• Home
  • Mp
  • Ratlam
  • दो दिनी कॅरियर मेले में 33 कंपनियां आईं, 604 युवाओं को मिले जॉब लेटर
--Advertisement--

दो दिनी कॅरियर मेले में 33 कंपनियां आईं, 604 युवाओं को मिले जॉब लेटर

कॅरियर मेले के समापन पर उपस्थित स्टूडेंट और अन्य। इनसेट : संबोधित करते मेजर। भास्कर संवाददाता | रतलाम शासकीय...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 07:25 AM IST
कॅरियर मेले के समापन पर उपस्थित स्टूडेंट और अन्य। इनसेट : संबोधित करते मेजर।

भास्कर संवाददाता | रतलाम

शासकीय कला एवं विज्ञान महाविद्यालय में चल रहे दो दिनी करियर मेले का बुधवार को समापन हुआ। नौकरी ढूंढ रहे युवाओं के लिए मेला शानदार रहा और 604 युवाओं को जॉब लेटर मिल गए। समापन पर युवाओं को अतिथियों ने करियर बनाने के टिप्स दिए।

शासकीय कला एवं विज्ञान महाविद्यालय और जिला रोजगार कार्यालय के संयुक्त तत्वावधान में मेला मंगलवार से शुरू हुआ। इसमें से इप्का लेबोरेटरी, भारत फर्टिलाइजर, शिवशक्ति सहित जानी मानी 33 कंपनियां शामिल हुईं। पहले दिन 1200 और दूसरे दिन 757 युवा शामिल हुए। इसमें से 604 को जॉब के लेटर मिल गए।

21 वीं बटालियन के सूबेदार मेजर रतनसिंह ने सशस्त्र बलों में रोजगार कैसे प्राप्‍त कर सकते हैं। इसकी जानकारी दी। उन्होंने कहा शिक्षा एक ऐसा हथियार है जो सबसे अच्‍छा रोजगार दिला सकता है। आर्मी में चयन के लिए लगन, अनुशासन, समर्पण, नैतिक मूल्य, जोश, जुनून, निडरता, मेहनत, ईमानदारी तथा विपरीत परिस्थितियों में कार्य करने की क्षमता जैसे गुण आवश्यक है। एमबी वाइनरी के जितेंद्र पाटीदार ने बताया एक उद्यमी बनने के लिए आप में जोखिम उठाने का साहस व कार्य करने की लगन होनी चाहिए। तभी आप लक्ष्य तक पहुंच सकते हैं। मेरे पास न तो जानकारी, न पूंजी और नहीं अनुभव उपलब्ध थे। केवल था तो एक सोच और जज्बा कि यह किया जा सकता है और इस आधार पर आज मैं एक सफल उद्यमी बन पाया। एरोकेम इंडस्‍ट्री के डायरेक्‍टर मिलन पटेल ने बताया किसी भी उद्योग की सफलता जुनून, धैर्य एवं निरंतरता से होती है। आप अपना कोई आर्दश चुनें और उससे प्रेरणा लेकर अपने मुकाम तक पहुंचें। अतिथियों का स्‍वागत महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ. संजय वाते एवं मेला संयोजक डॉ. स्‍वाति पाठक ने किया। सरस्वती वंदना छात्र संजय राठौर ने प्रस्तुत की। जिले के महाविद्यालयों के कॅरियर मेला अधिकारी व बड़ी संख्या में छात्र-छात्राएं उपस्थित रहे। संचालन ट्रेनिंग एवं प्लेसमेंट अधिकारी डॉ. दिनेश बौरासी ने किया। आभार डॉ. स्वाति पाठक ने माना।