बीते करीब 15 साल से चल रहा था। जब भी हाईवे पर कोई समस्या आती थी तो इसके लिए इस ऑफिस में बैठने वाले प्रोजेक्ट डायरेक्टर से लेकर दो इंजीनियरों से जवाब तलब किया जा सकता था। अब यह जवाबदेही खत्म हो गई है। हमने एनएचएआई के प्रोजेक्ट डायरेक्टर आरसी गुप्ता से बात की तो उन्होंने दो टूक कहा कि वहां काम पूरा हो गया है, इसलिए दफ्तर बंद कर दिया गया। अब कंपनी ही देखरेख करेगी।

पार्वती पुल की एक लेन 3 माह से बंद पड़ी है, एक लेन ही चालू रहने से कई बार बनते हैं जाम के हालात

हाल ए हाईवे

पार्वती पुल की एप्रोच रोड दोनों ओर से धंस गई

इस हाईवे के बीते 20 साल के इतिहास को देखें तो पार्वती पुल इसकी सबसे बड़ी समस्या रही है। फोर लेन के बाद यह माना जा रहा था कि यह समस्या हमेशा के लिए खत्म हो गई। पर दो साल बाद ही यह पुल एक बार फिर सवाल खड़े करने लगा है। सामान्य से अधिक बारिश वाला पहला ही मानसून सीजन यह नहीं झेल पाया। इसकी एप्रोच रोड दोनों ओर से धंस गई। इसके चलते एक लेन को बंद कर दिया गया। तीन माह से यही स्थिति बनी हुई है। एप्रोच रोड को नए सिरे से बनाने के लिए दोनों साइड 5 से 10 मीटर तक खोदा गया है।

दो पुलों में स्लैब के जोड़ खुल गए और बड़े गड्ढे होने लगे

आवन और सूकेट नाले के पुलों के बीच में गड्ढे हो गए हैं। इन पुलों के के बीच के जोड़ खुलने की वजह से यह स्थिति बनी है। दो और पुल की एप्रोच रोड धंसी जंजाली चौकी और रुठियाई बाइपास के पुलों में समस्या आ रही है। इनमें कई जगहों पर सरिए बाहर निकल रहे हैं।

मामूली गड्ढा भी है घातक

पुराने हाईवे की तुलना में मौजूदा समस्याएं बहुत बड़ी नहीं है। इसके बावजूद वे पहले के मुकाबले ज्यादा जानलेवा हैं। कारण यह है कि टू लेन हाईवे पर वाहन की रफ्तार कम रहती है। अब इस हाईवे पर 100 से 140 किमी की रफ्तार से वाहन चलते हैं। ऐसे में अगर किसी पुल के किनारे पर एप्रोच रोड 3-4 इंच भी धंसी हो तो वाहन में तेज झटका लगा तो दुर्घटना भी हो सकती है।

अधिकारियों को हाईवे का भूगोल याद नहीं

कभी गुना ऑफिस में ही प्रोजेक्ट डायरेक्टर रहे एनएचएआई के आरसी गुप्ता अब यहां नहीं बैठते। उनके दिमाग से गुना का भूगोल तक साफ हो गया है। भास्कर ने उनसे बात की तो उन्हें बड़ी मुश्किल से समझाया जा सका कि हम गुना के किस हाईवे की बात कर रहे हैं। हालांकि जब हमने पुलों के क्षतिग्रस्त होने की बात कही तो उन्होंने तुरंत टोका कि पुल नहीं एप्रोच रोड खराब हैं। उन्होंने कहा कि बारिश की वजह से कंपनी काम नहीं करा पा रही होगी। उन्होंने कहा कि अगले 27 साल तक यह कंपनी की प्रॉपर्टी है, उसके बाद हाईवे हमें हैंडओवर होगा। खराब सड़क के बाद भी टोल वसूला जा रहा है, क्या इस मामले में एनएचएआई कोई कार्रवाई नहीं करेगा? उन्होंने कहा कि अब कंपनी ही काम कराएगी। उन्होंने बताया कि गुना ऑफिस अब बंद हो चुका है।

इनकी ओर भी नहीं दिया ध्यान



X
Biyawara News - mp news 5 bridges damaged in 60 km of highway for 2 months nhai said nothing to do for 27 years
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना