रतलाम

  • Hindi News
  • Mp
  • Ratlam
  • परिंदों में फिरकापरस्ती नहीं, कभी मंदिर तो कभी मसजिद पर बैठते
--Advertisement--

परिंदों में फिरकापरस्ती नहीं, कभी मंदिर तो कभी मसजिद पर बैठते

नाहर सैयद दरगाह उर्स के समापन पर मेले में कव्वाली हुई। इसमें बनारस के प्रसिद्ध कव्वाल अशोक जख्मी, लखनऊ की कव्वाल...

Dainik Bhaskar

Mar 04, 2018, 03:00 AM IST
परिंदों में फिरकापरस्ती नहीं, कभी मंदिर तो कभी मसजिद पर बैठते
नाहर सैयद दरगाह उर्स के समापन पर मेले में कव्वाली हुई। इसमें बनारस के प्रसिद्ध कव्वाल अशोक जख्मी, लखनऊ की कव्वाल टीना परवीन ने रात 11 बजे प्रस्तुति शुरू की। जख्मी व परवीन ने अपने-अपने अंदाज में समां बांधा। इससे अलसुबह तक श्रोता जमे रहे। जख्मी ने सांप्रदायिकता पर प्रहार करते हुए कहा कि परिंदों में फिरकापरस्ती नहीं, कभी मंदिर पर तो कभी मसजिद पर जा बैठते हैं। कार्यक्रम के शुरू में भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता हिदायत उल्लाह शेख, हजरत सूफी तौफिक बाबा बांसवाड़ा, भाजपा प्रदेश महामंत्री बंशीलाल गुर्जर, विधायक यशपालसिंह सिसौदिया, नपाध्यक्ष प्रहलाद बंधवार ने भी विचार व्यक्त किए।

नाहर सैयद उर्स

कौमी एकता दरगाह पर आयोजित उर्स में कव्वाली मुकाबले में कव्वाल अखोक जख्मी में एक से बढ़कर एक कलाम पेश कर समां बांधा

दरगाह परिसर में उर्स के समापन के दौरान कलाम पेश करते हुए कव्वाल।

खिड़की माता मंदिर मेला : तैयारियों का लिया जायजा

मंदसौर | नपा द्वारा 8 मार्च को शीतला सप्तमी पर खिड़की माता मंदिर परिसर में मेला लगाया जाएगा। शनिवार को नपाध्यक्ष प्रहलाद बंधवार ने नपा अमले के साथ व्यवस्थाओं का जायजा लिया। अधिकारियों को दिशा-निर्देश दिए। नपाध्यक्ष ने कर्मचारियों से कहा कि सभी व्यवस्थाओं में जुट जाएं। सोमवार तक परिसर में सफाई व पेयजल की पर्याप्त व्यवस्था करें। लोग घर से भोजन लाकर यहां करते हैं। उनके लिए टेंट लगाकर छाया की व्यवस्था करें। शिवना नदी में लाइफ गार्ड व रस्सियों की व्यवस्था सुनिश्चित करें। बंधवार ने पार्किंग सहित अन्य व्यवस्था के निर्देश दिए। बंधवार ने बताया कि मंदिर में 8 मार्च सुबह 11.30 बजे दिल्ली के भजन गायक मनोज रिया प्रस्तुति देंगे। सभापति नरेंद्र बारिया, गुड्‌डू गढ़वाल, यशवंत भावसार, भारत कोठारी, शंभूसेन राठौर, स्वास्थ्य अधिकारी के.जी. उपाध्याय, मेला लिपिक राजेंद्र नीमा सहित कई कर्मचारी मौजूद थे।

अधिकारियों को दिशा-निर्देश देते नपाध्यक्ष।

X
परिंदों में फिरकापरस्ती नहीं, कभी मंदिर तो कभी मसजिद पर बैठते
Click to listen..