• Home
  • Mp
  • Ratlam
  • महिलाओं को डरने की जरूरत नहीं, मैं और प्रशासन आपके साथ
--Advertisement--

महिलाओं को डरने की जरूरत नहीं, मैं और प्रशासन आपके साथ

महिलाओं की शिक्षा पर जोर देने की आवश्यकता है। उन्हें बचपन से ही आत्मनिर्भर बनाने की शिक्षा देनी होगी। बेटा-बेटी...

Danik Bhaskar | Apr 17, 2018, 04:25 AM IST
महिलाओं की शिक्षा पर जोर देने की आवश्यकता है। उन्हें बचपन से ही आत्मनिर्भर बनाने की शिक्षा देनी होगी। बेटा-बेटी में भेदभाव नहीं करना चाहिए, मध्यप्रदेश शासन द्वारा अनेकों जन कल्याणकारी योजनाएं महिलाओं के उत्थान की चलाई गई हैं।

यह बात कलेक्टर रुचिका चौहान ने मानवाधिकार एवं अपराध नियंत्रण संगठन (संस्था) द्वारा आयोजित महिलाओं के लिए आत्मरक्षा शिविर में कही। उन्होंने महिलाओं को आश्वस्त किया कि किसी को किसी से डरने की आवश्यकता नहीं है, प्रशासन और मैं आपके साथ सदैव हैं, जिस राष्ट्र में प्रत्येक महिलाएं शिक्षित होंगी उस राष्ट्र को विकसित होने से कोई नहीं रोक सकता। भाजयुमो की पूर्व राष्ट्रीय सचिव डॉ. ध्वनि शर्मा ने कहा शारीरिक आत्मरक्षा के साथ साथ मानसिक आत्मरक्षा की आवश्यकता है। यदि महिलाएं मानसिक रूप से सशक्त होंगी तो कन्या भ्रूण हत्या, गुड टच बैड टच, दहेज प्रथा, बाल विवाह, अशिक्षा जैसी कुरीतियों को दूर कर सकती हैं। छोटी-छोटी बच्चियों को मानसिक रूप से शिक्षित करना जरूरी है, महिलाओं की सुरक्षा के लिए पूरे समाज को एकजुट होकर जागरूक होने की आवश्यकता है, ताकि हर बेटी की सुरक्षा हो सके। पूर्व जिला शिक्षा अधिकारी सुलोचना शर्मा ने कहा सशक्त महिला ही सशक्त समाज की पहचान है।

महिलाओं को किया जागरूक

महिलाओं को आत्मरक्षा के प्रति जागरूक करने के लिए जूडो-कराते की राष्ट्रीय खिलाड़ी अनीता गहलोत ने तकनीक बताई। उन्होंने बताया किस तरह से महिलाओं को अपने ऊपर होने वाले हमले से बचाव करना चाहिए। डिस्ट्रिक्ट कमांडेंट होमगार्ड राजेंद्र खींची, समाजसेवी रमेश तिवारी, जिला जनअभियान समिति के उपाध्यक्ष अशोक पाटीदार, समाजसेवी अनिल कटारिया आदि ने भी विचार रखे।

महिलाओं का किया सम्मान

समाज सेवा के उत्कृष्ट कार्य करने के लिए गुर्जर गौड़ ब्राह्मण महिला नगर सभा, करनी सेना, मध्यप्रदेश जन अभियान परिषद के जिला समन्वयक र|ेश विजयवर्गीय, स्वच्छ भारत प्रेरक की टीम व जितेंद्र राव का सम्मान किया। संगठन की राष्ट्रीय महिला प्रकोष्ठ की महासचिव ज्योति साल्वी, प्रदेश अध्यक्ष कचरू राठौड़, मदन खीमेसरा आदि मौजूद थे।