• Home
  • Mp
  • Ratlam
  • भक्त सच्चा है तो प्रभु घर बैठे देंगे दर्शन
--Advertisement--

भक्त सच्चा है तो प्रभु घर बैठे देंगे दर्शन

भगवान अनेकों लोको में निवास करते हैं किंतु भगवान को कभी-कभी भक्तों से भी काम पड़ता है। उन्हें भक्तों के पास आना...

Danik Bhaskar | May 18, 2018, 05:55 AM IST
भगवान अनेकों लोको में निवास करते हैं किंतु भगवान को कभी-कभी भक्तों से भी काम पड़ता है। उन्हें भक्तों के पास आना पड़ता है। भगवान राम को गंगा नदी पार करने के लिए केवट के पास जाना पड़ा था, वहीं प्रभु शबरी के द्वार भी पहुंचे थे। यदि भक्त का मन सच्चा है तो प्रभु घर बैठे दर्शन देंगे।

यह बात प्रतापनगर स्थित मंगलम सिटी में आयोजित श्रीमद् भागवत कथा के दूसरे दिन भागवताचार्य पं. वासुदेव ने कही। उन्होंने कहा प्रभु अनंत है, उनका कोई पार नहीं है। भगवान हर जगह विराजमान है। हरि शरणम् मम... हरि शरणम् मम... भजन जपने से व्यक्ति की रोग, दुर्बलता समाप्त होती है तथा अच्छी आयु होती है। यदि किसी को कोई मंत्र याद नहीं है, तो केवल हरि शरणम् मम... जप लेना चाहिए, इससे व्यक्ति का उद्धार हो जाता है, जिस माता की संतान परोपकार में लगी होती है, ऐसी मां महान होती है। पं. वासुदेव ने प्रभु के 24 अवतारों का जिक्र भी किया। उन्होंने कहा यदि व्यक्ति मनुष्य योनी में कोई अपराध कर बैठता है, तो उसे उनका प्रायश्चित मानव जीवन में ही कर लेना चाहिए, इससे परलोक सुधर जाता है। मेघा वैष्णव ने बताया गोपालदास बैरागी, स्वरूप माधवाचार्य, सीमा माधवाचार्य, पुष्कल माधवाचार्य, रविंद्र बैरागी, नातिक वैष्णव आदि मौजूद थे।

कथा का वाचन करते हुए पं. वासुदेव और उपस्थित श्रद्धालु।

अखंड ज्ञान आश्रम में श्रीमद् भागवत ज्ञान यज्ञ कल से

रतलाम | सैलाना बस स्टैंड के पास स्थित अखंड ज्ञान आश्रम में 19 से 26 मई तक श्रीमद भागवत ज्ञान यज्ञ का आयोजन किया जाएगा। आयोजन स्वामी ज्ञानानंदजी महाराज की 27वीं पुण्यतिथि पर होगा। आश्रम की विशेषता यह है कि यहां केवल अध्यात्म ज्ञान और मोक्ष मार्ग की मूल व्याख्या होती है। कथा का वाचन भानपुरा पीठाधीश्वर जगदगुरु शंकराचार्य स्वामी दिव्यानंदजी तीर्थ करेंगे। आश्रम के सह संचालक स्वामी देवस्वरूपानंदजी महाराज ने बताया भागवत कथा रोज दोपहर 3 से शाम 6 बजे तक होगी। मुख्य यजमान कमला पुरोहित होंगी। आश्रम में सुबह 9 से 11 बजे तक देश के विभिन्न आश्रमों से पधारे विद्वान संत-महात्माओं के प्रवचन व उपदेश होंगे।