पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोरोना वायरस : 21 स्टेशनों पर संदिग्धों की जांच करेंगी टीमें

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना वायरस को लेकर शहर में स्वास्थ्य विभाग के साथ ही अन्य विभाग भी अलर्ट मोड पर है। पश्चिम रेलवे के 21 स्टेशनों पर संदिग्धों की जांच मेडिकल ऑफिसर करेंगे। इन सभी स्टेशनों के लिए मेडिकल ऑफिसर तय कर लिए गए हैं। इधर, कोरोना वायरस की सतर्कता के चलते रविवार को भी जिला अस्पताल में अलग ही ओपीडी लगाई जाएगी।

कोरोना वायरस चीन के वुहान के बाद अब अन्य शहरों में भी फैल रहा है। भारत में भी मामले सामने आए हैं। पश्चिम रेलवे के 21 स्टेशनों में रतलाम, मंदसौर, नीमच, निंबाहेड़ा, चित्तौड़गड़, नागदा, उज्जैन, मक्सी, कालापीपल, शुजालपुर, सिहोर, इंदौर, देवास, डॉ. आंबेडकर नगर, बड़वाहा, सनावद, खंडवा, झाबुआ, दाहोद, पंचमहल शामिल है।

संभागीय अधिकारी की छुट्‌टी पर रोक, बिना अनुमति मुख्यालय नहीं छोड़ सकेंगे

संभाग कमिश्नर आनंद कुमार शर्मा ने वर्तमान में कोरोना वायरस संक्रमण को देखते हुए जिले के कलेक्टर व संभागीय अधिकारियों को बिना सक्षम स्वीकृति या अनुमति के प्रस्थान न करने का कहा। कमिश्नर ने कहा कि अधिकारी किसी भी प्रकार के अवकाश पर ना रहें। अपने मुख्यालय में ही मौजूद रहे। संबंधित विभाग संक्रमण की रोकथाम के संबंध में प्रारंभिक तैयारियां रखे।


प्रतीक्षालय में लग रही सर्दी-खांसी की ओपीडी - जिला अस्पताल में आने वाले सर्दी-खांसी के मरीजों की जांच के लिए अलग से ओपीडी बनाई गई है। यह ओपीडी जिला अस्पताल के परिसर में बने प्रतीक्षालय में लग रही है। इस ओपीडी में 400 से ज्यादा मरीज जांच के लिए पहुंच चुके हैं। आेपीडी रविवार को भी रहेगी।

मरीज को एम्बुलेंस तक लाने का दिया प्रशिक्षण- जिला अस्पताल में शनिवार को मेडिकल कॉलेज के डीन डॉ. संजय दीक्षित भी पहुंचे। सिविल सर्जन डॉ. आनंद चंदेलकर के साथ उन्होंने कोराेना वायरस से निपटने के इंतजाम देखे। दोनों ने आइसोलेशन वार्ड का जायजा लिया। इस वार्ड के भवन को खाली कर दिया गया है। जांच के सभी उपकरणों को चलाकर देखा। इस दौरान यह भी प्रशिक्षण दिया गया कि यदि कोई कोरोना वायरस का संदिग्ध मरीज मिलता है तो उसे किस तरह एम्बुलेंस में लाएं।
खबरें और भी हैं...