• Hindi News
  • Mp
  • Ratlam
  • Farmers Payment millions of rupees every year in the crop insurance scheme, still not get profit

परेशानी / फसल बीमा योजना में किसान हर साल चुका रहे लाखों रुपए, फिर भी नहीं मिलता लाभ



Farmers Payment millions of rupees every year in the crop insurance scheme, still not get profit
X
Farmers Payment millions of rupees every year in the crop insurance scheme, still not get profit

  • प्रक्रिया जटिल होने से आती है दिक्कत
  • किसान बोले- हमें लूट रही सरकार 

Dainik Bhaskar

Jul 31, 2019, 01:01 PM IST

मंदसौर. प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत किसानों को पंजीयन कराने के बाद नुकसानी होने पर बीमा क्लेम की राशि लेने के लिए परेशान होना पड़ता है। इसका कारण योजना में लाभ लेने की प्रक्रियाएं जटिल होना हैं। ऋणी किसानों की प्रीमियम की राशि सीधे उनके लोन की राशि से कट जाती है। वहीं अऋणी किसान स्वेच्छा से फसल बीमा करवाते हैं। जिले की 108 कर्मिशयल व 104 सहकारी बैंकों से हर साल बीमा कंपनी को करीब 50 लाख से अधिक राशि प्रीमियम के रूप में किसानाें द्वारा दी जाती है। फसल की नुकसानी के बाद उसे बीमा क्लेम पास करवाने में परेशान होना पड़ता है। 


केंद्र व राज्य सरकार की संयुक्त फसल बीमा का योजना का लाभ लेने के लिए किसानों काे फसल नुकसानी बताना होती है। इसके लिए उसे संबंधित कृषि व राजस्व विभाग सहित बीमा कंपनी को सूचना देनी होती है। संबंधित अधिकारियों द्वारा किसान की फसल का आकलन न करते हुए क्रॉप कटिंग के आधार पर पूरे पटवारी हलके की नुकसानी देखी जाती है। यही नहीं 5 साल के फसल उत्पादन का औसत भी निकाला जाता है। 


धमनार निवासी किसान बद्रीलाल धाकड़ ने बताया कि 2018 में फसल बीमा का पंजीयन कराया था। फसल नुकसानी होने पर राजस्व व कृषि विभाग के अधिकारियों ने सर्वे किया था। बीमा क्लेम अब तक पास नहीं हो पाया है। इसके लिए संबंधित अधिकारियों से बात की तो उन्होंने स्पष्ट जानकारी नहीं दी। फसल बीमा के लिए अधिकृत आईसीआईसीआई लोम्बार्ड के अधिकारियों से जानकारी ली तो उन्होंने कहा अब बीमा का काम रिलायंस कंपनी कर रही है इसलिए बीमा वही देगी।


रिलायंस कंपनी के अधिकारियों ने मामला दूसरी कंपनी का होने से कार्रवाई करने से इनकार कर दिया। जिले में हर साल ऋणी किसानों से बीमा प्रीमियम के नाम हजारों रुपए बैंक द्वारा काट लिए जाते है। फसल नुकसानी होने पर कंपनी व विभाग के अधिकारी कार्रवाई नहीं करते हैं। किसान अशिक्षित वर्ग होकर लूटा जा रहा है। 


कौन-सी फसल अधिसूचित, जानकारी नहीं 
किसानों के मुताबिक खरीफ सीजन की फसलों की बुआई को लेकर बहुत हद तक स्थिति साफ होने के बावजूद किस पटवारी हलके में किस फसल का बीमा होगा, अभी तक स्पष्ट नहीं है। इस बार किस पटवारी हलके में कौन-सी फसल अधिसूचित की गई है। इसकी जानकारी अब तक कृषि विभाग को भी नहीं है। किसान चाहते हैं कि जिस हलके में जो फसल अधिक है, उसका ही बीमा प्रीमियम लिया जाए।

 

फसल बीमा की अंतिम अवधि नजदीक आने से बहुत से अऋणी किसान दुविधा में हैं। किसान को भी मालूम होना चाहिए उसके पटवारी हलके में कौन-सी फसल अधिसूचित की है और ऋणी किसान का किस फसल का बीमा प्रीमियम कटा है। 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना