Hindi News »Madhya Pradesh »Ratlam» 52 दुकानों की जांच शुरू नहीं, 2 में एफआईआर तक नहीं, निगम पहुंचे टीआई तो शाखा प्रभारी ही नहीं मिले

52 दुकानों की जांच शुरू नहीं, 2 में एफआईआर तक नहीं, निगम पहुंचे टीआई तो शाखा प्रभारी ही नहीं मिले

10 करोड़ का राशन घोटाला सामने आने के बाद भी जिला प्रशासन ने बाकी 52 राशन दुकानों की जांच ठंडे बस्ते में डाल दी है। इस तरह...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 02, 2018, 06:25 AM IST

10 करोड़ का राशन घोटाला सामने आने के बाद भी जिला प्रशासन ने बाकी 52 राशन दुकानों की जांच ठंडे बस्ते में डाल दी है। इस तरह अधिकारी राशन दुकान संचालकों को फायदा पहुंचाने में जुटे हैं। यही नहीं दो दुकानों की जांच टीम ने सौंप दी, इसके बाद भी एसडीएम एफआईआर कराने के बजाय जांच पूरी नहीं होने की बात कह रहे हैं। 8 दुकानों की जांच में 10 करोड़ का घोटाला सामने आने के बाद भी बाकी दुकानों की जांच कराने में अधिकारी टालमटोल कर रहे हैं। इधर, स्टेशन रोड थाना टीआई अजय सारवान टीम के साथ 8 दुकानों के खिलाफ हुई एफआईआर के मामले में दस्तावेज लेने नगर निगम पहुंचे। उन्होंने कमिश्नर से मुलाकात की और शाखा प्रभारियों के बारे में पूछा लेकिन कोई नहीं मिला।

पिछले साल फरवरी में भास्कर ने राशन घोटाला उजागर किया था। जांच के बाद कलेक्टर ने मार्च में गांधी नगर की एक राशन दुकान पर छापा मारा, एफआईआर हुई। फिर राशन दुकानों की जांच शुरू हुई लेकिन कलेक्टर का तबादला होने से मामला ठंडा पड़ गया। नई कलेक्टर ने आने के बाद इसमें कोई रुचि नहीं ली। पिछले महीने 13 जनवरी को एसडीएम अनिल भाना ने जिला आपूर्ति अधिकारी आरके जांगीड़ सहित खाद्य विभाग के तीन और नगर निगम के तत्कालीन स्वास्थ्य अधिकारी राजेंद्र पंवार के साथ निगम के दो अधिकारियों, पोर्टल ठेकेदार यशवंत गंग व आठ दुकानों के विक्रेता-सहयोगी के खिलाफ एफआईआर कराई। टीआई अजय सारवान ने नगर निगम कमिश्नर को पत्र लिखकर दस्तावेज मांगे लेकिन जब नहीं मिले तो बुधवार को वे खुद निगम पहुंच गए। उन्होंने कमिश्नर एसके सिंह से मुलाकात की। कमिश्नर सिंह ने उन्हें जल्दी ही दस्तावेज उपलब्ध कराने की बात कही। टीआई ने राशन कार्ड शाखा में जाकर प्रभारी कुलदीप भट्ट और समग्र आईडी शाखा में पहुंचकर प्रभारी जगदीश पांचाल को भी तलाश किया। दोनों नहीं मिले। सहयोगियों ने बताया दोनों लंच में गए हैं। टीआई ने चेतावनी दी कि ये दोनों थाने आकर मिल लें और बयान के साथ जरूरी दस्तावेज उपलब्ध कराएं नहीं तो दोनों को धारा 91 का नोटिस देकर थाने लाया जाएगा।

नगर निगम में पूछताछ, जांगड़े की मंदसौर और बबेरिया की उज्जैन में तलाश

नगर निगम में राशन कार्ड शाखा प्रभारी के बारे में पूछते टीआई अजय सारवान।

विक्रेता-सहयोगियों की गिरफ्तारी होगी

स्टेसन रोड थाने के टीआई अजय सारवान ने बताया राशन की आठों दुकानों के विक्रेता और सहयोगियों के नाम मिल गए हैं। इनके खिलाफ भी नामजद एफआईआर दर्ज करने के साथ ही इनकी गिरफ्तारी के प्रयास भी शुरू किए जाएंगे।

10 दुकानों की जांच कर रहे हैं

दो दुकानों की जांच पूरी नहीं हुई है, इसलिए एफआईआर नहीं कराई। दस दुकानों की जांच हम कर रहे हैं लेकिन अभी नाम नहीं बता सकते। जल्दी ही इनके खिलाफ भी एफआईआर कराएंगे। अनिल भाना, एसडीएम

राशन घोटाले के आरोपी जिला आपूर्ति अधिकारी रमेशचंद्र जांगड़े के मंदसौर में होने और खाद्य विभाग की कनिष्ठ आपूर्ति अधिकारी वंदना बबेरिया के उज्जैन में होने की जानकारी होने पर पुलिस वहां तलाश में गई है। टीआई सारवान ने बताया सभी आरोपियों की तलाश की जा रही है। इनके स्थानीय निवास पर ताले लगे हैं।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Ratlam

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×