सर्दी / मौसम में बदलाव से सीजन में तीसरी बार गिरा पाला, फसलाें पर फिर जमी बर्फ



धनिया की फसल में बर्फ जम गई है। धनिया की फसल में बर्फ जम गई है।
X
धनिया की फसल में बर्फ जम गई है।धनिया की फसल में बर्फ जम गई है।

  • अंचल में शीतलहर से अफीम व गेहूं की फसलें भी हुईं प्रभावित

Dainik Bhaskar

Feb 11, 2019, 10:42 AM IST

मंदसौर. मौसम में बदलाव के चलते फसलाें पर तीसरी बार पाले का कहर टूटा है। धनिये व चने की फसल पूरी तरह नष्ट हो चुकी है। वहीं तेज हवा चलने से अफीम व गेहूं की फसलें झुकने से किसान ज्यादा नुकसानी होने की आशंका है। हालांकि सोमवार को तापमान में कुछ सुधार हुआ है। शनिवार को न्यूनतम तापमान जहां 6 डिग्री था, वहीं रविवार को 8 डिग्री दर्ज हुआ। इसी तरह अधिकतम तापमान में भी दो डिग्री की तेजी आई है।

 

इस सीजन में कड़ाके की ठंड से तीसरी बार फसलें प्रभावित हुई हैं। इसके चलते गेहूं, चना, सरसों सहित अफीम फसलों पर असर पड़ा है। चना, रायड़ा व धनिया फसल पहले ही खराब हो चुकी थी। पिछले दिनों तापमान बढ़ने से इन फसलों का कुछ हिस्सा बचा था जिससे किसानों को लग रहा था कि फसलों से खेती की लागत निकल आएगी।

 

शनिवार-रविवार की रात तापमान में आई गिरावट के बाद खेतों में खड़ी फसलों के साथ ही कटाई कर रखी फसलें भी खराब हो गईं। रात के समय तेज हवा चलने से गेहूं व अफीम फसलें झुकने से भी किसान नुकसानी बता रहे हैं। उनका कहना है कि 10 दिन बाद अफीम फसल में चीरा लगने वाला है वहीं हवा चलने से पौधे का तना टूटने की कगार पर है तो गेहूं की कटाई भी अगले 10 दिनों में शुरू होने को है।

नीलगाय से परेशानी : खेतों में खड़ी फसलों को इन दिनों नीलगाय के झुंड नुकसान पहुंचा रहे हैं। किसानों को कहना है कि गेहूं की फसल पक कर तैयार ही हुई है और नीलगायें झुंड बनाकर खेतों घूम रही हैं जिससे फसलों को नुकसान हो रहा है।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना