दो जगह से फूटी 11 करोड़ से पक्की बनी कुशलपुरा डैम की नहर, सिंचाई के लिए 20 दिन पिछड़े किसान

Rajgarh News - भास्कर संवाददाता| राजगढ़/करनवास करीब सात साल पूर्व कई करोड़ रुपए खर्च कर कुशलपुरा मध्यम बहुउद्देश्यीय सिंचाई...

Bhaskar News Network

Nov 11, 2019, 07:22 AM IST
Biyawara News - mp news kushalpura dam canal paved from 11 million rupees from two places 20 days backward farmers for irrigation
भास्कर संवाददाता| राजगढ़/करनवास

करीब सात साल पूर्व कई करोड़ रुपए खर्च कर कुशलपुरा मध्यम बहुउद्देश्यीय सिंचाई परियोजना के तहत कुशलपुरा से निकाली गई 27 किमी लंबी की नहर किसानों के समुचित रूप से काम नहीं आ पा रही है। नहरों को पक्की करने के लिए शासन ने पांच साल पूर्व 11 करोड़ रुपए खर्च किए थे। लेकिन विभागीय की अनदेखी से नहर की क्वालिटी भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ गई। नहरें निर्माण के समय से अब तक कई बार फूटने से किसानों की फसलें प्रभावित हो रही हैं।

हर बारिश की तरह इस बार भी बांयी तरफ की नहर दो जगह ढह गई। इससे किसानों की फसल 20-25 दिन पिछड़ गई है। इससे किसानों में सिंचाई को लेकर चिंता बढ़ गई है। जल संसाधन विभाग द्वारा भीलवाड़िया की पुलिया और गेहूंखेड़ी की पुलिया के पास पूरी तरह पानी में ढही नहर की रिपेयरिंग कराई जा रही है। इसके बन जाने और मजबूत होने के बाद ही पानी छोड़ा जा सकेगा।

भास्कर ने दिलाया था ध्यान, अब भुगत रहे किसान

नहर ब्यावरा की शिवहरे कंस्ट्रक्शन कंपनी ने बनाई थी। घटिया निर्माण सामग्री लगाने से नहर बनाने के साथ ही टूटने और फूटने लगी थी। इस दौरान दैनिक भास्कर ने खबर प्रकाशित कर ठेकेदार द्वारा मिट्टीयुक्त रेत, चूरी, कम मात्रा में सीमेंट का उपयोग करते हुए पानी में मिक्स किए बगैर 20 फीट ऊपर से सामग्री नहर में डालकर घटिया को लेकर विभाग व प्रशासन का ध्यान आकर्षित किया था, लेकिन समय रहते कोई ध्यान नहीं दिया। इसका खामियाजा हर साल किसानों को बार बार भुगतना पड़ रहा है।

कुशलपुर डेम की नहरों पर एक नजर

कुशलपुरा डेम से करोड़ों रुपए लागत से दाईं और बाईं तरफ दो नहरें निकाली हैं। इसमें बायी नहर की 11 किमी और दायीं नहर 24 किमी लंबी हैं। इनसे सैकड़ों किसानों की 7 हजार 300 हेक्टेयर रकबे में रबी सीजन की सिंचाई होना थी। लेकिन 11 करोड़ खर्च करने के बाद भी पूरी नहर पक्की नहीं की गई। इससे अंतिम छोर तक पानी नहीं पहुंच पाता है। दाईं नहर से भैसानी, गेहूंखेड़ी, राजपुरा, भीलवाड़िया, गूजरीबे, पनाली, करनवास, माधोपुरा, किशनपुरिया, टांडी, सूरज खेड़ी, भोपालपुरा सहित 15 गांवों की 6 हजार 300 हेक्टेयर रकबे में और बाईं तरफ की नहर से सुंदरहेड़ा, खजूरिया, जरकड़ियाखेड़ी, बरग्या, परसूलिया, मोहनपुरा सहित 10 गांव के किसानों की एक हजार हेक्टेयर रकबे में सिंचाई होना है।

किसानों में डर... चौपट न हो जाए फसल

नहर चालू होने में अभी करीब 15 दिन का समय लगेगा। इसके बाद किसानों की फसलों को पानी मिल सकेगा। किसानों को हर साल की तरह नहर फूटने से फसलें चौपट होने का डर सता रहा है। भीलवाड़िया की सरपंच डालीबाई चंद्रसिंह यादव ने आरोप लगाया कि घटिया निर्माण के कारण हर साल नहर टूट-फूट रही है। दिवाली की दूज पर चालू होने वाली नहर इस बार 20-25 दिन की देरी से चालू हो सकेगी। किसान दयाराम यादव, नेपाल सिंह यादव, जगदीश प्रसाद, दयाराम, आकेश परमार, रामबाबू यादव, मुकेश यादव, चन्दर सिंह यादव, प्रेम सिंह, घीसालाल, लखन, महेश, भगवान सिंह, रंगलाल, देवसिंह सहित अन्य ग्रामीणों ने बताया कि गेहूं, चना, धनिया आदि फसलों बोवनी कर दी। उन्होंने नहर को शीघ्र चालू करने की मांग की है, जिससे फसलें प्रभावित न हों।

बनाते समय की गई गड़बड़ियों पर पर ध्यान दिया होता तो बार बार नहीं फूटती नहर

नहर की मरम्मत के साथ सफाई की जा रही है


X
Biyawara News - mp news kushalpura dam canal paved from 11 million rupees from two places 20 days backward farmers for irrigation
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना