परिवहन की गति धीमी, 77 खरीदी केंद्रों पर खुले में रखा 59 हजार क्विं. गेहूं, बारिश हुई तो होगा नुकसान

Bhaskar News Network

May 18, 2019, 08:26 AM IST
Khilchipur News - mp news the speed of the transport is slow 59 thousand quins kept in open at 77 purchase centers wheat rain will be damaged


24 मई तक जिले में की जानी है समर्थन मूल्य पर उपज की खरीदी

भास्कर संवाददाता| ब्यावरा

जिले में समर्थन मूल्य पर चल रही गेहूं खरीदी के बाद परिवहन और भंडारण में देरी की जा रही है। ऐसे में जिले के सभी 77 खरीदी केंद्रों में 59 हजार 10 क्विंटल 31किग्राम गेहूं बाहर खुले आसमान के नीचे पड़ा हुआ है। खरीदी केंद्रों पर खुले आसमान के नीचे पड़े गेहूं के पीछे दो बड़ी वजह है एक तो जिले में रखने की जगह नहीं है और दूसरा परिवहन भी सुस्ती से हो रहा है। उधर मौसम में भी लगातार बदलाव हो रहे हैं। यदि आने वाले दिनों में प्री मानसून बारिश होती है तो खरीदी केंद्रों पर खुले में रखा सरकारी गेहूं खराब हो सकता है। दरअसल जिले में बीती 25 मार्च से समर्थन मूल्य पर गेहूं खरीदी शुरू की गई थी। इस बार जिले के 65 हजार 569 किसानों से तकरीबन एक लाख 60 हजार मीट्रिक टन खरीदी का लक्ष्य रखा गया है। इसमें से अभी तक सभी 77 खरीदी केंद्रों पर 29 हजार 422 किसानों से 14 लाख 69 हजार 856 क्विंटल 21 किग्रा गेहूं खरीदा जा चुका है। जिसमें से महज 14 लाख 58 हजार 445 क्विंटल 57 किग्रा गेहूं का ही परिवहन खरीदी केंद्रों से किया जा सका है। शेष 59 हजार 10 क्विंटल 31 किग्रा अनाज अभी तक यानि 17 मई 2019 की शाम 5 बजे तक खरीदी केंद्रों पर खुले में खरीदी केंद्रों पर रखा हुआ है।

मई के 17 दिन में जिले में 5 बार हुई बारिश, फिर भी नहीं हाे रहा है खुले में रखे अनाज का उठाव

17 दिन में 5 बार बेमौसम बारिश और ओलावृष्टि होने के बाद भी नहीं सुधरा परिवहन का ढर्रा

जिले में बीते करीब तीन सप्ताह से बारिश हो रही है। बीती एम मई से लेकर 17 मई तक जिले के तमाम हिस्सों में अभी तक 5 बार हल्की बारिश हुई है। इसमें कहीं पानी बहकर निकाला है तो नरसिंहगढ़ व मलावर क्षेत्र में ओलावृष्टि भी शामिल है। बीती 12 मई को मलावर, ब्यावरा और नरसिंहगढ़ समेत राजगढ़ में कहीं हल्की तो कहीं तेज बारिश हुई। इसके पहले 8 व 9 मई को भी हल्की बारिश हुई। जबकि इसके पूर्व 4 एवं 5 मई की दरमियानी रात भी जिले के कुछ हिस्सों में बारिश हुई। हालांकि मौसम केंद्र कार्यालय में बारिश का कोई रिकॉर्ड नहीं है। लेकिन इस बेमौसम बारिश से जिले के खरीदी केंद्रों पर रखा समर्थन मूल्य खरीदी का गेहूं भींग गया था। इसके बाद भी परिवहन व्यवस्था में सुधार नहीं हो सका है।

पंजीयन से आधे किसानों ने बेची उपज

जिला खाद्य एवं आपूर्ति अधिकारी एसके तिवारी ने बताया कि जिले में समर्थन मूल्य खरीदी आखिरी दौर में हैं। आगामी 24 मई तक अनाज खरीदी की जाएगी। अभी तक करीब 30 हजार किसान अपनी उपज बेच चुके हैं जबकि पंजीयन 65 हजार किसानों ने कराए थे, लेकिन जितने किसानों ने पंजीयन कराए थे उनमें से आधे से भी कम ने अभी तक उपज बेची है।

जिले में समर्थन मूल्य पर खरीदे जा रहे गेहंू को रखने के लिए पर्याप्त जगह नहीं

जिले में समर्थन मूल्य पर खरीदे जा रहे गेहूं को रखने के भी पर्याप्त इंतजाम नहीं है। मप्र वेयर हाउसिंग कारपोरेशन के रिकॉर्ड की माने तो जिले में 2.50 लाख टन क्षमता के गोदाम है। इसमें से अभी एक लाख 72 हजार 600 मीट्रिक टन गेहूं व अन्य उपज भरी है। जिनमें कवर्ड गोदामों में उपज रखने के लिए सिर्फ 32 हजार मीट्रिक टन गेहूं ही रखा जाएगा। जिले में कुल 62 हजार टन क्षमता के कैंप मिलाकर कुल 94 हजार टन गेहूं रखने का ही बंदोबस्त है। वेयर हाउस कारपोरेशन के जिला प्रबंधक एमएस तोमर ने बताया कि 27 हजार टन क्षमता के तीन कैंप जालपा देवी के पास 25 हजार, खिलचीपुर में एक हजार और कचनारिया में एक हजार मीट्रिक टन क्षमता के पुराने कैंप बने हैं। इसके अलावा इस बार 35 हजार मीट्रिक टन क्षमता के कैंप हिरणखेड़ी में 25 हजार,पचोर में 10 हजार मीट्रिक टन क्षमता के कैंप बनाए जा रहे हैं। वेयर हाउसिंग कारपोरेशन के अधिकारियों का कहना है कि यदि जरूरत लगेगी और हिरणखेड़ी पर ही 10 से 15 हजार मीट्रिक टन क्षमता के और कैंप भी बनाए सकते हैं।

X
Khilchipur News - mp news the speed of the transport is slow 59 thousand quins kept in open at 77 purchase centers wheat rain will be damaged
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना