पुलिस का कारनामा / 15 साल की नाबालिग को 19 साल की बताया, एसपी ने दिए जांच के आदेश

Dainik Bhaskar

Jun 14, 2019, 12:04 PM IST



Police told the 15-year-old minor to 19-year-old
X
Police told the 15-year-old minor to 19-year-old

  • एक माह से लापता नाबालिग युवती को परिजन ने ढूंढा, मां ने की शिकायत 
  • महिला आरक्षक पर आरोप, नाबालिग की मां को डरा धमका कर सीएम हेल्पलाइन से शिकायत वापस उठवाई 

नीमच. जीरन में प्रेमी के साथ नाबालिग लड़की लापता होने और फिर मिलने के बाद बालिग बताकर प्रेमी के साथ भेजने के मामले में जीरन पुलिस पर गंभीर आरोप लगे है। पीड़िता की मां ने गुरुवार को एसपी को घटनाक्रम सुनाया और पुलिस पर प्रताड़ना के आरोप लगाए। 

 

जानकारी अनुसार जीरन से डेढ़ माह पूर्व 15 वर्षीय नाबालिग को युवक प्रेम जाल में फंसा ले गया और राजस्थान में फर्जी दस्तावेज तैयार कर शादी कर ली। लापता नाबालिग को परिजन ने ढूंढ निकाला और जीरन थाने पर युवक को लेकर पहुंचे। लेकिन पुलिस ने युवक के खिलाफ अपहरण का मामला दर्ज करने बजाए उसे बचाती नजर आई।

 

नाबालिग युवती की मां और उसके भाई ने फरियाद की लेकिन पुलिस ने उनकी नहीं सुनी। महिला आरक्षक से नाबालिग की मां को डरा धमकाकर मुख्यमंत्री हेल्पलाइन पर की गई शिकायत हटाने का दबाव बनाया। इसके बाद युवती की मां को शिकायत वापस ले ली।

 

मामले की जानकारी मिलते ही जीरन के मीडियाकर्मी जब थाने पहुंचे तो पुलिस ने मामले को सामान्य बताकर चले जाने को कहा। जिस पर पत्रकारों ने नाबालिग युवती और भगा कर ले जाने वाले युवक को छोड़ने का कारण पूछा तो पुलिस ने बताया कि युवती की उम्र 19 साल है और वो उसकी मर्जी से इस युवक के साथ रहना चाहती है। इसी दौरान नाबालिग युवती की मां पुलिस पर फर्जी दस्तावेज के आधार पर जबरन बालिग साबित करने का आरोप भी लगाया।

 

महिला ने कहा कि जो वास्तविक जन्म तारीख के कागज दिए उसे दबाकर आरोपी द्वारा मार्कशीट में फर्जीवाड़ा कर बदली गई तारीख को आधार मानकर 15 साल की नाबालिग लड़की को 19 साल की बालिग युवती घोषित कर आरोपी के साथ छोड़ दिया। पुलिस के द्वारा शासकीय कन्या माध्यमिक विद्यालय जीरन से स्कॉलर क्रमांक के आधार पर जन्म प्रमाणीकरण लिया फिर आरोपी द्वारा पेश किए जन्म प्रमाणीकरण और पुलिस द्वारा स्कूल से लिए गए प्रमाणीकरण की बिना जांच किए आरोपी को छोड़ दिया । वही दूसरी तरफ देखा जाए तो युवती के जन्म प्रमाणीकरण दस्तावेजों की पूर्ण जांच नहीं कर कानूनन शादी राजस्थान के छोटी सादड़ी में की। 


 

जीरन से एक लड़की लापता हुई थी तो पुलिस ने उसकी गुमशुदगी दर्ज की है। परिजन ने नाबालिग होने का प्रमाण दिया था तो पुलिस को उसकी पुष्टि करके सीधे अपहरण का केस दर्ज करना था। इसको लेकर लड़की की मां द्वारा पूरा घटनाक्रम अवगत कराया है। जिसकी जांच सीएसपी को सौंपी गई है। इसमें पुलिस की लापरवाही मिली तो दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

राकेश सगर, एसपी नीमच 

 

COMMENT