• Hindi News
  • Mp
  • Ratlam
  • डीएलएड के स्टडी केंद्रों में किया बदलाव, तैयारी के लिए शिक्षकों को अब 150 किमी दूर नहीं जाना पड़ेगा
--Advertisement--

डीएलएड के स्टडी केंद्रों में किया बदलाव, तैयारी के लिए शिक्षकों को अब 150 किमी दूर नहीं जाना पड़ेगा

डीएलएड की तैयारी के लिए शिक्षकों को अब 100-150 किमी दूर नहीं जाना पड़ेगा। वजह अध्ययन केंद्रों में बदलाव करना है। राज्य...

Dainik Bhaskar

Feb 02, 2018, 06:25 AM IST
डीएलएड की तैयारी के लिए शिक्षकों को अब 100-150 किमी दूर नहीं जाना पड़ेगा। वजह अध्ययन केंद्रों में बदलाव करना है। राज्य शिक्षा केंद्र भोपाल के निर्देश पर केंद्रों में बदलाव किया है। नए केंद्रों की सूची जारी कर दी है।

निजी स्कूलों में पढ़ाने वाले शिक्षकों के लिए केंद्र सरकार ने 2019 तक डीएड और बीएड अनिवार्य कर दिया है। इसके बाद कोई भी शिक्षक स्कूलों में नहीं पढ़ा सकेगा। शिक्षकों को डीएड करने में परेशानी ना हो इसके लिए सरकार शिक्षकों को डीएलएड करा रही है। तैयारी के लिए 38 अध्ययन केंद्र बनाए हैं लेकिन कई शिक्षकों का अध्ययन केंद्र 90 किमी दूर आलोट हो गया था। केंद्रों पर दो दिन शनिवार और रविवार को स्टडी होना थी। इससे शिक्षकों को परेशानी हो रही थी। खासकर महिला शिक्षकों को। इस पर केंद्र में बदलाव की मांग की जा रही थी। इस पर नोडल विभाग ने इसकी जानकारी राज्य शिक्षा केंद्र को दी थी और केंद्र में बदलाव की गुजारिश की थी। उनके निर्देश पर बदलाव कर दिया है। अब शिक्षकों का अध्ययन केंद्र ब्लॉक में ही रहेगा। ब्लॉक में सीटें फुल होने पर पास के ब्लॉक में रहेगा। इससे ज्यादा दूरी पर अध्ययन केंद्र नहीं रहेगा।

डीएलएड पर नजर





25 किमी दूर से ज्यादा केंद्र नहीं रहेंगे

जिला नोडल अधिकारी रामेश्वर चौहान ने बताया कई टीचर का अध्ययन केंद्र ज्यादा दूरी पर हो गया था। कई के केंद्र 90 किमी से ज्यादा दूरी पर हो गए थे। इसकी जानकारी मिलने पर शिक्षा केंद्र को अवगत कराया था। उनके निर्देश के आधार पर केंद्रों में बदलाव किया है।

...इधर डीएलएड परीक्षा के लिए बाजना के शिक्षकों को दे दिए ताल-आलोट के सेंटर

बाजना | शासन द्वारा आयोजित डिप्लोमा इन एलिमेंट्री एजुकेशन(डीएलएड) परीक्षाओं के जिले में बनाए गए केंद्रों को लेकर विद्यार्थियों के बीच असमंजस की स्थिति बन गई है। राष्ट्रीय मुक्त विद्यालयी शिक्षा संस्थान द्वारा इस परीक्षा के लिए ऑनलाइन फॉर्म जमा करवाए गए थे। आवेदन जमा किए जाने के दौरान परीक्षा केंद्र संबंधी कोई विकल्प नहीं दिया था। अब जब परीक्षार्थियों के प्रवेश पत्र जारी हुए तो पता चला कि बाजना के परीक्षार्थियों को आलोट, बढ़ावदा, ताल, बिरमावल और अन्य जगहों के केंद्र दे दिए हैं। परीक्षार्थी नीरज वर्मा, रीना वर्मा, खुशबू पंवार, रेखा बैरागी का कहना है कि 3 फरवरी से कक्षाएं शुरू होने जा रही हैं। माह में 15 दिन कक्षाएं संचालित होंगी। ऐसे में बाजना से दूरस्थ केंद्रों तक पहुंचना विद्यार्थियों के लिए परेशानी बढ़ाने जैसा होगा। इन विद्यार्थियों ने परीक्षा केंद्र के लिए स्थानीय सेंटर की मांग की है।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..