बगैर फिटनेस, बीमा के स्कूल वाहन में क्षमता से अधिक बच्चों को ढो रहे

Rajgarh News - नगर में स्कूलों में परिवहन नियमों की अनदेखी कर निजी वाहन चालक क्षमता से अधिक संख्या में बच्चों को बैठाकर...

Bhaskar News Network

Jul 14, 2019, 08:15 AM IST
Khujner News - mp news without fitness the schools of insurance carry more children than the capacity in the vehicle
नगर में स्कूलों में परिवहन नियमों की अनदेखी कर निजी वाहन चालक क्षमता से अधिक संख्या में बच्चों को बैठाकर असुविधाजनक अाैर खतरनाक तरीके से स्कूल तक का सफर करा रहे हैं। मासूमों की जिंदगी के प्रति न तो प्रशासन सजग है न ही स्कूल प्रबंधन। जिम्मेदारों की अनदेखी किसी भी दिन बड़े हादसे का कारण बन सकती है।

नगर में हो या कस्बे में संचालित निजी स्कूल हर जगह पढ़ाई के पैकेज के साथ आने जाने के साधन का पैकेज भी दे रहे हैं। स्कूल संचालक हर महीने फीस के साथ साधन में भी मोटा मुनाफा ले रहे हैं। फिर भी क्षमता से चार व पांच गुना बच्चों को बिठाने में कोई हिचक नहीं कर रहे हैं। नगर के करीब आधा सैकड़ा स्कूल ऐसे हैं जिसमें बच्चों को उनके घर से स्कूल लाने और ले जाने के लिए प्राइवेट बस, वैन या टेंपो लगे हुए हैं।

7-8 की क्षमता, बैठाए जा रहे 20 से ज्यादा बच्चे

स्कूली मैजिक वाहन व बसों में छात्र-छात्राएं भेड़ बकरियों की तरह ठूंस ठूंस कर बैठाकर स्कूल लाना ले जाना कर रहे हैं। चेकिंग के दौरान 7-8 क्षमता और परमिट वाले मैजिक वाहन में 20 से 25 बच्चे मिले। उतनी जगह में 20 से 25 बच्चों के बैग भी रखे हुए थे। बच्चों को बैठने तो क्या हिलने तक की जगह नहीं थी। ऐसी हालत एक दिन की नहीं, हर रोज बच्चों को परेशानी उठाना और जान जोखिम में डालना पड़ती है।

थाना प्रभारी ने चेकिंग कर चालक व स्कूल संचालकों को दी नियमों को पूरा करने की चेतावनी

क्षमता से अधिक बच्चों को बैठाकर ले जाते स्कूल वाहन की चेकिंग करते थाना प्रभारी।

िबना मापदंड के खस्ता हालत में चल रहे हैं स्कूल वाहन

वाहन फीस के नाम पर हर महीने मोटी रकम वसूलने वाले स्कूलों के वाहनों की हालत खस्ता है। न तो सही सीटें हैं और न ही उनका रंग पीला है। फिटनेस, गैस किट की गुणवत्ता और फर्स्ट एड बाक्स और आग बुझाने के उपकरण अधिकांश वाहनों में नहीं है। जिन वाहनों में लगे होते हैं व महज दिखावे के लिए। शनिवार को बस स्टैंड पर थाना प्रभारी उमाशंकर मुकाती ने स्कूली वाहनों की चेकिंग की। इस दौरान उन्होंने स्कूली बसों में सुरक्षा के इंतजाम, प्राथमिक उपचार किट, स्कूली वाहन चालकों के लाइसेंस, कागजात आदि चेक किए,जिसमें किसी किसी भी वाहन में मापदंड पूरे नहीं निकले। इस पर उन्होंने चालकों को स्कूली वाहनों के निर्धारित नियमों का पालन करने के सख्त निर्देश दिए।

नियमों की अनदेखी: अाेवरलाेड स्कूल वाहन थाने के सामने से गुजरते हैं, डीटीअाे भी नहीं करते कार्रवाई

खुजनेर| नगर में दर्जनों स्कूलों में चल रहे स्कूल वाहन नियमों की अनदेखी कर बच्चों की जान से खिलवाड़ कर रहे हैं। बच्चों को घर से स्कूल लाने ले जाने के लिए गए स्कूल वाहन इतने कबाड़ हैं कि कभी भी दुर्घटना के कारण बन सकते हैं। यह वाहन दिन में दो-तीन बार नगर व थाने के सामने से गुजरते हैं, लेकिन पुलिस प्रशासन आरटीओ कोई कार्रवाई नहीं कर रहा है। स्कूल खुले 20-25 दिन हो गए है। स्कूल संचालक पुराने वाहन से ही बच्चों को ढो रहे हैं। इन वाहनों की फिटनेस, परमिट, बीमा, स्कूलों का नाम, स्पीड गवर्नर, सीसीटीवी कैमरे, स्कूल कलर, मोबाइल नंबर आदि का कुछ पता नहीं है। नियमों को ताक पर रख यह वाहन क्षमता से चार-पांच गुना छोटे मैजिक में 40 से 50 बच्चों ठूंसकर लाया ले जाया जाता है, जो कभी भी हादसे का कारण बन सकता है। वहीं नियमों के विपरीत स्कूलों में तूफान, मैजिक, छोटा हाथी, मारुति वैन आदि लगा रखे हैं।

समझाइश व चेतावनी दी है अगली बार करेंगे कार्रवाई


Khujner News - mp news without fitness the schools of insurance carry more children than the capacity in the vehicle
X
Khujner News - mp news without fitness the schools of insurance carry more children than the capacity in the vehicle
Khujner News - mp news without fitness the schools of insurance carry more children than the capacity in the vehicle
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना