--Advertisement--

मध्यप्रदेश / रतलाम में श्रद्धालुओं के करोड़ों रुपए चुनाव आचार संहिता में फंसे



devotees millions rupee stranded in election code of conduct
X
devotees millions rupee stranded in election code of conduct

  • महालक्ष्मी मंदिर में रखे रुपए लौटाने पर प्रशासन की रोक
  • आभूषण और 50 हजार तक की राशि लौटा रहे है

Dainik Bhaskar

Nov 11, 2018, 03:21 AM IST

रतलाम. विधानसभा चुनाव में राशि का इस्तेमाल ना हो इसे देखते हुए रतलाम के महालक्ष्मी मंदिर में 50 हजार रुपए से ज्यादा रुपए लौटाने पर प्रशासन ने रोक लगा दी है। श्रद्धालुओं के करोड़ों रुपए अटक गए हैं। जिसने  रुपए जमा कराए हैं उन्हें दस्तावेज दिखाना होंगे। इस आधार पर रुपए वापस होंगे। यह पहला मौका है, जब इस तरह की रोक लगाई गई है। 

 

माणकचौक स्थित लक्ष्मी मंदिर पर हर साल परंपरानुसार दीपोत्सव पर महालक्ष्मी का करोड़ों रुपए  और आभूषणों से शृंगार किया जाता है। यह शृंगार धनतेरस से दीपावली तक रहता है। श्रद्धालुओं द्वारा दी जाने वाली राशि से मां लक्ष्मी का 
शृंगार कर राशि दीपावली के दूसरे दिन से संबंधितों को लौटाई जाती है। इस साल लक्ष्मी मां का शृंगार 125 करोड़ रुपए से किया गया। श्रद्धालुओं को राशि लौटाई जा रही थी।  इस बीच एसडीएम को सी विजिल एप पर मंदिर में रखे धन का चुनाव में दुरुपयोग होने की शिकायत मिली। शनिवार को उन्होंने  50 हजार से ज्यादा रकम लौटाने पर रोक लगा दी। प्रशासनिक अधिकारियों की मौजूदगी में अब रिकॉर्ड देखकर 50 तक की राशि लौटाई जाएगी। 

 

शाम को एसडीएम और तहसीलदार पहुंचे मंदिर : एसडीएम राहुल धोटे और तहसीलदार गोपाल सोनी शाम को मंदिर पहुंचे। पुजारी से राशि की जानकारी जुटाई। रजिस्टर देखा और फोटो खींचे। मंदिर में इतना धन कहां से आता है इसकी जानकारी ली। अब तक कितनी राशि लौटाई इस बारे में भी पूछताछ की है। 

 

50 हजार रुपए का नियम है : एसडीएम धोटे ने बताया एप पर शिकायत मिली कि मंदिर में बड़ी मात्रा में राशि रखी है। चुनाव में इसका उपयोग हो सकता है। इस आधार पर 50 हजार रु. से ज्यादा की रकम लौटाने पर पाबंदी लगा दी है। जिन्होंने मंदिर में 50 हजार से ज्यादा जमा कर रखे हैं। उनसे डॉक्यूमेंट मांगे जाएंगे। सोमवार से प्रशासनिक अधिकारी की मौजूदगी में संबंधितों को राशि लौटाई जाएगी।

Bhaskar Whatsapp
Click to listen..