खुलासा / दो भाइयों ने मारपीट का बदला लेने की खाई थी कसम, दोस्त के साथ मिलकर दिनेश को मार डाला

Dainik Bhaskar

Feb 13, 2019, 11:40 AM IST


पुलिस गिरफ्त में आरोपी। पुलिस गिरफ्त में आरोपी।
X
पुलिस गिरफ्त में आरोपी।पुलिस गिरफ्त में आरोपी।
  • comment

  • एक साल पहले बर्डिया में बांछड़ा डेरे में हुआ था विवाद
  • नाबालिग दोस्त व मुख्य आरोपी दिनेश की स्कूटी पर बैठकर पालना तलाई पहुंचे, खेत में कर दी हत्या

मनासा. बर्डिया निवासी 18 वर्षीय छात्र दिनेश के घर से लापता हाेने के चार दिन बाद कुएं से लाश मिलने मामले का पुलिस ने 24 घंटे में खुलासा कर दिया। दिनेश की उसी की कक्षा में पढ़ने वाले छात्र ने दाे दाेस्ताें के साथ मिलकर 7 फरवरी की रात में ही हत्या कर शव कुएं में फैंक दिया था। इस मामले में पुलिस ने नाबालिग सहित तीन लोगों को गिरफ्तार किया। हत्या के पीछे एक साल पहले बर्डिया स्थित बाछड़ समाज के डेरे में हुए विवाद था। हत्या में मुख्य दोनों आरोपियों के साथ डेरे में मारपीट हुई थी। उस समय दिनेश भी वहीं पर मौजूद था। तभी दोनों युवकों ने बदला लेने की कसम खा ली थी।

 

बर्डिया निवासी बहन के यहां रहने वाले कक्षा 10वीं का छात्र दिनेश पिता नाथूलाल कंजर शाम 7 बजे घर पर दाेस्त के यहां से नाेट्स लेकर आने का कहकर निकाला था। रात तक वापस नहीं लाैटने पर परिजन ने रिपाेर्ट दर्ज करवाई थी। कुछ देर बाद छात्र के मोबाइल से ही जीजा के पास 20 लाख रुपए की फिरौती का कॉल आया था। इसकी परिजन ने पुलिस को सूचना दे दी थी। लेकिन इस मामले के गंभीरता से नहीं लिया और चार दिन बाद सोमवार दोपहर में दिनेश की लाश रामपुरा रोड स्थित कुएं में मिली। इस मामले में एसपी राकेश सगर के निर्देश पर पुलिस ने जांच की तथा परिजन द्वारा बताए दोस्त व छात्राओं से पूछताछ की तो छात्र की हत्या का खुलासा हुआ। इसमें उसी की कक्षा का साथी हत्या में शामिल है। जिसे भी गिरफ्तार कर लिया।


पूछताछ में टूट गया साथी छात्र, उगल दी कहानी : पुलिस ने इस मामले में दिनेश की कक्षा में पढ़ने वाले नाबालिग छात्र काे थाने पर बुलाकर मंगलवार काे पूछताछ की ताे वह कुछ देर में ही टूट गया अाैर पूरा घटनाक्रम बता दिया। एसडीअाेपी अारसी भाकर के अनुसार नाबालिग छात्र दिनेश काे फोन करके नोट्स देने के लिए बुलाया था। दिनेश बहन की स्कूटी लेकर दोस्त से मिलने काछी मोहल्ला पहुंचा। जहां उसका दोस्त व कमल पिता तुलसीराम कुश्वाह 23 वर्ष उसे पालना तलाई के खेत में ले गए। जहां उसके साथ मारपीट कर हत्या कर दी। इसके बाद कमल ने छाेटे भाई बबलू को बुलाया। बबलू खेत पर पहुंचा तो दोनों ने उसकी हत्या करना बताया तथा स्कूटी को पास के तालाब में डालने के लिए भेज दिया। कमल व नाबालिग ने मृतक का मुंह व पैर साड़ी से बांधे तथा बबलू के वापस आने पर वह दिनेश का शव उठाकर सत्यनारायण पिता मोहनलाल के कुएं में डालकर आया और तीनों रात में घर लौट आए।


दोनों सगे भाइयों को बाछड़ा के डेरे में विवाद होने पर लोगों ने पीटा था : दिनेश की हत्या में शामिल कमल व बबलू को पुलिस ने मंगलवार दोपहर में उनके घर से गिरफ्तार किया। पूछताछ में कमल ने बताया कि हम एक साल पहले बर्डिया डेरों में गए थे। वहां कुछ लोगों ने हमारे साथ मारपीट की थी। इसमें दिनेश के रिश्तेदार भी शामिल थे। तभी हमने कसम खा ली थी कि इसका बदला जरूर लेंगे। 7 फरवरी को दिनेश के साथ पढ़ने वाले हमारे परिचित नाबालिग छात्र ने बताया दिनेश को नोट्स की जरूरत है। हमने कहा दिनेश को नोट्स देने के लिए बुला लें। उसने दिनेश फोन करके बुलाया और वारदात को अंजाम दे दिया।


कमल ने किया फिरौती के लिए कॉल : पूछताछ में तीनों आरोपियों ने बताया कि मृतक दिनेश के मोबाइल से उसकी बहन ज्योति को 20 लाख रुपए की फिरौती के लिए बबलू ने कॉल किया था। रुपए नहीं मिलने पर दिनेश की हत्या करने की धमकी दी थी।
 
तालाब से बरामद की स्कूटी : पालना तलाई के खेत में दिनेश की हत्या के बाद स्कूटी पास के तालाब में फैंक दी थी। आरोपियों ने पूछताछ में इसकी जानकारी दी। पुलिस टीम ने दोपहर में पहुंचकर तालाब से स्कूटी निकालकर बरामद की। कमल ने बताया कि जब दिनेश बेसुध हो गया था तो छोटे भाई बबलू को बुलाया तथा दिनेश की जेब से स्कूटी की चाबी निकाली और वेयर हाऊस के पास तालाब में बबलू स्कूटी फेंक कर आ गया था।
 

60 लाख में बस लाने की तैयारी में था कमल : हत्या का मुख्य आरोपी कमल पेशे से बस कंडक्टर है। वह मोहल्ले को लोगों को कभी नीमच की निजी बैंक में काम करने वाला तो कभी बस में कंडक्टरी करना बताता था। उसने एक महीने पहले मोहल्ले में लोगों से कहा था कि मेरे पास 60 लाख रुपए हैं जल्द ही बस खरीद कर ला रहा हूं।


मनासा पुलिस की कार्रवाई लचर रही :  एसपी राकेश सगर मंगलवार सुबह करीब 11 बजे मनासा थाने पहुंचे। उन्होंने विद्यार्थियों ने पूछताछ और घटनास्थल को देखा। एसपी ने कहा पुरानी रंजिश के चलते दिनेश की हत्या की गई है। हत्या के मामले को छुपाने के लिए आरोपियों ने फिरौती की कहानी गढ़ी थाी। मामले में मनासा पुलिस की कार्रवाई लचर रही है, त्वरित कार्रवाई होती तो दिनेश की जान बच जाती।


विद्यार्थियों से पूछताछ में खुला हत्या का राज : दिनेश की हत्या के मामले में पुलिस ने मंगलवार सुबह उसकी कक्षा व कोचिंग पर पढ़ने वाले 6 दाेस्ताें काे पूछताछ के लिए बुलाया। बारी-बारी से विद्यार्थियों ने पूछताछ की गई। इस दौरान एक नाबालिग छात्र जो दिनेश के साथ पढ़ता था उसने दिनेश की हत्या करना स्वीकार कर लिया।
 

COMMENT
Astrology
Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन