Hindi News »Madhya Pradesh »Ratlam» धोलावड़ में अब स्टार्टर खराब, जरूरत से 30 लाख लीटर पानी की सप्लाई कम, इसलिए गहरा रहा है जलसंकट

धोलावड़ में अब स्टार्टर खराब, जरूरत से 30 लाख लीटर पानी की सप्लाई कम, इसलिए गहरा रहा है जलसंकट

शहर के प्रमुख पेयजल स्रोत धोलावड़ में भरपूर पानी होने के बाद भी निगम अफसरों की लापरवाही का खामियाजा जनता को जलसंकट...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 18, 2018, 06:00 AM IST

  • धोलावड़ में अब स्टार्टर खराब, जरूरत से 30 लाख लीटर पानी की सप्लाई कम, इसलिए गहरा रहा है जलसंकट
    +1और स्लाइड देखें
    शहर के प्रमुख पेयजल स्रोत धोलावड़ में भरपूर पानी होने के बाद भी निगम अफसरों की लापरवाही का खामियाजा जनता को जलसंकट के रूप में भुगतना पड़ रहा है। शहर को रोज 160 लाख लीटर पानी की जरूरत है। इसके मुकाबले केवल 130 लाख लीटर पानी ही पहुंच रहा है। नतीजतन टंकियां नहीं भर पा रही हैं और दो महीने पहले तक जिन नलों में 45 मिनट पानी आता था। अब 20 से 25 मिनट ही आ रहा है। दूर दराज के कई इलाकों में तो 10 मिनट ही लोगों को पानी मिल रहा है।

    जलसंकट गहराने का सबसे बड़ा कारण निगम अफसरों का सुस्त रवैया है। छह महीने पहले तक धोलावड़ से शहर तक तीन टरबाइन से पानी पहुंचाया जाता था। एक-एक कर तीनों ही टरबाइन धोलावड़ में डूब गई लेकिन किसी भी अधिकारी ने ध्यान नहीं दिया। पिछले महीने जब आखिरी टरबाइन पानी डूबी तो अफसरों की नींद खुली। इसके बाद उधार के दो मोटर पंप से सप्लाई शुरू की गई, बावजूद पर्याप्त क्षमता से पानी नहीं खींचा जा रहा है। इससे पर्याप्त पानी लोगों तक नहीं पहुंच रहा। अभी भी 130 लाख लीटर पानी ही आ रहा है। धोलावड़ से सप्लाई कम होने से पानी की टंकियां आधी ही भर पा रही है। इससे सप्लाई कम हो रही है और नलों में पानी नहीं आ रहा है।

    गंदगी के बीच पानी की मशक्कत

    धोलावड़ रोड पर गंदगी के बीच पानी भरते हुए।

    परिजन के साथ पानी भरने गया 11 साल का बालक गिरने से हो गया घायल

    मोतीनगर में नगर निगम ने पाइप लाइन तो डाल दी लेकिन पानी की सप्लाई शुरू नहीं की। इससे लोगों को सारे काम छोड़कर आधा किमी दूर धोलावड़ रोड से पानी लाना पड़ रहा है। गली नंबर 5 में रहने वाला 11 साल का अरुण पिता सुखराम पानी भरने के लिए परिजन के साथ धोलावड़ रोड पर गया था तो आते समय पाइप लाइन के लिए खोदे गड्ढे में गिर गया। इससे पैर का अंगूठा कट गया और दो दिन से वो बिस्तर पर है। यूसुफ मेव, मालती, मोना, कालू सहित अन्य रहवासियों ने बताया निगम की लापरवाही के कारण अरुण घायल हुआ है। नगर निगम को पानी सप्लाई नहीं करना थी तो लाइन क्यों डाली।

    जलकर बकाया तो घर आ जाते हैं, नल में पानी नहीं आ रहा तो कोई देखने वाला नहीं

    कल्याण नगर निवासी बंटी कसेरा ने बताया दोपहर 1 बजे नलों में पानी आना शुरू हुआ और 10 मिनट बाद नल बंद हो गए। ठंड में पौन घंटे पानी आता था। घर से एक किमी दूर धोलावड़ रोड पर पानी भरने जाना पड़ रहा है। जलकर बकाया हो तो निगम कर्मचारी आ जाते हैं। नलों में पानी नहीं आ रहा तो कोई देखने नहीं आ रहा। अनाउंसमेंट तो कराए कि कब पानी की सप्लाई होगी। धानमंडी निवासी व्यापारी संजय पारख ने बताया दो महीने पहले नलों में 45 मिनट पानी आता था। अब 10 मिनट आ रहा है। पीने के लिए कैन मंगवा रहे हैं और इस्तेमाल करने के लिए टैंकर। कई बार पार्षद और निगम को बताया लेकिन प्रेशर नहीं बढ़ा।

    कई इलाकों में नहीं मिला पानी

    इधर धोलावड़ में बुधवार रात 1 बजे फिल्टर प्लांट का स्टार्टर खराब हो गया। यह सुबह ठीक हुआ। इससे धोलावड़ से सप्लाई सुबह शुरू हुई। इसके बाद शहर की टंकियां भरना शुरू हुई। पटरी पार के इलाकों में गुरुवार को पानी नहीं बंट पाया। अब लोगों को शुक्रवार सुबह पानी मिलेगा।

    पूरा परिवार पानी की व्यवस्था में जुटा

    नलों में पानी नहीं आने से पूरे परिवार को पानी भरने के लिए जुटना पड़ रहा है।

    एक के बाद एक स्थिति हमारे विपरीत बन रही है

    जलकार्य समिति प्रभारी प्रेम उपाध्याय ने बताया शहर को भरपूर पानी मिले इसके लिए जुटे हैं। तीन दिन से स्थिति हमारे विपरीत बन रही है। सोमवार रात 9 बजे बिजली बंद हो गई जो रात 3 बजे चालू हुई। मंगलवार को काला गोरा भैरव के पास लीकेज हो गया। दोपहर 1 से शाम 5 बजे तक इसे ठीक किया। बुधवार रात एक बजे स्टार्टर खराब हो गया। इससे फिल्टर प्लांट तक पानी नहीं पहुंच पाया। इससे शहर तक पानी की सप्लाई नहीं हुई। इससे टंकियां नहीं भर पाई। टंकियां नहीं भर पाने से सप्लाई गड़बड़ा रही है। इसे दूर करने का प्रयास कर रहे हैं। जल्द सप्लाई व्यवस्था में सुधार होगा।

    आयुक्त बोले-तकनीकी खराबी से आ रही दिक्कत

    आयुक्त एस.के. सिंह ने बताया टरबाइन के जरिए पानी सप्लाई किया जा रहा था। टरबाइन गिरने के बाद इन्हें निकालने का भी प्रयास किया गया। इसके लिए गोताखोर भी बुलाए लेकिन मिट्टी ज्यादा होने से नहीं निकल पाए। इसके बाद मोटर पंपों के जरिए पानी की सप्लाई की जा रही है। कभी बिजली बंद होने तो कभी लीकेज सहित अन्य तकनीकी कारणों से दिक्कत आ रही है। इसके बाद भी व्यवस्था में सुधार के लगातार प्रयास कर रहे हैं। धोलावड़ में तकनीकी दिक्कत के कारण टंकियां नहीं भर पाईं। इससे पटरी पार के इलाकों में सप्लाई नहीं हुई। शुक्रवार सुबह सप्लाई की जाएगी। इसका अनाउंसमेंट करा दिया है।

    एक-दो दिन में सुधार हो जाएगा

    महापौर डॉ. सुनीता यार्दे ने बताया धीरे-धीरे व्यवस्था में सुधार हो रहा था लेकिन तीन दिन से कभी लाइट बंद होने तो कभी लीकेज होने से व्यवस्था गड़बड़ा रही हैं। अधिकारियों को कहा है कि पानी सप्लाई नहीं हो तो अनाउंसमेंट कराएं। अधिकारियों ने एक-दो दिन में व्यवस्था के सुधार की बात कही है।

    जिम्मेदारों के बोल

  • धोलावड़ में अब स्टार्टर खराब, जरूरत से 30 लाख लीटर पानी की सप्लाई कम, इसलिए गहरा रहा है जलसंकट
    +1और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Ratlam

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×