--Advertisement--

मध्यप्रदेश चुनाव / अमिट स्याही से हाईस्कूल की प्राचार्य की अंगुलियों में छाले पड़े, काम में दिक्कत



काटजू स्कूल प्राचार्य रचना शर्मा के हाथ की अंगुलियों में छाले पड़ गए। काटजू स्कूल प्राचार्य रचना शर्मा के हाथ की अंगुलियों में छाले पड़ गए।
X
काटजू स्कूल प्राचार्य रचना शर्मा के हाथ की अंगुलियों में छाले पड़ गए।काटजू स्कूल प्राचार्य रचना शर्मा के हाथ की अंगुलियों में छाले पड़ गए।

  • स्याही से रिएक्शन, रिटर्निंग ऑफिसर बोले- आयोग से लेंगे मार्गदर्शन

Dainik Bhaskar

Dec 08, 2018, 11:29 AM IST

जावरा/रतलाम. विधानसभा चुनाव में मतदान के दौरान वोटरों की अंगुली पर अमिट स्याही लगाने वाले सहायक पीठासीन अधिकारी की अंगुलियों में रि-एक्शन का दूसरा मामला सामने आया है। नगर के काटजू हाईस्कूल में पदस्थ प्राचार्य रचना शर्मा को अमिट स्याही से हाथ की तीन अंगुलियों में रिएक्शन से परेशानी झेलना पड़ रही है।

 

काटजू हाईस्कूल प्राचार्य रचना शर्मा की ड्यूटी बामनखेड़ी बूथ पर सहायक पीठासीन अधिकारी (पी-2) में थी। उन्होंने बताया कि मतदान के दौरान मतदाताओं की अंगुली पर अमिट स्याही लगाने के लिए जो ब्रश दिया, वह छोटा था। ब्रश से डंडी निकल-निकल कर जा रही थी। सावधानी बरतने के बावजूद अंगुलियों पर अमिट स्याही लग गई।

रिएक्शन के कारण छाले पड़ गए और जलन होने लगी थी। मैंने पीठासीन अधिकारी को अवगत करवाया था मतदान से रफ्तार के साथ स्याही लगाना मजबूरी थी। काम तो कर दिया लेकिन अंगुलियों में छाले से इतनी ज्यादा परेशान हूं कि ना ऑफिस कार्य सही से हो रहा है और ना घरेलू कार्य। खाना खाने में दिक्कत हो रही है। मैंने डॉ. आयुष शर्मा से ट्रीटमेंट शुरू करवाया, लेकिन वे बता रहे कि नई स्कीन आ रही है। ठीक होने में हफ्ताभर लग सकता है। आगे फिर लोकसभा चुनाव आ रहे हैं। मतदान दलों को स्याही लगाने के लिए सही ब्रश या हाथ में पहनने के लिए ग्लब्स देना चाहिए।

एक दिन पहले गुरुवार को सरसी के सहायक अध्यापक मनोहरसिंह राठौर के हाथ की अंगुलियों में अमिट स्याही से रिएक्शन का मामला सामने आ चुका है। उनकी ड्यूटी भी पी-2 के रूप में सैलाना विधानसभा क्षेत्र के खेरदा बूथ पर थी। इससे स्पष्ट है कि और भी सहायक पीठासीन अधिकारियों को ऐसी परेशानी हुई होगी।

अमिट स्याही में केमिकल रहता है। इससे रिएक्शन संभव है, इसलिए सावधानीपूर्वक स्याही लगाना जरूरी है लेकिन यदि ब्रश छोटा या कमजोर था तो इसे लेकर चुनाव आयोग को अवगत करवाएंगे। भविष्य की व्यवस्था के लिए मार्गदर्शन मांगा जाएगा ताकि ऐसी परेशानी ना हो। एम.एल. आर्य, रिटर्निंग ऑफिसर जावरा विस क्षेत्र

Bhaskar Whatsapp
Click to listen..