• Home
  • Mp
  • Ratlam
  • scst act protesters call bharat bandh ratlam news and update
--Advertisement--

रतलाम, मंदसौर, नीमच में दुकान, पेट्रोल पंप बंद, धार में मिष्ठान भंडार बंद करवाने के दौरान बनी विवाद की स्थिति

बंद को 35 से ज्यादा संगठनों ने समर्थन दिया है, बस स्टैंड सहित शहर में पसरा सन्नाटा

Danik Bhaskar | Sep 06, 2018, 11:06 AM IST

इंदौर. एससी-एसटी एक्ट में संशोधन के विरोध में सवर्ण वर्ग के आंदोलन ने तूल पकड़ लिया है। गुरुवार को देशव्यापी बंद के ऐलान के बीच मप्र के 35 से अधिक जिलों में पुलिस को हाईअलर्ट कर दिया गया है। रतलाम, धार, झाबुआ, आलीराजपुर, नीमच और मंदसौर में बंद का व्यापक असर देखने को मिला है। धार में तो दुकान बंद करवाने को लेकर विवाद की स्थित भी बनी, जिसे पुलिस ने शांत करवाया। हालात को देखते हुए प्रदेशभर में धारा 144 लागू कर दी गई है।


रतलाम में धारा 144 लागू

करणी सेना, पेट्रोल पंप एसोसिएशन, निजी स्कूल संघ सहित विभिन्न संगठनों ने बंद को समर्थन दिया है। रतलाम में कलेक्टर राकेश कुमार श्रीवास्तव ने जिले में 5 सितंबर से 6 दिसंबर तक के लिए धारा 144 लागू कर दी है। इस दौरान आमसभा, जुलूस, धरना-प्रदर्शन, रैली प्रशासन की अनुमति के बगैर निकालना प्रतिबंधित है।

जीतू पटवारी को काले झंडे दिखाए

कांग्रेस की जनजागरण यात्रा लेकर जिले में पहुंचे कांग्रेस प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष जीतू पटवारी के काफिले को मनासा में सपाक्स व करणी सेना ने घेर लिया। उनसे एक्ट का विरोध नहीं करने पर सवाल किया। वे इसका जवाब नहीं दे सके तो कार्यकर्ताओं ने पटवारी हाय-हाय के नारे लगाए। इसके बाद पटवारी यात्रा लेकर कुकड़ेश्वर पहुंचे और सभा को संबोधित किया।

धार में दुकान बंद करने को लेकर विवाद

धार में बंद का व्यापाक असर देखा जा रहा है। शहर से बसों का संचालन बंद है, वहीं सभी प्रकार की दुकानें बंद रखी गई हैं। सुबह कार्यकर्ता रैली के रूप में शहर में निकले और जो दुकानें खुली मिलीं उन्हें बंद करने का आह्वान किया। इसी दौरान त्रिमूर्ति चौराहा स्थित एक मिष्ठान भंडार खुला मिला, जिसे बंद करवाने के दौरान व्यापारी और कार्यकर्ताओं में विवाद हो गया। मौके पर मौजूद पुलिस ने मामले को शांत करवाते हुए दुकान बंद करवाया।

एससी-एसटी एक्ट सवर्ण समाज के लिए घातक

भाजपा से जुड़े अंत्योदय समिति के जिला सदस्य बाबूलाल राठी ने बताया एससी-एसटी एक्ट सवर्ण समाज के लिए घातक है। किसी ने छोटी से बात पर रिपोर्ट लिखवा दी तो बिना जांच के सवर्ण समाज के लोगों को जेल जाना पड़ेगा। मैं भाजपा से जुड़ा हूं, लेकिन इसमें राजनीति की कोई बात नहीं है। एक्ट के जरिए जो गलत हो रहा है उसका विरोध किया जा रहा है।


रतलाम में 235 कैमरों से नजर

बंद से निपटने के लिए भोपाल व जावरा बटालियन से 350 का बल मंगवाया गया है। शहर के 40 पाइंट पर एक-चार का बल लगाया गया है। वहीं 60 गाड़ियों ने से पेट्रोलिंग की जा रही है। शहर में विभिन्न चौराहों पर 235 सीसीटीवी कैमरे लगे हैं। इनके जरिए कंट्रोल रूम से निगरानी की जा रही। एएसपी प्रदीप शर्मा ने बताया 50 पुलिसकर्मियों को वर्दी पर लगाने के लिए भी कैमरे दिए हैं।

इन संगठनों ने दिया समर्थन

सपाक्स संयोजक पुष्पेंद्र जोशी व करणी सेना के प्रदेश संयोजक यादवेंद्र सिंह तोमर ने बताया बंद को श्री चारभुजानाथ राजपूत ट्रस्ट, सर्वब्राह्मण समाज, श्री राजपूत नवयुवक मंडल, विश्व ब्राह्मण संगठन, अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा, श्री राष्ट्रीय क्षत्रिय सेना, श्री युवा राजपूत सेना, परशुराम महासभा, रतलाम जिला व्यापारी महासंघ, रतलाम खली कपास्या एसोसिएशन, रतलाम सराफा एसोसिएशन, द ग्रीन सीड्स एसोसिएशन मर्चेंट, स्टेशन रोड व्यापारी संघ, माहेश्वरी समाज, जैन समाज, खंडेलवाल वैश्य पंचायत, टांक समाज, सर्व ब्राह्मण समाज ने बंद का समर्थन किया है।