--Advertisement--

15 गांव से पहुंचे हजारों लोग, छह ढोल व दो मांदल भी आए

Rajpur News - आदिवासी संस्कृति के प्रतीक भोंगर्या हाट में गुरुवार को भारी भीड़ रही। इसमें आसपास के 15 गांवों सो 20 हजार से भी अधिक...

Dainik Bhaskar

Mar 02, 2018, 05:00 AM IST
15 गांव से पहुंचे हजारों लोग, छह ढोल व दो मांदल भी आए
आदिवासी संस्कृति के प्रतीक भोंगर्या हाट में गुरुवार को भारी भीड़ रही। इसमें आसपास के 15 गांवों सो 20 हजार से भी अधिक संख्या में लोग मेले का आनंद लेने पहुंचे। युवा व महिलाएं आदिवासी परंपरागत वेशभूषा में भोंगर्या हाट में होली की खरीदी करते दिखे। मेले में झूलों व खाने पीने की दुकानों पर दिनभर भीड़ की स्थित बनी रही।

एक किमी दूर फैले मेले में करीब 500 से अधिक दुकानें सजी। इनमें गुड़ जलेबी, गन्ना जूस, हार-कंगन, सेव, नमकीन, पान सहित अन्य खाद्य पदार्थों की दुकानों सहित खिलौनों, सजावट के सामान की दुकानें लगी।दूषित सामग्री की खरीदी बिक्री रोकने के लिए खाद्य व औषधी विभाग के अधिकारियों ने भोंगर्या हाट के दौरान सात दुकानों पर सैंपलिंग की। विभाग प्रभारी एचएल अ‌‌वास्या ने बताया भोंगर्या हाट में जलेबी, मैदा, सेव, गड़िया, आलू मिठाई सहित सात खाद्य सामग्री के सैंपल लिए गए। इनकी जांच के लिए भोपाल लैब भेजे जाएंगे। उन्होंने बताया बलवाड़ी में लगे भोंगर्या हाट में भी सैंपलिंग की गई। यहां से सात दुकानों से सैंपल लिए गए। इसके अलावा राजपुर में भी भोंगर्या हाट में तीन दुकानों से सैंपल लिए।

भोंगर्या हाट में झूलों का आनंद लेते युवा व महिलाएं।

इधर, भोंगर्या हाट पर खूब हुई खरीदी, सांसद भी नाचे

राजपुर | नगर में गुरुवार को भोंगर्या हाट लगा। इसमें आसपास के गांवों से हजारों की संख्या में आदिवासी समाजजन पारंपरिक वेशभूषा में ढ़ोल मांदल के साथ शामिल हुए। मांदल की थाप पर नृत्य किया। इस दौरान सांसद सुभाष पटेल व पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष अंतरसिंह पटेल ने आदिवासियों के साथ डांस कर भोंगर्या पर्व का आनंद लिया। इस दौरान टोलियों ने मिलने पूर्व जिला अध्यक्ष ओम सोनी, हुकुमचंद्र गुप्ता, नगर परिषद अध्यक्ष पप्पू कुशवाह, उपाध्यक्ष अभय जैन, जीतू यादव, कपिल यादव पहुंचे। इस दौरान सैकड़ों आदिवासी मौजूद थे।

मांदल की थाप पर डांस करते सांसद व आदिवासी समाजजन।

शराब पर रहा प्रतिबंध

इस बार भोंगर्या हाट में शराब पर पूरी तरह से प्रतिबंध रहा। युवा बिना नशा करे हुए मेले का आनंद लेेते नजर आए। साथ ही पारंपरिक परिधान के साथ युवा जींस, टीशर्ट व युवतियां सलवार सूट पहने नजर आई। हाट में आसपास गांव आवली, सावरियां पानी, चौकी, बोकराटा, लिंबी, गूड़ी, वेरवाड़ा, बमनाली, रोसर, चेरवी, सेमलेट, सागबारा, रोसमाल, अजराड़ा, औसाड़ा, सेमली, पोसपुर, वलन, पलवट, ठेंग्चा, मोसवाड़ा, गंधावल, डोगर गांव, रानीपूरा, कालाखेत, रामगड़ सहित अन्य गांवों से लोग पहुंचे।

X
15 गांव से पहुंचे हजारों लोग, छह ढोल व दो मांदल भी आए
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..