Hindi News »Madhya Pradesh »Ratlam» आंगनवाड़ी और सरकारी स्कूल के बच्चों को एक सप्ताह से नहीं मिल रहा मध्याह्न भोजन

आंगनवाड़ी और सरकारी स्कूल के बच्चों को एक सप्ताह से नहीं मिल रहा मध्याह्न भोजन

सोमवार को भी नहीं मिला मध्यान्ह भोजन। छुट्टी के बाद भूखे ही घर जाते बच्चे। भास्कर संवाददाता | रतलाम सरकारी...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 17, 2018, 04:25 AM IST

सोमवार को भी नहीं मिला मध्यान्ह भोजन। छुट्टी के बाद भूखे ही घर जाते बच्चे।

भास्कर संवाददाता | रतलाम

सरकारी स्कूल और आंगनवाड़ी के बच्चों को एक सप्ताह से मिड डे मील नहीं मिल पाया है। इसके बाद भी ना तो महिला एवं बाल विकास विभाग को चिंता है और ना शिक्षा विभाग को। बच्चों को पढ़ाई कर भूखे ही घर जाना पड़ रहा है।

ये आंगनवाड़ियां और सरकारी स्कूल करमदी के हैं। यहां दो आंगनवाड़ी और दो सरकारी स्कूल हैं। इसमें 200 से ज्यादा बच्चे अध्ययनरत हैं। इन बच्चों को भोजन समूह उपलब्ध कराता है। समूह ने 10 अप्रैल से भोजन बनाना बंद कर दिया है। इसके लिए समूह ने पहले ही जनपद पंचायत, महिला एवं बाल विकास विभाग और शिक्षा विभाग को अवगत करा दिया था कि 10 अप्रैल के बाद भोजन नहीं दिया जाएगा। जिम्मेदारों ने ध्यान नहीं दिया। इससे अब आंगनवाड़ी और स्कूलों के बच्चों को मिड डे मील नहीं मिल रहा है। सोमवार को भी यही स्थिति रही और चारों स्थानों पर भोजन की व्यवस्था नहीं हो पाई है।

मध्याह्न भोजन जल्द चालू करवाया जाएगा- बीईओ एम.एल. डामर ने बताया जानकारी मिली है। जनपद सीईओ को इससे अवगत कराया है। जल्द ही स्कूल में मध्याह्न भोजन चालू कराया जाएगा।

सामाजिक संस्था आगे आई

जिम्मेदार तो बच्चों को भोजन की व्यवस्था नहीं करा पा रहे हैं। अब इसके लिए सामाजिक संस्थाएं आगे आई हैं। किसान नेता राजेश पुरोहित ने शुक्रवार को बच्चों को बिस्किट बांटे थे। सोमवार को करमदी विकास समिति ने आंगनवाड़ी के बच्चों को दाव चावल खिलाए। समिति के जितेंद्र राव ने बताया विकास समिति के सहयोग से बच्चों को भोजन दिया है। आगे भी जब तक व्यवस्था नहीं होती है समिति का प्रयास रहेगा कि बच्चों को भोजन की व्यवस्था करे। महिला एवं बाल विकास विभाग की दीपिका रावत, आंगनवाड़ी कार्यकर्ता पिंकी वर्मा, संगीता वाघेला ने बच्चों को परोसगारी की।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Ratlam

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×