• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Ratlam
  • Ratlam News Mp News Garbage Collection 15 Drivers Job Job 7 Trains Bad Cleaning The City Now Your Trust

कचरा कलेक्शन के 15 ड्राइवरों ने नौकरी छाेड़ी, 7 गाड़ियां खराब, शहर की सफाई अब आपके भरोसे

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
शहर की सफाई व्यवस्था अब आपके ही भरोसे है, क्योंकि डोर-टू-डोर कचरा इकट्ठा करने वाली नगर निगम की गाड़ियों के 15 ड्राइवर नौकरी छोड़ गए हैं। छुट्टी लेने वाले ड्राइवरों की संख्या भी बढ़ गई है। इस बीच खराब गाड़ियाें के कारण ठेका कंपनी ने नगर निगम काे साफ कह दिया है कि जब तक गाड़ियां ठीक नहीं हो जातीं वे काम नहीं करेंगे।

गौरतलब है कि एक जुलाई से इंदौर की कंपनी सेलेस्टियल वेस्ट मैनेजमेंट इंदौर को शहर की सफाई व्यवस्था संभालना है, लेकिन अब तक वर्क आर्डर जारी नहीं हुआ है। कंपनी डोर टू डोर कचरा इकट्ठा करने वाली सभी 52 गाड़ियां स्टेपनी सहित ठीक हालत में मांग रही है। शर्तों के अनुसार निगम द्वारा कलेक्टोरेट दर रखे गए सभी ड्राइवर-हेल्पर ठेका कंपनी को प्राथमिकता से रखना है और कंपनी इसके लिए राजी भी है। इसके बावजूद 54 ड्राइवरों में से 15 ने नौकरी छोड़ दी है। 6 से 10 ड्राइवर रोज छुट्टी पर चल रहे हैं। 15 वार्डों की गाड़ियां दूसरे वार्डों के ड्राइवरों से चलवाने से इन वार्डों में गाड़ियां देर से पहुंच रही हैं तो कई घरों तक गाड़ियां पहुंच ही नहीं रही हैं। हालत यह है कि लोगों ने घरों से निकला कचरा आसपास ही डालना शुरू कर दिया है। 7 गाडिय़ां नगर निगम परिसर में खराब पड़ी है। कोई पंचर तो किसी टायर खराब तो किसी का इंजिन काम नहीं कर है।

10 गाड़ियों में ही आधी खराब निकलीं, स्टेपनी किसी में नहीं

ठेका कंपनी सेलेस्टियल वेस्ट मैनेजमेंट प्रालि इंदौर के डायरेक्टर मितेश रावल ने बताया कि चार दिन पहले 10 गाड़ियां चेक की तो आधी खराब निकलीं। इंजिन, हाइड्रोलिक खराब निकले तो किसी की बॉडी सड़ रही है। स्टेपनी किसी में नहीं मिली। गाड़ियां अच्छी हालत में मिलेंगी तो ही हम काम शुरू कर पाएंगे।

कचरा इकट्ठा करने वाली गाड़ी खराब है और इसे निगम परिसर में खड़ा किया है।

कचरा गाड़ी नहीं आने पीएनटी काॅलोनी रोड कोे लोगों ने कचरा अड्डा बना दिया।

कचरा गाड़ी के टायर खराब होने से निगम परिसर में पत्थरों पर खड़ा किया।

त्रिमूर्ति व श्रीनगर में तीन-चार दिन से नहीं पहुंची गाड़ी

त्रिमूर्ति नगर निवासी हीरालाल राठौर का कहना है 15 दिन में सिर्फ चार बार गाड़ी आई है। परेशान हो गए हैं।

श्रीनगर निवासी भूषण जैन ने बताया दो-तीन दिन में गाड़ी आ रही है, कचरा घर में सड़ता रहता है।

नौकरी छोड़ चुके ड्राइवरों का कहना हम निजी कंपनी में काम करने को तैयार नहीं

नौकरी छोड़ चुके ड्राइवरों का कहना है हम निगम में कलेक्टोरेट दर पर काम कर रहे थे। निजी कंपनी के साथ काम करने को तैयार नहीं है इसलिए नौकरी छोड़ दी।

गाड़ियां ठीक होते ही काम शुरू कर देंगे

अर्नेस्ट मनी सोमवार को भरेंगे। 52 गाड़ियां ठीक मिलीं तो ही वर्क आर्डर लेंगे। निगम के पुराने ड्राइवर-हेल्पर को प्राथमिकता दे रहे हैं। वे नहीं आए तो नई भर्ती करेंगे। मितेश रावल, डायरेक्टर सेलेस्टियल वेस्ट मैनेजमेंट प्रालि इंदौर

ड्राइवरों के नौकरी छोड़ने से बिगड़ रही स्थिति

कंपनी ने अर्नेस्ट मनी जमा नहीं की है इसलिए वर्क आॅर्डर जारी नहीं किया। सभी गाड़ियां ठीक हैं। एक चौथाई ड्राइवरों के नौकरी छोड़ने और कुछ के आए दिन छुट्टी पर रहने से स्थिति बिगड़ रही है। बचे हुए दूसरे ड्राइवरों को उनके काम के बाद दूसरे वार्डों में भेज रहे हैं। ड्राइवरों पर बोझ बढ़ने से दिक्कत हो रही है। आरएम सक्सेना, प्रभारी, कार्यशाला ननि

खबरें और भी हैं...