पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Ratlam
  • Ratlam News Mp News Bank Empties Its Atm Full Of 6 Lakhs Yet Customers Return Empty Handed From Cash Counter

बैंक ने 6 लाख से भरा अपना एटीएम खाली किया फिर भी कैश काउंटर से खाली हाथ लौटे ग्राहक

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

सेविंग अकाउंट पर 6 फीसदी ब्याज देने वाले यस बैंक के कामकाज पर रोक लगने के बाद खाताधारकों के जमा रुपए भी नहीं निकल पा रहे हैं। आरबीआई ने खाताधारकों महीने में 50 हजार रुपए तक निकालने के आदेश बैंक प्रबंधन को जारी किए हैं लेकिन नकदी के संकट के चलते 50 हजार तो दूर 15 हजार रुपए भी ग्राहकों को नहीं मिल पा रहे हैं। शनिवार को यही स्थिति रही। ग्राहक रुपए निकालने के लिए जब स्टेशन रोड स्थित ब्रांच में पहुंचे तो बैंक प्रबंधन ने कैश नहीं होने का हवाला दिया और कहा अभी रुपए नहीं दे सकते हैं आप बाद में आना। होली का त्योहार पास है। ऐसे में लोगों को रुपए की जरूरत है लेकिन बैंक ग्राहकों को रुपए देने में आनाकानी कर रही है। आरबीआई की रोक के पहले बैंक के एटीएम में 6 लाख रुपए जमा थे। लेकिन बैंक ने ग्राहकों को बांटने के लिए वो भी निकाल लिए और एटीएम पर कैश नहीं होने की सूचना लगा दी। इससे ग्राहकों को ना तो बैंक की ब्रांच से रुपए मिल पा रहे हैं और ना ही एटीएम से। इस संबंध में बैंक मैनेजर से बात की तो जवाब मिला। हम कुछ भी नहीं बता सकते हैं। आप मुख्यालय बात करो।

बीमारी, शादी, शिक्षा पर 5 लाख निकालने की छूट दी

{ खाताधारक या उसके परिवार के सदस्यों में से किसी का इलाज चल रहा है तो मेडिकल खर्च के लिए पांच लाख रुपए निकालने की छूट है।

{ अगर किसी खाताधारक के घर में शादी है तो वो भी इस नियम के तहत पैसा निकालने का पात्र होगा। इसके लिए शादी का कार्ड एक एफिडेविट के साथ बैंक में जमा करना होगा।

{ यदि खाताधारक को परिवार के सदस्य की फीस चुकाना हो तो वो भी राशि निकाल सकता है। यहां भी पांच लाख रुपए तक की छूट दी है।

कामकाज यूं समझिए

बैंक की स्टेशन रोड और सेजावता में ब्रांच है।

10 हजार से ज्यादा कस्टमर जुड़े हैं।

बैंक का एटीएम स्टेशन रोड पर है।

यस बैंक में नकदी का संकट

आरबीआई का ग्राहकों को 1 माह में 50 हजार रुपए देने का आदेश लेकिन पालन नहीं

हरमाला रोड निवासी शाहनवाज खान ने बताया 16 हजार रुपए निकालना है। लेकिन बैंक बोल रही है हमारे पास कैश नहीं है। आपको कहां से दें। यहां रुपए नहीं मिलने पर सेजावता की ब्रांच गया तो वहां बताया कनेक्टिविटी नहीं है। इससे रुपए नहीं दे सकते हैं।

स्टेशन रोड ब्रांच में नकदी हुई खत्म

मैं कुछ नहीं बता सकता हूं - बैंक मैनेजर मोतीलाल ने बताया कि इस संबंध मैं कुछ नहीं बता सकता हूं। आप मुख्यालय में बात करो।

मैं सोमवार को चर्चा करता हूं लीड बैंक मैनेजर राकेश गर्ग ने बताया आरबीआई ने जो आदेश दिए हैं उसके मुताबिक भुगतान जरूरी है। यदि बैंक द्वारा आनाकानी की जा रही है तो गलत है। सोमवार को बैंक प्रबंधक से चर्चा की जाएगी।

पांच लाख मिलने की गारंटी है - लीड बैंक के पूर्व मैनेजर हिम्मत गेलड़ा ने कहा बैंक डिफाॅल्टर हो जाए तो जमाकर्ता को बीमा कंपनी 5 लाख कवर का भुगतान करेगी।

स्टेशन रोड ब्रांच के एटीएम पर कैश नहीं होने की सूचना लगाई
खबरें और भी हैं...