25 वर्ग मीटर के प्लाट में क्राप्ट कटिंग से हो रहा एक बीघा से 60 किलो सोयाबीन पैदावार का आंकलन

Rajgarh News - भास्कर संवाददाता| सांरगपुर/छापीहेड़ा/पड़ाना जिले में अतिवृष्टि से खराब हुई फसलों के नुकसान का आंकलन फसल बीमा...

Bhaskar News Network

Oct 12, 2019, 09:06 AM IST
Sarangpur News - mp news estimation of yield of 60 kg of soybean from a bigha in a 25 square meter plot from a cropping cut
भास्कर संवाददाता| सांरगपुर/छापीहेड़ा/पड़ाना

जिले में अतिवृष्टि से खराब हुई फसलों के नुकसान का आंकलन फसल बीमा कंपनी और प्रशासनिक की टीम के द्वारा क्राफ्ट कटिंग (अनावारी) के माध्यम से कर रही है। इसको लेकर बीमा कंपनी के अधिकारियों के साथ प्रशासन की टीम सारंगपुर, पड़ाना, छापीहेड़ा सहित विभिन्न क्षेत्रों में पहुंची। जहां किसानों के खेतों में जाकर खेतों में खड़ी सोयाबीन की फसल की क्राफ्ट कटिंग की गई। इसके बाद उसका बीज निकालकर तुलवाया गया। प्राप्त बीज के आधार पर नुकसान का आंकलन लगाया जा रहा है।

शुक्रवार को सारंगपुर तहसील खराब हुई फसलों का जायजा लेने के लिए प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत जायजा लिया जा रहा है। अनावारी पद्धति से होने वाले इस मूल्यांकन के लिए बीमा कंपनी सहित प्रशासन की टीम क्षेत्रों में पहुंची है। जहां खेत से निकली उपज को आधार बनाकर नुकसान का आंकलन किया जा रहा है। सर्वे टीम में बीमा कंपनी के प्रतिनिधि एवं प्रशासनिक अधिकारी, पटवारी, ग्राम सेवक सहित ग्रामीण शामिल हैं।

फसल बीमा कंपनी और प्रशासनिक अफसरों ने खेतों पर जाकर कराई साेयाबीन की अनावारी

खेतों में जाकर किसानों की मौजूदगी में अनावरी करती अधिकारियों की टीम।

क्राप्ट कटिंग में पाया फसल में भारी नुकसान

पीपलिया पाल में पटवारी दीपक सोनी, किसान मोहन सिंह पाल, बीमा कंपनी के श्याम जाटव ने सोयाबीन की क्रॉप कटिंग कराई। ग्राम भ्याना सहित दयाखेड़ी में कंपनी के प्रतिनिधि वीरेंद्र सोलंकी, पटवारी अतुल सक्सेना, ग्राम सेवक एसएन चौहान ने किसानों के खेतों पर जाकर मूल्यांकन किया गया। ग्राम धामंदा और पाटक्या में बीमा के लिए फसलों का सर्वे टीम द्वारा मूल्यांकन किया गया। ग्राम नैनवाड़ा हल्का पटवारी योगेश सक्सेना, बीमा कंपनी के अधिकारियों ने फसल क्राफ्ट कटिंग की। इसमें वास्तव में किसानों को भारी भरकम नुकसान होना पाया गया। सोयाबीन का उत्पादन बहुत ही कम मिला। किसान जगदीश सिंह सिसोदिया ने कहा कि बरबाद हाे चुके किसानों को प्रदेश हो या केंद्र सरकार या फसल बीमा कंपनी किसानों को शीघ्र अति शीघ्र मुआवजा व बीमा राशि देना चाहिए। काफी कम क्राफ्ट कटिंग में उत्पादन प्राप्त हुआ है। किसानों के ऊपर सरकार और बीमा कंपनियों को बिल्कुल विचार कर करके यथाशीघ्र बीमा और मुआवजा का लाभ किसानों को देना चाहिए। किसानों को लगता है कि सरकार और बीमा कंपनी किसानों को उचित बीमा का लाभ अवश्य देंगे। इस मौके पर गांव के संबंधित किसान सरपंच सहित अन्य लोग मौजूद रहे।

25 वर्ग मीटर के प्लाट में निकली 300 से 800 ग्राम सोयाबीन

पड़ाना|
पटवारियों, जनप्रतिनिधि, सरपंच, सचिव सहित किसानों व कोटवार की मौजूदगी में बीमा कंपनी व प्रशासन ने खेतों में पहुंचकर क्रॉप कटिंग प्लाट बनाकर सोयाबीन की कटिंग कराई। जिसकी कुटाई कर सोयाबीन के नुकसान का मौके पर ही आंकलन कर रिपोर्ट तैयार की जा रही है। पड़ाना हल्का पटवारी शहजाद खा मंसूरी, सरपंच यशवंत माली, महेश खाती, नेमीचंद पुष्पद, आमीन मंसूरी की मौजूदगी सोयाबीन की क्राफ्ट कटिंग की गई। मऊ में हल्का पटवारी रामकरण कीर, सरपंच फतेहसिंह राजपूत, प्रेम सिंह राजपूत, यूनुस मंसूरी, रमेशचंद्र राजपूत, राजेश परमार, बद्रीलाल चौकीदार, श्याम राजपूत, कुमेर सिंह राजपूत सहित जनप्रतिनिधि व सचिव एवं किसानों की मौजूदगी में 5 बाई 5 मीटर का क्रॉप कटिंग की गई। इसमें इसमें मात्र 320 ग्राम सोयाबीन निकली। दूसरे प्लाट में 810 ग्राम सोयाबीन निकली। इस अनावरी में सोयाबीन में 80 प्रतिशत नुकसान पाया गया। टीम ने बताया कि सर्वे रिपोर्ट तहसीलदार को सौंपी जाएगी। जिससे किसानों को नुकसान का बीमा व अन्य लाभ मिल सके। भैसवा माता एवं कलाली में पटवारी राधेश्याम भिलाला, आत्माराम वर्मा, भागीरथ पटेल, मोहनलाल पटेल, सरपंच महेश नागर की मौजूदगी में अनावरी की गई।

क्राप्ट कटिंग कर सोयाबीन में नुकसान का आंकलन करते अधिकारी।

सोयाबीन फसल कटाई का प्रयोग बीमा कंपनी ग्राम सेवक द्वारा

छापीहेड़ा|
प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना तहत फसल के नुकसान का आंकलन अनावरी पद्धति से की जा रही है। बीमा कंपनी एनसीएमएल के प्रतिनिधि रामसागर दांगी व ग्राम कृषि विस्तार अधिकारी गिरीश गुप्ता ने किसान भेरूलाल पाटीदार के खेत पर 5बाय5 मीटर जमीन में सोयाबीन फसल कटाई कर सोयाबीन निकाली गई जो 583 ग्राम निकली। इस हिसाब से एक बीघा जमीन में 60 किलो सोयाबीन का उत्पादन होना बताया। इस मौके पर बीमा कंपनी प्रतिनिधि ग्राम सेवक, किसान आदि मौजूद रहे। नुकसान के हिसाब से बीमा कंपनी अधिकारियों के सामने ही पटवारियों से मुआवजे की मांग के लिए प्रपत्र भर कर पंचनामा तैयार कराए, ताकि किसानों को फसल खराब होने से हुए नुकसान का वाजिब मुआवजा व राहत राशि मिल सके।

Sarangpur News - mp news estimation of yield of 60 kg of soybean from a bigha in a 25 square meter plot from a cropping cut
X
Sarangpur News - mp news estimation of yield of 60 kg of soybean from a bigha in a 25 square meter plot from a cropping cut
Sarangpur News - mp news estimation of yield of 60 kg of soybean from a bigha in a 25 square meter plot from a cropping cut
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना