• Hindi News
  • Mp
  • Ratlam
  • Jaora News mp news the money given in private hands instead of the bank in the wake of saving the income by saving the income

आय छिपाकर बचत करने के चक्कर में बैंक की बजाय निजी हाथों में दे रहे पैसा

Ratlam News - नगर में 10 से अधिक लोग विभिन्न नामों से बचत योजनाएं संचालित कर रहे हैं। ये डायरियां बनाकर डोर-टू-डोर कलेक्शन करते...

Jul 14, 2019, 08:00 AM IST
Jaora News - mp news the money given in private hands instead of the bank in the wake of saving the income by saving the income
नगर में 10 से अधिक लोग विभिन्न नामों से बचत योजनाएं संचालित कर रहे हैं। ये डायरियां बनाकर डोर-टू-डोर कलेक्शन करते हैं। एक अनुमान के मुताबिक इन योजनाओं में सैकड़ों लोगों की 25 करोड़ से ज्यादा राशि उलझी हैं। ज

हाल ही में बालाजी बचत योजना का भंडाफोड़ हुआ। इसके बाद ऐसी योजनाओं का संचालन करने वालों के साथ ही इन स्कीम में पैसा निवेश करने वालों में हड़कंप मचा हुआ है। बालाजी बचत योजना में राशि डूबा चुके दो लोगों का कहना है कि पूरे नगर में यदि सभी योजनाओं की राशि जोड़ी जाए तो यह कारोबार 25 करोड़ से अधिक का है। कई लोगों का पैसा ऐसी योजनाओं में फंसा हुआ है। सहारा-सेबी विवाद के बाद कई लोगों का पैसा वहां अटकने के बाद बिना रजिस्ट्रेशन वाली ऐसी प्राइवेट बचत योजनाएं तेजी से मार्केट में लांच हो गई। पूर्व में कई बार निवेशकों के रुपए डूबने की घटनाएं हो चुकी हैं लेकिन लोग सबक नहीं ले रहे।

अक्टूबर 2017 में ही महावीर उपहार योजना के नाम से डायरी पर कलेक्शन कर सैकड़ों लोगों से पैसा वसूलने के बाद उन्हें वापस नहीं लौटाने के मामले में भीमाखेड़ी के पूर्व उपसरपंच दिलीपदास बैरागी सहित अन्य पर केस दर्ज हुआ था। यह मामला अभी कोर्ट में विचाराधीन है। अब बालाजी बचत योजना में लोगों का पैसा डूबने के बाद ज्यादातर लोग सतर्क हो गए हैं। कुछ अभी भी इसी में लगे हैं। सीएसपी अगम जैन ने बताया लोगों को रजिस्‍टर्ड एजेंसी या बैंक से नकद लेनदेन या बचत योजना में निवेश करना चाहिए।

बालाजी बचत योजना संचालकों की संपत्ति व बैंक ट्रांजेक्शन की जानकारी जुटाने में लगी पुलिस

जांचकर्ता एसआई रघुवीर जोशी ने बताया शुरुआत में गिरफ्तार आरोपी रणजीत देवड़ा व उसके भतीजे यश देवड़ा का रिमांड पूरा होने पर इन्हें शनिवार को कोर्ट में पेश किया। जहां से दोनों को जेल भेज दिया। मुख्य आरोपी राजेश देवड़ा एवं उसका एक बेटा हर्ष देवड़ा अभी पुलिस रिमांड पर है। दोनों से कलेक्शन डायरियों व लोगों से वसूले पैसों के बारे में पूछताछ की जा रही है। सिटी थाना प्रभारी अभिनव शुक्ला ने बताया आरोपियों से अब तक की पूछताछ में पता चला है कि ये लोग ज्यादातर राशि सट्टे में हार गए हैं। इनके पास नकद के रूप में राशि नहीं है।

X
Jaora News - mp news the money given in private hands instead of the bank in the wake of saving the income by saving the income
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना