• Hindi News
  • Mp
  • Ratlam
  • उच्च स्तरीय जांच की अनुशंसा कर सकती है समिति, सामान्य प्रशासन समिति प्रभारी के बयान के बिना अधूरी रिपोर्ट नहीं सौंपेंगे
--Advertisement--

उच्च स्तरीय जांच की अनुशंसा कर सकती है समिति, सामान्य प्रशासन समिति प्रभारी के बयान के बिना अधूरी रिपोर्ट नहीं सौंपेंगे

नवरात्रि मेले के सांस्कृतिक कार्यक्रम में हुए घोटाले की जांच सामान्य प्रशासन समिति प्रभारी के बयान के बिना अधूरी...

Dainik Bhaskar

Apr 01, 2018, 05:30 AM IST
नवरात्रि मेले के सांस्कृतिक कार्यक्रम में हुए घोटाले की जांच सामान्य प्रशासन समिति प्रभारी के बयान के बिना अधूरी है। अब आगे क्या कदम उठाया जाएगा, इसे लेकर जांच समिति के सदस्य अलग-अलग बात कर रहे हैं। परिषद सम्मेलन में आरोप लगाते हुए घोटाला उजागर करने वाले पार्षद अरुण राव अधूरी रिपोर्ट ही परिषद में रखने की तैयारी में हैं, वहीं पार्षद सीमा टांक इसके विरोध में हैं। उनका कहना है सामान्य समिति प्रभारी के बयान के बिना अधूरी रिपोर्ट किसी भी हालत में सदन में पेश नहीं करेंगे। उनके बयान नहीं होने पर संभाग या राजधानी स्तर की उच्च स्तरीय जांच की अनुशंसा की जाएगी। अंतिम निर्णय के लिए अब जांच समिति की 2 अप्रैल बाद होगी। मालूम हो कि 21 से 30 सितंबर तक के नवरात्र मेले के छह कार्यक्रम टेंडर में निम्न दर आने के बावजूद उच्च दर वालों से करवाए गए थे। इससे इनकी राशि 5.57 लाख रुपए बढ़ गई थी। आरोप लगने के बाद फिलहाल सभी आयोजकों का भुगतान रोक दिया है।

माया सिंह तक पहुंची शिकायत

नवरात्रि मेले के कार्यक्रमों को लेकर चल रही जांच की शिकायत नगरीय प्रशासन एवं विकास मंत्री माया सिंह तक पहुंच गई है। गुरुवार रात यहां आईं मंत्री के सामने मुद्दा उठने पर उन्होंने अधिकारियों से पूछताछ भी की। इसमें अधिकारियों ने स्पष्ट कर दिया है कि परिषद सम्मेलन में मामला उठा था।

बरबड़ मेले को लेकर भी शिकायत

नवरात्रि मेले के बाद अब बरबड़ हनुमान मंदिर परिसर में आयोजित हुए मेले के कार्यक्रमों को लेकर भी शिकायतों का दौर शुरू हो चुका है। जेएम म्यूजिकल ग्रुप के महेंद्र सिंह राठौर ने कलेक्टर को लिखित शिकायत करते हुए बताया कि नगर निगम ने टेंडर जारी किए थे, जिसमें आर्केस्ट्रा के लिए 45000 रुपए का ऑफर दिया था। बावजूद इसके निगम ने 65000 रुपए का ऑफर देने वाली फर्म का ऑफर स्वीकार कर लिया।

अधूरी रिपोर्ट नहीं देंगे


जिम्मेदारों के खिलाफ कार्रवाई होना चाहिए।


जैसा सदन फैसला करे


X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..