• Home
  • Mp
  • Ratlam
  • 7 घंटे में चैक की 36 लोकेशन, रहवासी बोले-अभी तो सफाई हो रही है, कचरा गाड़ी कभी-कभी नहीं आती है
--Advertisement--

7 घंटे में चैक की 36 लोकेशन, रहवासी बोले-अभी तो सफाई हो रही है, कचरा गाड़ी कभी-कभी नहीं आती है

शहर की मैदानी सफाई की परीक्षा बुधवार से शुरू हुई। केंद्र से आए टीम सदस्य नीतेश सिंह राठौड़ व योगेश खरे ने करीब 7...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 07:25 AM IST
शहर की मैदानी सफाई की परीक्षा बुधवार से शुरू हुई। केंद्र से आए टीम सदस्य नीतेश सिंह राठौड़ व योगेश खरे ने करीब 7 घंटे में 36 से ज्यादा लोकेशन चैक की। फोटो लेकर सीधे दिल्ली मुख्यालय भेजे। फीडबैक में ज्यादातर रहवासी बोले अभी सफाई अच्छी हो रही है। कचरा लेने वाली गाड़ी आ रही है, कभी-कभी नहीं आती। निगम का पूरा अमला अलर्ट मोड पर रहा, प्रमुख चौराहों और स्थानों पर सफाई कर्मचारियों की टोली के साथ तैनात अधिकारी दिनभर सफाई करवाते रहे। चार दिन यानी होली बाद तक चलने वाले स्वच्छ सर्वेक्षण में 49 वार्डों की 125 से ज्यादा लोकेशन चैक की जाएगी। 400 लोगों का फीडबैक भी लेंगे। सुबह 10.45 बजे टीम सदस्य नीतेश सिंह सिटी इंजीनियर सुरेश व्यास और सहायक यंत्री श्याम सोनी के साथ सर्वे करने निकले। शुरुआत राजेंद्र नगर से हुई।

कुम्हारीपुरा में सफाई की स्थिति को ऑनलाइन अपलोड करते नीतेश।

सफाई कर्मचारियों से भी टीम सदस्यों ने पूछताछ की

दीनदयालनगर में ड्रेस पहनकर कर सफाई कर रहे राजेंद्र के पहले टीम ने फोटो लिए फिर पूछा ड्रेस नगर निगम ने दी या खुद ने खरीदी। राजेंद्र बोले निगम ने। हमेशा पहन कर ही काम करते हो, वो बोले हां, जब से मिली है, तब से। इसी तरह रतनेश्वर रोड पर कर्मचारी मुकेश बाबूलाल का ड्रेस से भी सफाई के बारे में पूछा। दोनों के आधार कार्ड के फोटो भी लिए।

ऐसा चला स्वच्छ सर्वेक्षण

राजेंद्रनगर मेन रोड जहां बड़ी संख्या में कुत्ते बैठे रहते थे, टीम जब पहुंची तो एक भी कुत्ता नहीं था। निगम अमले ने जगह साफ कर कीटनाशक छिड़ककर गमले रख दिए थे। नीतेश सिंह ने उस स्थान व आसपास की गलियों के फोटो लिए। एक किराना दुकान पर जाकर सामान खरीद रही अनुराधा परिहार से पूछा रोजाना सफाई होती है। हां में जवाब आने पर कचरा संग्रहण वाहन के बारे में पूछा तो बोली रोजाना आ रहे हैं।

धनजीभाई का नोहरा- पहले ही सूचना मिलने से बैठे कर्मचारियों में एक-एक पन्नियां, कागजों के टुकड़े, गोबर तक उठाना शुरू कर दिया था। टीम सदस्य के सामने भी कर्मचारी झाड़ू लगाते और दवाई छिड़कते रहे। यहां डंपिंग स्थानों को खत्म करके किए गए सौंदर्यीकरण, नालियों और गलियों के फोटो लेने के बाद मकान के बाहर खड़े नीलेश सोनी से पूछा कचरा स्थान कहां है। हाथ से इशारा कर बोले यहां था, अब नहीं रहा।

डालूमोदी बाजार- यहां निगम के अधिकारी सुबह से खड़े होकर सफाई करवा रहे थे। टीम ने पहुंचकर चारों सड़क के फोटो लिए फिर यादव रेस्टोरेंट पहुंचकर अनिल यादव से पूछा रोजाना सफाई हो रही है या नहीं। उन्होंने हां में सिर हिला दिया। कचरा कहां डालते हो, अनिल बोले गाड़ी में। श्रीराम पान कॉर्नर के राजेश राठौड़ से चौराहे की सफाई के बारे में पूछा तो उन्होंने बताया अभी तो हो रही है। अनिल व राजेश के फोटो व आधार कार्ड के फोटो लेकर दिल्ली भेजे।

सर्वे टीम ने कहां, क्या देखा

कचरा स्थान खत्म -
राजेंद्र नगर, धनजीबाई का नोहरा, अमृतसागर कॉलोनी, हरमाला रोड फूल मंडी।

सुलभ व पब्लिक टॉयलेट - बाजना बस स्टैंड, मोमिनपुरा, त्रिपोलिया गेट, त्रिवेणी मुक्तिधाम, हाकिमवाड़ा, धभाईजी का वास, करमदी रोड।

कंपोस्ट पैड से खाद - जैन कॉलोनी, मानस भवन बगीचा, र|ेश्वर रोड बगीचा।

सफाई व पब्लिक फीडबैक - घासबाजार, चौमुखीपुल, बोहरा बाखल, गोशाला रोड, कुम्हारी पुरा, ईश्वरनगर, सुभाषनगर, दिनदयाल नगर, बोहरा बाखल मसजिद क्षेत्र, तोपखाना, बजाज खाना, कुम्हारी पुरा, डालूमोदी बाजार, माणकचौक, रामगढ़, जूनी कलाल सेरी व अन्य।

दिल्ली से मिल रहे निर्देश