• Hindi News
  • Mp
  • Ratlam
  • Ratlam News mp news a person knows the value of breathing only when his life is in danger

व्यक्ति को श्वांस की कीमत तभी पता चलती है जब उसके प्राण संकट में होते हैं

Ratlam News - चौड़ावास स्थित नंद भवन में धर्मसभा को संबोधित करते आचार्य प्रवर दिव्यानंद सूरीश्वर जी। रतलाम | जीव को मनुष्य...

Dec 11, 2019, 10:12 AM IST
Ratlam News - mp news a person knows the value of breathing only when his life is in danger
चौड़ावास स्थित नंद भवन में धर्मसभा को संबोधित करते आचार्य प्रवर दिव्यानंद सूरीश्वर जी।

रतलाम | जीव को मनुष्य योनि बहुत भाग्य से मिलती हैं। यह तन देवताओं को भी दुर्लभ है। वह सभी धार्मिक ग्रंथों में इस तन की महानता का वृत्तांत है, क्योंकि केवल एक तन ही ऐसा माध्यम है जिसके द्वारा मुक्ति की प्राप्ति की जा सकती है। यह शरीर ही मुक्ति के द्वार का माध्यम है। परंतु मनुष्य ने मानव तन को प्राप्त कर न तो प्रभु की प्राप्ति का ही यतन किया और ना ही परलोक को संवारा है।

यह बात समन्वय मिशन के प्रेरक आचार्य प्रवर दिव्यानंद सूरीश्वर जी (निराले बाबा) ने कही। चौड़ावास स्थित नंद भवन में धर्मसभा में उन्होंने कहा आज जीव ने केवल शारीरिक आवश्यकता को पूरा करने में ही स्वयं को उलझा लिया है वह यह भूल गया है, कि इस शरीर की प्राप्ति का उद्देश्य क्या है? मनुष्य दिन भर में ना जाने कितने कार्य करता है जिनका बोध उसे रहता है परंतु श्वांस का बोध नहीं है कि वह कितनी बार आई है यदि सर्दी लग जाए छाती में कफ जम जाए तो तभी पता चलता है श्वांस कैसे लिया जाता है। वह उस समय श्वांस का निरंतर बोध होता है पानी में डूबते व्यक्ति को बचा लिया जाए फिर उससे पूछा जाए श्वांस की कीमत क्या है डूबते को एक ही इच्छा होती हैं। किसी प्रकार श्वांस आ जाए अर्थात कहने का भाव यह है कि उपस्थिति के हम आदी हैं अनुपस्थिति खटकती है। यही स्थिति इस शरीर के साथ है।

आचार्य विजय समुद्र सूरीश्वर जी की जयंती पर गुणानुवाद सभा हुई

आचार्य प्रवर दिव्यानंद सूरीश्वर जी के सानिध्य में राष्ट्रसंत तपोमूर्ति आचार्य विजय समुद्र सूरीश्वर जी की 129 वीं जन्म जयंती पर गुणानुवाद सभा हुई। इसमें उन्होंने कहा गुरु (आचार्य विजय समुद्र सूरीश्वर जी) समुद्र समुद्र से भी ज्यादा गंभीर थे। और अपने शांत स्वभाव के कारण से जन जन के प्रिय थे।

आज करेंगे विहार

आचार्य प्रवर बुधवार सुबह 11 बजे प्रस्थान कर पदयात्रा कर करमदी पहुंचेंगे। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि प्रदीप उपाध्याय मौजूद थे। मोतीलाल गुगलिया, हेमंत कोठारी, लाभचंद मनोज, अतुल डाक, जयंतीलाल लोधा, सुभाष गुगलिया, मांगीलाल कटारिया, प्रेम उपाध्याय सहित बड़ी संख्या में श्रद्धालु मौजूद थे।

कल सुखेड़ा में होगा मंगल प्रवेश

सर्वधर्म दिवाकर क्रांतिकारी आचार्य प्रवर दिव्यानंद सूरीश्वर जी 12 दिसंबर की सुबह 9.30 बजे सुखेड़ा पहुंचेगे। स्वागत शोभायात्रा बस स्टैंड से शुरु होकर मुख्य मार्गों से होते हुए बालाजी गोधाम पहुंचेगी। जहां पर आचार्य प्रवर के प्रवचन होंगे। 15 दिसंबर को नीम चौक बाजार सुखेड़ा में श्री पार्श्व पद्मावती महापूजन होगा।

X
Ratlam News - mp news a person knows the value of breathing only when his life is in danger
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना