Hindi News »Madhya Pradesh »Ratlam» Rajiv Gandhi Decentralized Power, Shivraj Made Corruption - Sindhiya

राजीव गांधी ने सत्ता का विकेंद्रीकरण किया, शिवराज ने भ्रष्टाचार का कर दिया -सिंधिया

सभा से पहले सिंधिया ने धनुष-बाण चलाकर चुनावी शंखनाद किया

dainikbhaskar.com | Last Modified - Aug 12, 2018, 12:49 PM IST

राजीव गांधी ने सत्ता का विकेंद्रीकरण किया, शिवराज ने भ्रष्टाचार का कर दिया -सिंधिया

जावरा. मप्र की शिवराज सरकार ने भ्रष्टाचार को बढ़ावा दिया है। खसरा नकल निकालना हो, उपज तुलवाना हो या कोई भी काम हो, बिना भ्रष्टाचार के कुछ नहीं होता। राजीव गांधी ने सत्ता का विकेंद्रीकरण किया था लेकिन शिवराज सरकार ने भ्रष्टाचार का विकेंद्रीकरण कर दिया। नारा दिया 'चाहिए परमिशन तो दे दो कमिशन।' जितना प्यारा किसान को खेत है, उतना प्यारा भाजपा को रेत है। सीएम ने दिन में नर्मदा भ्रमण किया और रात में खनन। इनका प्रयास है 'भाजपा के शासन में, रेत भी मिलेगी राशन में।' यह बात मप्र कांग्रेस चुनाव अभियान समिति अध्यक्ष एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कही। पीपलीबाजार में हुई परिवर्तन सभा में आधे घंटे तक सिंधिया ने शिवराज सरकार को आड़े हाथ लिया। कहा कांग्रेस की सरकार आते ही रेत के सारे ठेके निरस्त करेंगे, जांच बैठाएंगे। मौजूदा सरकार में युवा पकौड़े तल रहे और बाबा मंत्री बन गए। बलात्कार के मामले में मप्र देश की बलात्कार राजधानी बन गया।


मंदसौर में दो महीने पहले हुई सभा में राहुल गांधी द्वारा की गई कर्ज माफी की घोषणा दोहराते हुए सिंधिया ने कहा कांग्रेस की सरकार बनने पर 10 दिन में सभी किसानों का कर्ज माफ करेंगे। सिंधिया बोले शिवराज अमेरिका से अच्छी सड़कों की बात करते हैं, उन्हें क्या मालुम। वे तो उड़न खटोले से आते-जाते हैं। 20 हजार फीट ऊंचाई से तो बड़े गड्ढे भी नजर नहीं आते। कांग्रेस की सरकार में जब पेट्रोल-डीजल 60 रुपए था तो शिवराज साइकिल चलाने लगे थे, आज 80 रुपए हो गया तो कहां गई वो साइकिल।

मंदसौर गोलीकांड का जिक्र करते हुए सिंधिया ने कहा 6 जून का काला दिन जिंदगीभर नहीं भूल सकते। जिस शिवराज ने जनता की रक्षा की कसमें खाई थी, उन्होंने किसानों को छलनी कर दिया। हिंदुत्व की बात करने वाले ये शिवराज किसानों को गोली मारने के बाद उनसे माफी मांगने की बजाय उनके परिजनों को ठूंस-ठूंस कर भोपाल ले गए ताकि उनके हाथों चांदी के गिलास में नारियल पानी पीकर उपवास तोड़ सकें। धिक्कार है ऐसे मुख्यमंत्री पर। सिंधिया ने कार्यकर्ताओं को संकल्प दिलाया और कहा इस बार कांग्रेस का बटन दबाकर भाजपा को 700 वोल्ट का झटका देना होगा।

कालूखेड़ा ने बुरे वक्त में साथ दिया
ज्योतिरादित्य सिंधिया ने पूर्व कृषि मंत्री रहे स्वर्गीय महेंद्रसिंह कालूखेड़ा को याद किया। भावुक होकर बोले कि जिस व्यक्ति ने 2 साल 2 महीने की उम्र से मुझे गोद में रखा। मेरे ऊपर दु:ख का पहाड़ टूटा था। पिताजी छिन गए। ऐसे बुरे वक्त में जिन्होंने मेरा हाथ पकड़कर रास्ता दिखाया। जावरा से मेरा केवल राजनीतिक नहीं बल्कि पारिवारिक और खून का संबंध है।


पीपलीबाजार में परिवर्तन सभा में सिंधिया ने कहा कालूखेड़ा ने अपना जीवन जनता की सेवा में लगा दिया। परिवार से ज्यादा जनता को महत्व दिया। इस सभा की सबसे खास बात यह रही कि सालों बाद सारे नेता एक मंच पर दिखे। यहां तक की कांग्रेस नेता के.के. सिंह कालूखेड़ा, डॉ. हमीरसिंह राठौर, पूर्व गृहमंत्री भारतसिंह, जनपद अध्यक्ष रामविलास धाकड़, मोहम्मद युसूफ कड़पा ने अपने-अपने संबोधन में एक-दूसरे की तारीफ तक की। ज्योतिरादित्य सिंधिया ने भी संबोधन के पहले सहकारिता नेता कीर्तिशरण सिंह से इन सभी नेताओं के नाम पर्ची पर लिखवाए और भाषण में उल्लेख किया।

संगठन की सख्ती के बाद 6 दिन से सारे नेताओं को एक मंच पर लाने का प्रयास कर रहे पूर्व विधायक तुलसीराम सिलावट, कांग्रेस जिलाध्यक्ष प्रभु राठौर ने मंच पर भी सबको साधने का प्रयास किया। क्षमता से अधिक नेताओं के मंच पर चढ़ने के बावजूद पटरी बैठाई। समर्थकों के साथ पहुंचे जिला पंचायत उपाध्यक्ष डी.पी. धाकड़, पिपलौदा जनपद उपाध्यक्ष श्यामसिंह देवड़ा, एनएसयूआई जिलाध्यक्ष पप्पू चारोड़िया, पार्षद दिनेश सैनी, विधायक प्रतिनिधि नरेंद्रसिंह चिकलाना आदि ने सूत की माला पहनाकर सिंधिया का स्वागत किया। सिंधिया ने सभी नेताओं से वन-टू-वन बात की। पूर्व सांसद मीनाक्षी नटराजन समेत कई नेता मौजूद थे।


यह जो चर्चा में रहा

  • टिकट की चाह में सारे नेता एक मंच पर आए। सिंधिया का स्वागत करने की होड़ में कई नेता गिरते-गिरते बचे।
  • हर नेता समर्थकों के साथ नारे लगाते हुए मंच तक पहुंचे और अपनी उपस्थिति दर्ज की।
  • सिंधिया ने फूलमाला नहीं पहनी, समर्थकों ने इतनी सूत की माला पहनाई कि गला भर गया।


कार्यकर्ताओं से कहा कि चलो दूर हटो
ढोढर।
सिंधिया शनिवार दोपहर मंदसौर से जावरा जाते वक्त ढोढर में ज्यादा नहीं रुके। हंगामा चौराहे पर सिंधिया एक मिनट के लिए मंच पर चढ़े। मंच से उतरते वक्त वे कार्यकर्ताओं से रास्ता बनाने के लिए बोले कि चलो दूर हटो। हंगामा चौक पर दोपहर 1.40 बजे सिंधिया आए। पलभर के लिए बरखेड़ी की 74 वर्षीय हकीमा बी से बात की। उनकी समस्याएं जानीं। संदीप पोरवाल ने पगड़ी पहनाकर स्वागत किया। पूर्व विधायक प्रतिनिधि नरेंद्रसिंह चिकलाना, जनपद प्रतिनिधि दिलीपसिंह चंद्रावत ने चलते वाहन में सिंधिया को ज्ञापन दिया। चिकलाना फंटे पर कांग्रेस नेता हितेश जड़ोतिया ने स्वागत मंच बनाया था लेकिन वहां भी नहीं रुके । ढोढर के विजय चौधरी ने कहा सिंधिया मायूस कर गए। नरेंद्रसिंह चिकलाना ने कहा भीड़ अधिक होने से ऐसी स्थिति बनी।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Ratlam

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×