रतलाम

  • Home
  • Mp
  • Ratlam
  • इस संसार में आत्मा का अस्तित्व भी अनादिकाल से है : साध्वी दिव्यप्रज्ञा
--Advertisement--

इस संसार में आत्मा का अस्तित्व भी अनादिकाल से है : साध्वी दिव्यप्रज्ञा

यह संसार अनादिकाल से है और अनंतकाल तक रहने वाला है। इस संसार में आत्मा का अस्तित्व भी अनादिकाल से है। इस अनंत संसार...

Danik Bhaskar

Mar 02, 2018, 05:05 AM IST
यह संसार अनादिकाल से है और अनंतकाल तक रहने वाला है। इस संसार में आत्मा का अस्तित्व भी अनादिकाल से है। इस अनंत संसार में आत्मा ने अनंत भव किए हैं। हर जन्म में आत्मा ने जन्म, जरा और मृत्यु की पीड़ा सहन की है। उस पीड़ा से सर्वथा मुक्ति पाने के लिए एक मात्र धर्म ही श्रेष्ठ उपाय है।

यह बात चौमासी चौदस पर साध्वी दिव्यप्रज्ञाश्रीजी ने पोरवाड़ों का वास स्थित आराधना भवन में कही। उन्होंने कहा विशाल समुद्र में चारों ओर पानी ही पानी होता है। उस सागर में महाभयंकर जलचर प्राणी होते हैं। परंतु जिस व्यक्ति ने द्वीप का आश्रय लिया होता है, उसे समुद्र के जल अथवा जलचर प्राणियों का किसी भी प्रकार का भय नहीं रहता है। इसी प्रकार महासागर समान इस भीषण संसार में जिस आत्मा ने जिनेश्वर परमात्मा द्वारा निर्विष्ट धर्म की शरण स्वीकार कर ली हो उसे किसी भी प्रकार का भय नहीं रहता। धर्म की शरण स्वीकार करने वाली आत्मा इस संसार में सर्वथा निर्भय रहती है। समाज के विजय कुमार लुनिया ने बताया इस दौरान कई समाजजन ने उपवास, आयंबिल व एकासने किए। इस दौरान बड़ी संख्या में श्रद्धालु मौजूद थे।

Click to listen..