--Advertisement--

विवेकानंद ने भारत की गाैरवशाली संस्कृति से दुनिया काे परिचित कराया: पाठक

Dainik Bhaskar

Jan 14, 2019, 04:17 AM IST

Rajgarh News - स्वामी विवेकानंद ने भारत की गाैरवशाली संस्कृति से पूरी दुनिया काे परिचित कराया। यह बात शनिवार काे सरस्वती विद्या...

Rajgarh News - mp news vivekananda introduced the world to the world of the poorer culture reader
स्वामी विवेकानंद ने भारत की गाैरवशाली संस्कृति से पूरी दुनिया काे परिचित कराया। यह बात शनिवार काे सरस्वती विद्या मंदिर में राष्ट्रीय युवा दिवस के माैके पर अायाेजित कार्यक्रम में राजगढ़ विभाग समन्वयक चंद्रहंस पाठक ने कही। उन्हाेंने कहा कि विवेकानंद ने विश्व काे बताया था कि भारत एक अाध्यात्मिक देश है।

उन्हाेंने शिकागाे विश्व धर्म सम्मेलन में अपने भाषण में पहला शब्द कहा था- मेरे प्रिय अमेरिका वासी भाइयाें, बहनाें। इस शब्द से पूरा सदन तालियाें से गूंज उठा था। विवेकानंद जी जन्म से ही ईश्वर की तलाश में थे। वे जहां कहीं भी जाते, संतों से मिलतेद्ध उनसे एक ही बात पूछा करते थे कि क्या आपने ईश्वर को देखा। जब उनकी मुलाकात स्वामी रामकृष्ण परमहंस से हुई ताेउनसे भी स्वामी विवेकानंद ने सवाल किया कि क्या आपने ईश्वर को देखा। तब स्वामी रामकृष्ण परमहंस ने विवेकानंद जी से कहा कि हां मैंने ईश्वर को देखा है।तुम में ही ईश्वर है ।तब से वे स्वामी रामकृष्ण परमहंस के शिष्य बन गए। विवेकानंद जी की एकाग्रता शक्ति अदभुत थी। मंच की अध्यक्षता कर रही ब्रम्हाकुमारी वैशाली दीदी ने अध्यक्षीय उद्बाेधन में कहा कि विवेकानंद जी ने अपना पूरा जीवन देश की संस्कृति के पोषण में लगा दिया था।

आज भारतीय संस्कृति के पोषण के रूप में सरस्वती शिशु मंदिर पूरे देश में काम कर रहे हैं। विवेकानंद जी ने कहा था कि मन को जीतने वाला संसार को संसार को जीतता है। कार्यक्रम की शुरुआत दीप प्रज्वलन के साथ हुई। कार्यक्रम में विशेष अतिथि मोहन जायसवाल अध्यक्ष केशव शिक्षण समिति अाैर प्राचार्य गोविंद कारपेन्टर थे। अायाेजन में हेमलता साहू, हेमंत पांडे, दामाेदर गुर्जर, रमेश विश्वकर्मा का याेगदान रहा। संचालन दिलीप गुर्जर अाैर अतिथि परिचय यशवंत गुर्जर ने किया।

X
Rajgarh News - mp news vivekananda introduced the world to the world of the poorer culture reader
Astrology

Recommended

Click to listen..