पुरी से रतलाम तक भूखे आए, यहां स्टाफ ने पहुंचाया भोजन

Ratlam News - यात्री ट्रेनें बंद होने के बाद रेलवे ने अब खाली रैक को वापस प्रारंभिक स्टेशन पर भेजना शुरू कर दिया है। लेकिन...

Mar 27, 2020, 08:20 AM IST

यात्री ट्रेनें बंद होने के बाद रेलवे ने अब खाली रैक को वापस प्रारंभिक स्टेशन पर भेजना शुरू कर दिया है। लेकिन खाने-पीने की व्यवस्था नहीं की। ऐसी ही एक ट्रेन पुरी-वलसाड़ एक्सप्रेस के खाली रैक के साथ वलसाड़ लौट रहे 7 कोच अटेंडर को गुरुवार शाम 5.30 बजे स्टेशन पर खाना मिला। मंगलवार सुबह ट्रेन पुरी से रवाना हुई थी। थोड़ा बहुत खाना था वह उसी दिन खत्म हो गया था। स्टेशन अधीक्षक राजेश श्रीवास्तव ने बताया कोच अटेंडर ने मुंबई के टीटीई से मदद मांगी थी। इस पर स्टाॅल संचालक सचिन जायसवास से भोजन मंगवाकर भोजन दिया।

डीआरएम ऑफिस भी बंद, सिर्फ रेलवे कंट्रोल और मालगाड़ियां चलाने वाला स्टाफ ही काम करेगा

लॉकडाउन के चौथे दिन यानी गुरुवार को डीआरएम (मंडल रेल प्रबंधक) ऑफिस भी लगभग पूरी तरह बंद कर दिया गया है। अब डीआरएम कार्यालय के लगभग 850 के स्टाफ में से सिर्फ रेलवे कंट्रोल और ऑपरेटिंग डिपार्टमेंट का मालगाड़ियां चलाने वाला लगभग 38 लोगों का स्टाफ ही काम करेगा। इनकी भी ऑफिस आते और जाते समय थर्मल स्कैनिंग की जाएगी। डीआरएम विनीत गुप्ता ने बताया कोरोना वायरस की चेन ब्रेक करने के लिए हर जरूरी कदम उठाए जा रहे हैं। अभी सिर्फ

रतलाम-मेघनगर सेक्शन के स्टाफ का परीक्षण

गुरुवार को रेलवे ने रतलाम-मेघनगर सेक्शन के स्टेशन और ट्रैक पर काम रहे कर्मचारियों की जांच की। इसके लिए डॉ. अंकित श्रीवास्तव, मेडिकल स्टाफ के हेमंत सिसौदिया, महेंद्र कल्याण व अन्य ने दुर्घटना राहत चिकित्सा यान (एआरएमई) से मोरवानी, रावटी, बिलड़ी, मेघनगर सहित बीच के सभी स्टेशनों व पाॅइंट पर काम कर रहे 344 कर्मचारियों की थर्मल स्कैनिंग से जांच कर स्वास्थ्य परीक्षण किया। इनमें जिन कर्मचारियों को इलाज की जरूरत थी, उन्हें दवाइयां भी दीं।

जरूरी सामान लेकर चल रही मालगाड़ियों का संचालन किया जा रहा है। बुधवार काे शुजालपुर से गेहूं का एक रैक रवाना किया, जबकि गुरुवार काे सीहाेर से फर्टिलाइजर का एक रैक व रतलाम से एक सीमेंट के रैक की अनलोडिंग की।


सिर्फ मरीज ही जा सकेंगे - लॉकडाउन के बावजूद छोटी-मोटी बीमारियों के मरीजों को अस्पताल आने से रोकने के लिए रेलवे अस्पताल में भी पाबंदियां बढ़ा दी गई हैं। अब सिर्फ गंभीर बीमारी वाले मरीज वहां जा सकेंगे। इसके लिए प्रबंधन ने मुख्य गेट भी बंद कर सभी रेलवे कॉलोनियों में घोषणा भी करवा दी है। सीएमएस डॉ. एके मालवीया ने बताया समझाइश का लोग पूरी तरह पालन नहीं कर रहे थे इसलिए संक्रमण को रोकने के लिए यह कदम उठाया है। गुरुवार काे अाइसाेलेशन वार्ड के डॉक्टर व नर्स को ट्रेनिंग भी दी गई।


प्लेटफॉर्म चार पर कोच अटेंडर को खाना देते एसएस श्रीवास्तव व अन्य।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना