• Home
  • Mp
  • Ratlam
  • अप्रैल-मई में जब सब कुछ सूख जाता है, तब भी बहता रहता है यह झरना
--Advertisement--

अप्रैल-मई में जब सब कुछ सूख जाता है, तब भी बहता रहता है यह झरना

डबलचौकी | यहां से करीब 135 किमी दूर पुनासा के घने जंगलों में बसा प्राचीन कनेरीधाम जयंती माता का मंदिर दूर-दूर से आने...

Danik Bhaskar | Apr 02, 2018, 04:50 AM IST
डबलचौकी | यहां से करीब 135 किमी दूर पुनासा के घने जंगलों में बसा प्राचीन कनेरीधाम जयंती माता का मंदिर दूर-दूर से आने वाले श्रद्धालुओं की आस्था का केंद्र है। यहीं बहने वाला झरना प्रकृति का अनोखा उपहार है, क्योंकि यह आकर्षक है और अप्रैल-मई की गर्मी में जब नदी-तालाब-बोरिंग सबकुछ सूख जाते हैं, यह झरना कल-कल बहता रहता है। इसका पानी ठंडा और साफ है। यहां जाने के लिए जंगल पार करना होता है। यहां मार्ग बनाने की तैयारी है। इसे देश-प्रदेश के पर्यटन नक्शे पर लाने के लिए जिला प्रशासन और वन विभाग ने खंडवा टूरिज्म प्लान बनाया है।

झरने का रहस्य

यहीं भैरव नाथ मंदिर में जाने के लिए झरने के बीच से गुजरना होता है क्योंकि झरने का पानी गुफा के द्वार पर गिरता है। माना जाता है भैरवनाथ के दर्शन करने जो भी जाता है झरने के वजह से शुद्ध होकर जाता है।