घोषणा / अतिवृष्टि पीड़ितों को 15 अक्टूबर तक मिलना है मुआवजा, विभागों तक नहीं पहुंचे हैं आदेश

mp ratlam heavy rains impacted victims to get compensation by 15 October govt dept yet to receive orders
X
mp ratlam heavy rains impacted victims to get compensation by 15 October govt dept yet to receive orders

  • कर्जमाफी, प्याज प्रोत्साहन और गेहूं के बोनस की घोषणा जैसे हाल ना हो जाएं

दैनिक भास्कर

Sep 25, 2019, 10:46 AM IST

रतलाम. भारी बारिश से तबाह हुई किसानों की खरीफ फसल का मुआवजा देने की घोषणा सीएम कमलनाथ ने की है। सीएम की घोषणा के अनुसार जिन किसानों की फसलें बाढ़ से प्रभावित हुई हैं उन्हें आरबीसी 6(4) के प्रावधानों के तहत 8 हजार से लेकर 30 हजार रुपए तक का प्रति हेक्टेयर मुआवजा मिलना है। 15 अक्टूबर तक सभी किसानों को मुआवजा मिल जाएगा।

 

जिले की औसत बारिश 36.1 इंच है और अब तक 64 इंच बारिश हो चुकी है। भारी बारिश से खरीफ फसलों को सबसे ज्यादा नुकसान हुआ है। इसके बाद जिला प्रशासन सर्वे करा रहा है। प्रारंभिक सर्वे के अनुसार जिले में 1.43 लाख हेक्टेयर खरीफ की फसल बारिश से प्रभावित हुई है। इसमें 1.35 लाख हेक्टेयर अकेले सोयाबीन की फसल शामिल हैं। इनमें 30 से 50 फीसदी तक नुकसान है। जिले के आलोट, जावरा में सबसे ज्यादा नुकसान हुआ है और सोयाबीन की फसल चौपट हो गई है। ऐसे में जिले के किसानों को मुआवजा मिलना है।

 

15 अक्टूबर तक मुआवजा किसानों को देना है। अब तक आदेश नहीं आए हैं। ये अलग बात है कि इसके पहले भी सीएम कमलनाथ ने कर्जमाफी, प्याज प्रोत्साहन योजना और गेहूं के बोनस की घोषणा की थी। ये घोषणाएं आज तक पूरी नहीं हो पाई है। ऐसे में किसानों काे डर है कि ये घोषणा भी घोषणा बनकर ना रह जाए।

 

सीएम कमलनाथ ने किसानों के लिए की है ये घोषणा

  •  2 हेक्टेयर से कम भूमि वाले और 2 हेक्टेयर से अधिक भूमि वाले किसानों की सिंचित, असिंचित भूमि में 33 से 50 प्रतिशत फसल की क्षति होने पर 8 से 26 हजार रुपए प्रति हैक्टेयर मुआवजा दिया जाएगा।
  •  50 फीसदी से अधिक क्षति होने पर 16 हजार से लेकर 30 हजार रुपए प्रति हेक्टेयर का मुआवजा।
  •  जिन किसानों का पानी भर जाने के कारण गेहूं, चना, सरसों, मटर, मसूर, अलसी आदि के बीजों को भंडारण खराब हो गया है, ऐसे किसानों को रबी के लिए उच्च गुणवत्ता के बीज उपलब्ध करवाएंगे।

 

आदेश जुमला बनकर ना रह जाए
 भारतीय किसान संघ के जिलाध्यक्ष ललित पालीवाल बताते हैं कि आप ही बताओ कि सीएम ने किसानों से अब तक जो वादे किए वो सभी पूरे हुए हंै क्या। कर्जमाफी की घोषणा की लेकिन आज तक किसानों का कर्ज माफ नहीं हुआ। जून में किसानों ने प्याज प्रोत्साहन योजना में प्याज बेचा लेकिन राशि नहीं मिली। सीएम ने यह घोषणा तो कर दी है। लेकिन सीएम को यह भी ध्यान रखना चाहिए 15 अक्टूबर का समय दिया है तो इस समय तक वादा पूरा करे। कही ऐसा ना हो कि फिर किसानों को ज्ञापन लेकर पहुंचना पड़े।

 

नुकसानी एक नजर में

  •  जिले में 3.38 लाख हेक्टेयर में खरीफ फसल की बोवनी हुई थी।
  •  इसमें सबसे ज्यादा 2.28 लाख हेक्टेयर में सोयाबीन की बोवनी हुई है।
  •  1.35 लाख हेक्टेयर में सोयाबीन की नुकसान हुआ है।
  • 7 हजार हेक्टेयर की उड़द सहित अन्य फसलों को नुकसान हुआ है।

अभी आदेश नहीं आए हैं - भू अभिलेख अधीक्षक बीए बारस्कर ने बताया अभी सर्वे चल रहा है। इससे फाइनल आंकड़ा नहीं आया है। इससे हम ज्यादा जानकारी नहीं दे सकते हैं। मुआवजा के आदेश भी अभी नहीं आए हैं।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना