58 साल पहले अस्तित्व में आए दोनों यूटी अब एक, दमण रहेगा मुख्यालय

Ratlam News - दो केंद्र शासित प्रदेशों दादरा-नगर हवेली और दमण-दीव के विलय का विधेयक मंगलवार को राज्यसभा में भी पारित हो गया।...

Dec 04, 2019, 10:50 AM IST
दो केंद्र शासित प्रदेशों दादरा-नगर हवेली और दमण-दीव के विलय का विधेयक मंगलवार को राज्यसभा में भी पारित हो गया। लोकसभा इसे 27 नवंबर को ही पारित कर चुकी है। विधेयक पर राष्ट्रपति की मुहर लगते ही दोनों केंद्रशासित प्रदेश आधिकारिक तौर पर एक हो जाएंगे। करीब 58 साल पहले दोनों केंद्र शासित प्रदेश अलग-अलग यूटी के तौर पर अस्तित्व में आए थे।

गृह राज्यमंत्री जी किशन रेड्डी ने राज्यसभा में कहा कि नई इकाई को अब दादरा और नगर हवेली और दमन और दीव कहा जाएगा। यह बॉम्बे हाईकोर्ट के अधिकार क्षेत्र में ही रहेगा। दोनों का संयुक्त मुख्यालय दमण में रहेगा। उन्होंने स्पष्ट किया कि विलय के बाद प्रशासन और सेवा शर्तों और आरक्षण में कोई बदलाव नहीं होगा। समूह III और IV कर्मचारियों की स्थिति में कोई बदलाव नहीं होगा। बता दें कि दादरा नगर हवेली 1954 में पुर्तगाल से आजाद होकर 1961 में यूटी बना था। दमण-दीव और गोवा भी 1961 में ही यूटी बने थे। 1987 में गोवा अलग राज्य बना दिया गया।

अधीर रंजन चाैधरी के बयान पर लाेकसभा में हंगामा, भाजपा ने की माफी की मांग, कांग्रेस का वाॅकअाउट

चाैधरी ने िनर्मला सीतारमण काे कहा था ‘िनर्बला’

कांग्रेस नेता अधीर रंजन चाैधरी द्वारा वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण काे “िनर्बला’ कहे जाने पर मंगलवार काे भी लाेकसभा में हंगामा हुअा। भाजपा सांसद पूनम महाजन ने ताजा हमला करते हुए कहा, “िनर्मला सीतारमण नहीं, बल्कि “िनर्बल’ ताे अधीर रंजन हैं।’ कराधान िनयम (संशाेधन) बिल पर साेमवार काे बहस के दाैरान अधीर रंजन चाैधरी ने कहा था िक वित्त मंत्री कमजाेर हाे गई हैं। चाैधरी ने उन्हें “निर्बला’ भी कहा था। इस बयान का भाजपा सदस्याें ने िवराेध िकया था। तब स्पीकर अाेम बिरला ने अादेश दिया था िक असंसदीय टिप्पणी रिकार्ड से हटाई जाएगी। अधीर रंजन ने जैसे ही बाेलना शुरू िकया, संसदीय कार्य राज्यमंत्री अर्जुन राम मेघवाल ने कहा िक चाैधरी पहले प्रधानमंत्री, गृह मंत्री अाैर वित्त मंत्री के िखलाफ टिप्पणी पर माफी मांगे। इस बीच सत्ता पक्ष की बेंचाें की तरफ से नारे लगाए जाने लगे। शाेरशराबे के बीच ही चाैधरी ने कहा िक सरकार गरीबी विराेधी अाैर िकसान विराेधी है। भारी िवराेध के बीच कांग्रेस ने सदन से वाॅकअाउट कर िदया।

पोस्टमाॅर्टम में अब चीरफाड़ की जरूरत नहीं पड़ेगी, एम्स दिल्ली से शुरू हाेगी िडजिटल अाॅटाेप्सी

स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री हर्षवर्धन ने मंगलवार को राज्यसभा में एक पूरक प्रश्न के उत्तर में बताया कि एम्स नई दिल्ली और भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (अाईसीएमअार) ने मिलकर शव परीक्षण के लिए वर्चुअल अाॅटाेप्सी तकनीक तैयार की है, जिसमें पार्थिव शरीर की चीरफाड़ करने की जरूरत बंद हो जाएगी। इससे पाेस्टमाॅर्टम का समय दाे घंटे से घटकर अाधा घंटा रह जाएगा। इसमें हाेने वाले खर्च में भी कमी हाेगी। अगले छह महीने में एम्स में इस तकनीक से शव परीक्षण शुरू हो जाएंगे। इस तकनीक से तमाम सूचनाओं व जानकारियों को डिजिटल रूप में रखा जाएगा। यह तकनीक पहले एम्स नई दिल्ली में लागू की जाएगी। फिर देश के अन्य अस्पतालों को भी उपलब्ध कराई जाएगी। भारत दक्षिण एशिया में इस तकनीक का इस्तेमाल करने वाला पहला देश है। यह तकनीक जर्मनी, नार्वे, इजराइल, स्वीडन, ब्रिटेन व हांगकांग में इस्तेमाल की जा रही है।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना