• Hindi News
  • Mp
  • Rajgarh
  • Sarangpur News mp news ambulances firefighters unable to reach emergency in the narrow streets of old habitation

पुरानी बसाहट वाली तंग गलियों में आपात स्थिति में नहीं पहुंच पाती एंबुलेंस, दमकलें

Rajgarh News - नगर में समय के साथ साथ कॉलोनियों व अन्य बसाहटें बढ़ती जा रही हैं। नई बसाहट में तो कोई परेशानियां नहीं आती हैं,...

Feb 15, 2020, 09:11 AM IST
Sarangpur News - mp news ambulances firefighters unable to reach emergency in the narrow streets of old habitation

नगर में समय के साथ साथ कॉलोनियों व अन्य बसाहटें बढ़ती जा रही हैं। नई बसाहट में तो कोई परेशानियां नहीं आती हैं, लेकिन पुरानी बसाहट वाले सारंगपुर नगर में सैकड़ों तंग गलियां हैं। इनमें कुछ तो इतनी संकरी हैं कि कोई बाइक सवार आ जाए, तो पैदल चलने वाले को भी गली के किनारे रुकना पड़ता है। ऐसी स्थिति में अगर इन तंग गलियों में कभी भी कोई भी अनहोनी हो जाए, तो राहत पहुंचाने में खासी परेशानी हो सकती है।

कुछ वर्षों पूर्व नगर की ऐसी ही एक तंग गली में स्थित मकान में आगजनी की घटना घटित होने के बाद फायर ब्रिगेड पहुंचने में काफी परेशानी हुई थी। 60 हजार से ज्यादा की आबादी वाले नगर में वैसे तो कई निर्माण हुए और बसाहट भी बढ़ गई है, लेकिन शहर के मध्य पुरानी बस्तियां आज भी गलियों में ही बसी हैं। इन तंग गलियों में हजारों लोग निवास करते हैं। ऐसे में यदि किसी गली में हादसा हो जाए तो उस स्थान पर राहत आसानी से नहीं पहुंच सकती।

समय के साथ बाजार खत्म लेकिन गलियां अब भी हैं : नगर की पहचान पुराने व ऐतिहासिक नगरों में होती है। कहा जाता है कि किसी समय में यहां पर 52 बाजार और 53 गलियां हुआ करती थी। समय के साथ बाजार तो खत्म हो गए, लेकिन तंग गलियां आज भी मौजूद हैं। इन तंग गलियों की यह हालत है कि इनमें व्यवसायिक दुकानों के साथ रहवासी मकान भी मौजूद हैं। नगर में स्थित तंग गालियों में कई स्थान पर तो गलियों की चौड़ाई 5 फीट भी नहीं है। जहां पर हादसा या आगजनी के समय एंबुलेंस व फायर ब्रिगेड नहीं पहुंच सकते। ऐसे में अगर इन गालियों में कोई हादसा हो जाए, तो भारी जन, धन की हानि से इंकार नहीं किया जा सकता है।

फायर ब्रिगेड नहीं पहुंच पाती है गलियों में

नगर के अंदर अनेक ऐसे स्थान हैं, जहां की तंग गलियों में यदि किसी मकान या दुकान में आगजनी की घटना हो जाए तो फायर ब्रिगेड पहुंच पाना तो दूर पानी का टैंकर भी पहुंचना मुश्किल है। नगर में कुछ ऐसे तंग स्थानों में बोहरा वाड़ी, अंधेरीगली, तरुण चौराहे से सोनी मिष्ठान भंडार तक का रास्ता, भेरूदरवाजा से जोशी हास्पिटल तक, भेरूदरवाजा के राम मंदिर से पठानवाड़ी तक एवं जाटवाड़ी में डॉ जोशी वाली गली, त्रिपोलिया बाजार से निकली गली सहित अनेक गलियों में दमकल या पानी के टैंकर नहीं पहुंच पाते हैं। इनमें भेरूदरवाजा से जोशी हॉस्पिटल तक तो अधिकांश कपड़े की दुकानें, किराना स्टोर्स, जनरल स्टोर्स सहित कई व्यवसायिक दुकानें हैं एवं अधिकांश रहवासी मकान हैं। 200 मीटर लंबे इस मार्ग की यह हालत है कि अगर आमने सामने से ऑटो रिक्शा ही आ जाएं तो वो निकल नहीं सकते। वैसे तो यह रास्ता 10 फीट चौड़ा है, लेकिन दुकानदारों ने सड़क पर सामान रखने से यह 7-8 फीट का ही रह गया है। ऐसे में यहां दमकल नहीं घुस पाती हैं। नगर में सबसे खतरनाक स्थिति इसी मार्ग पर है।

अन्य स्थानों की घटनाओं से लेना होगा सबक

अभिभाषक संघ अध्यक्ष अनिल दीक्षित व नीलेश वर्मा, अरबाज अंसारी ने बताया कि पिछले दिनों इन्दौर, भोपाल सहित अन्य स्थानों पर आग लगने की घटनाएं हुई हैं। इसमें जो जान-माल का नुकसान हुअा, उससे सबक लेते हुए स्थानीय प्रशासन को नगर में भी ऐसे स्थानों की चेकिंग करना चाहिए, जहां तंग व नगर के मध्य में स्थित दुकानों व मकानों में बेहद परेशानियां आती हैं। साथ ही ऐसे स्थानों को भी देखना चाहिए, जहां पटाखे बेचने का काम होता है।

वहीं कुछ वार्डों में स्थित उचित मूल्य की दुकानों में बिकने वाले केरोसीन को भी देखना होगा, ताकि यहां अनहोनी न हो।

52 बाजार और 53 गलियाें से थी पहचान, अब वही बन रही परेशानी का कारण

सही बात है, ऐसी स्थिति में हो सकती हैं मुश्किलें

-मुकेश कुमार सक्सेना, सीएमओ नपा

X
Sarangpur News - mp news ambulances firefighters unable to reach emergency in the narrow streets of old habitation
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना