रतलाम

  • Home
  • Mp
  • Ratlam
  • आज 6 कॉलोनियों के रहवासी मवेशी पकड़ेंगे और शाम 4 बजे नगर निगम परिसर में बांध देंगे
--Advertisement--

आज 6 कॉलोनियों के रहवासी मवेशी पकड़ेंगे और शाम 4 बजे नगर निगम परिसर में बांध देंगे

सड़कों से लेकर जिला अस्पताल तक हर जगह आवारा मवेशियों का राज है। वे जिसे चाहे टक्कर मार कर घायल कर रहे हैं, रौंद रहे...

Danik Bhaskar

Apr 02, 2018, 04:30 AM IST
सड़कों से लेकर जिला अस्पताल तक हर जगह आवारा मवेशियों का राज है। वे जिसे चाहे टक्कर मार कर घायल कर रहे हैं, रौंद रहे हैं। मवेशियों के हमले में घायल सुयोग परिसर व विरियाखेड़ी के दो लोग हाल ही में अपनी मौत को नजदीक से देख भी चुके हैं। बवजूद नगर निगम का नाकारा और असंवेदनशील अमला हाथ पर हाथ बैठा है। इससे पूरा शहर गुस्से में। छह कॉलोनियों के गुस्साए रहवासियों ने सोमवार को खुद ही आवारा मवेशी पकड़कर नगर निगम ले जाकर बांधने का निर्णय लिया है। निगम कमिश्नर व एसडीएम को ज्ञापन भी देंगे।

27 मार्च को सुयोग परिसर निवासी प्रमोद सोनी व विरियाखेड़ी निवासी बर्नाड एब्रो उर्फ जॉनी को मवेशी ने टक्कर मारकर घायल कर दिया था। दोनों को जिला अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा। इससे नाराज सुयोग परिसर के लोगों ने शुक्रवार को मवेशी पकड़े और नगर निगम के अमले के हवाले किए। शनिवार को भी मवेशी पकड़े लेकिन निगम के कर्मचारी उन्हें लेने तक नहीं पहुंचे। हद तो तब हो गई जब सभी जिम्मेदारों ने एक-दूसरे के पाले में गेंद उछालकर अपनी बेशर्मी जाहिर कर दी। इसने आग में घी का काम किया है और सुयोग परिसर सहित आसपास की छह काॅलोनियों के रहवासियों के गुस्से को और भड़का दिया है। सुयोग परिसर विकास समिति अध्यक्ष देवेंद्र मिश्रा ने बताया कॉलोनीवासी खुद ही आवारा मवेशियों को पकड़कर सोमवार शाम 4 बजे नगर निगम ले जाकर बांधेंगे। इसके बाद नगर निगम कमिश्नर एसके सिंह और एसडीएम अनिल भाना को ज्ञापन भी सौंपा जाएगा। फिर आवारा मवेशियों की समस्या हल नहीं हुई तो आंदोलन किया जाएगा।

इन कॉलोनियों के रहवासी हुए आवारा मवेशियों की समस्या के खिलाफ मुखर

कर्मचारी कॉलोनी में एक जगह इस तरह मवेशी बैठे हैं जो अचानक उठकर कभी भी हादसे का कारण बन सकते है।

कहां, कितने घर

210 सुयोग परिसर

75 मनीष नगर

97 सुरभि परिसर

132 स्नेह नगर

234 मुखर्जी नगर

80 शिवम् नगर

विरियाखेड़ी में 50 से ज्यादा घरों में खूंटे, मवेशी दिनभर घूमते हैं, रात को बांध लेते

शहर के विरियाखेड़ी क्षेत्र के 50 से ज्यादा घरों में तो मवेशियों के खूंटे भी गड़े हुए हैं। इन घरों में 300 से अधिक मवेशी हैं। पशुपालकों द्वारा इन्हें सुबह दूध निकालने के बाद ही छोड़ दिया जाता है। दिनभर बाजार में घूमने के बाद शाम को पुन: लौटने पर खूंटों पर बांध दिए जाते हैं। कई घरों के आगे तो पक्के बाड़े तक बने हैं।

सरकारी स्कूल परिसर को ही बना दिया तबेला, बेखौफ बांधे जा रहे है मवेशी

सरकारी माध्यमिक विद्यालय विरियाखेड़ी में पशु पालकों ने मवेशी बांध रखे हैं। यहां मवेशी मालिकों का कब्जा होने के बाद भी स्कूल प्रबंधन ध्यान नहीं दे रहा। बताया जा रहा है कि लोगों ने खुद ही मवेशी पकड़ना शुरू किया है इससे मालिकों ने स्कूल परिसर में ही मवेशी बांधने शुरू कर दिए। दो दिन पहले तक ये दिनभर शहर की सड़कों पर घूमते रहते थे।

किराने का सामान लेकर घर लौट रहे थे, मवेशी ने टक्कर मारकर गिराया, सीने में सींग भी गड़ा दिया

27 मार्च को सुयोग परिसर के प्रमोद निगम को घायल कर दिया था। उन्हीं की तरह मुखर्जी नगर में विरियाखेड़ी के बर्नाड एब्रो उर्फ जॉनी (45) भी आवारा मवेशी के हमले का शिकार बने। जाॅनी बताते हैं वे सुबह किराने का सामान लेकर घर जा रहे थे। घर से कुछ पहले ही एक मवेशी ने मुझे टक्कर मारकर गिरा दिया। उसने सीने में सींग भी गड़ा दिए थे।

सुयोग परिसर विकास समिति अध्यक्ष देवेंद्र मिश्रा, स्नेहनगर विकास समिति अध्यक्ष धन्नालाल पुरोहित, मनीष नगर समिति अध्यक्ष डॉ. आनंदीलाल शर्मा, सुरभि परिसर की प्रेरणा चौहान, मुखर्जी नगर विकास समिति अध्यक्ष नरेंद्रसिंह सिसौदिया व शिवम् परिसर रमेश सिसौदिया का कहना है कि जिम्मेदारों ने अपनी निष्क्रियता साबित कर दी है। अब उनसे कोई उम्मीद नहीं की जा सकती। इसलिए अब खुद ही आवारा मवेशी पकड़ने का निर्णय लिया है।

Click to listen..