विज्ञापन

भागवत कथा श्रवण करते श्रद्धालु।

Dainik Bhaskar

Feb 14, 2019, 04:21 AM IST

Ratlam News - ‘व्यक्ति की शिक्षा और संस्कार श्रेष्ठ होना चाहिए’ रतलाम | जीवन बंधन नहीं आनंद का सागर है। तुम्हारे दुख का...

Ratlam News - mp news bhagwant shrine shraddhalu
  • comment
‘व्यक्ति की शिक्षा और संस्कार श्रेष्ठ होना चाहिए’

रतलाम |
जीवन बंधन नहीं आनंद का सागर है। तुम्हारे दुख का कारण तुम ही हो, आपकी जिंदगी की चाबी आपका मन है। आज की शिक्षा संस्कारों से विहीन है और जो शिक्षा संस्कारों से विहीन है वो शिक्षा राक्षस कुल की शिक्षा मानी जाती है। इसलिए शिक्षा और संस्कार श्रेष्ठ होना चाहिए।

यह बात वेदपाठी पंडित जयेशकृष्ण शास्त्री (उज्जैन) ने कही। वे दीनदयाल नगर में बुधवार को शुरू भागवत कथा में कही। भागवत प्रचारक तेज कुमार सोलंकी ने बताया कथा से 16 फरवरी को श्रीराम और कृष्ण जन्म उत्सव, 17 फरवरी को बाललीला गोवर्धन पूजा, 18 फरवरी श्रीकृष्ण रुक्मिणी विवाह और 19 फरवरी को विश्राम होगा।


भागवत कथा श्रवण करते श्रद्धालु।

X
Ratlam News - mp news bhagwant shrine shraddhalu
COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें