ज्ञापन / मध्याह्न भोजन में अंडा देने का निर्णय धर्म के खिलाफ, निर्णय वापस लेने की मांग की

The decision to lay eggs in the mid-day meal is against religion, the decision to withdraw
X
The decision to lay eggs in the mid-day meal is against religion, the decision to withdraw

  • भोज शोध संस्थान ने कलेक्टर को सौंपा ज्ञापन
  • प्रदेश में बड़ी संख्या में लोग शाकाहारी हैं

दैनिक भास्कर

Dec 04, 2019, 11:06 AM IST
धार. मध्याह्न भोजन में अंडा देने का विरोध भोज शोध संस्थान ने किया है। मंगलवार को संस्था ने मुख्यमंत्री के नाम कलेक्टर श्रीकांत बनोठ को ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन के माध्यम से समिति के डॉ. दीपेंद्र शर्मा ने बताया महात्मा गांधी के आदर्शाें पर चलने वाली सरकार का निर्णय चौंकाने वाला है।

प्रदेश में बड़ी संख्या में लोग शाकाहारी हैं। इसके बावजूद सरकार का मध्याह्न भोजन में अंडा देने का निर्णय धर्म के खिलाफ है। भारतीय संविधान के मौलिक अधिकारों के अनुच्छेद 25-28 धर्म की स्वतंत्रता के अधिकार में धर्म पालन के साथ ही धर्म के अपमान का अधिकार नहीं। इस आदेश से धार्मिक भावना आहत होती है, धर्म का भी अपमान होता है। इसलिए सरकार मध्याह्न भोजन में अंडे देने का निर्णय वापस ले। मुख्यमंत्री के नाम कलेक्टर बनोठ को ज्ञापन देने वालों में विनोद चौहान, सुनील शर्मा, पराग भौसले, निशा शर्मा, अतुल कालभंवर, रितेश पांडे और संस्थान के डॉ. दीपेंद्र शर्मा उपस्थित थे।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना